1,44,000 के माथे पर मुहर क्या है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1,44,000 के माथे पर मुहर क्या है?

प्रकाशितवाक्य 7:1-4; 14:1. इस मुहर के कुछ ही समय बाद, बड़े क्लेश और सात अंतिम विपत्तियाँ न बचाए गए संसार पर उँड़ेली जाएंगी। बचाए और खोए हुए दोनों के माथे/हाथों में किसी न किसी तरह का निशान या मुहर होगी – एक उद्धार के लिए और दूसरा विनाश के लिए।

यहेजकेल के दर्शन में, हम पढ़ते हैं कि बचाए गए लोगों को चिन्हित किया गया है। जो मानक उन्हें यह चिन्ह प्राप्त करने की अनुमति देता है वह यह है कि वे पाप के लिए शोक मना रहे हैं और पवित्रता के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। “और यहोवा ने उस से कहा, इस यरूशलेम नगर के भीतर इधर उधर जा कर जितने मनुष्य उन सब घृणित कामों के कारण जो उस में किए जाते हैं, सांसें भरते और दु:ख के मारे चिल्लाते हैं, उनके माथों पर चिन्ह कर दे” ( यहेजकेल 9:4)। केवल वे ही जिनके पास यह विशेष चिन्ह होता है, वे विनाश की भयानक विपत्तियों से बच जाते हैं जो उसके बाद आती हैं।

तो यह कौन सी मुहर है जो 1,44,000 लोगों के माथे पर पाई जाती है? बाइबल हमें बताती है कि यह पवित्र आत्मा है: “जिस पर तुम ने विश्वास किया, उस प्रतिज्ञा के पवित्र आत्मा से तुम पर छाप दी गई” (इफिसियों 1:13)। “और परमेश्वर के पवित्र आत्मा को शोकित न करो, जिस से तुम पर छुटकारे के दिन के लिये छाप दी गई है” (इफिसियों 4:30)।

पवित्रशास्त्र यह भी प्रकट करता है कि परमेश्वर की मुहर में उसकी व्यवस्था को हृदय में भी लिखा जाना शामिल होगा (इब्रानियों 10:16)। यशायाह कहता है, “चितौनी का पत्र बन्द कर दो, मेरे चेलों के बीच शिक्षा पर छाप लगा दो”  (यशायाह 8:16)। “मूसा ने एक ही बात कही, फिर यह तुम्हारे लिये तुम्हारे हाथ में एक चिन्ह होगा, और तुम्हारी आंखों के साम्हने स्मरण कराने वाली वस्तु ठहरे; जिस से यहोवा की व्यवस्था तुम्हारे मुंह पर रहे: क्योंकि यहोवा ने तुम्हें अपने बलवन्त हाथों से मिस्र से निकाला है” (निर्गमन 13:9; व्यवस्थाविवरण 6: 8; 11:18)। हृदय में परमेश्वर की व्यवस्था का होना अंत समय के लोगों की विशेषता होगी जिनकी पहचान उन लोगों के रूप में की जाएगी जो परमेश्वर की आज्ञाओं को मानते हैं (प्रकाशितवाक्य 12:17; 14:12; 22:14)।

अंत में अच्छाई और बुराई की ताकतों के बीच विवाद का मुद्दा सातवें दिन सब्त को लेकर होगा क्योंकि अन्य सभी आज्ञाओं को खुले तौर पर स्वीकार किया जाता है। मसीही समय की शुरुआत में लोगों ने सातवें दिन के सब्त को अलग रखा और इसकी गंभीरता को रविवार के पालन में स्थानांतरित कर दिया और इस प्रकार परमेश्वर की स्पष्ट आज्ञा का उल्लंघन किया (निर्गमन 20:8-11)। लेकिन संकट तब बढ़ जाएगा जब प्रतीकात्मक बाबुल राज्य पर नागरिक कानून द्वारा रविवार के पालन को लागू करने के लिए प्रबल होगा और सभी असंतुष्टों को दंडित करने का प्रयास करेगा (प्रका०वा० 3:12-17)। परन्तु विश्वासयोग्य परमेश्वर की आज्ञाओं को मानेंगे, उसकी मुहर प्राप्त करेंगे (प्रकाशितवाक्य 14:12), और अंतिम विपत्तियों से नुकसान नहीं होगा (प्रकाशितवाक्य 7:1-4)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: