शुरुआती कलिसिया कैसे भ्रष्ट हो गई?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

यीशु और उसके प्रेरित पतरस ने प्रकाशीतवाक्य अध्याय 2 और 2 पतरस अध्याय 2 में प्रारंभिक कलिसिया में आने वाले भ्रष्टाचार की चेतावनी दी।

“और जिस प्रकार उन लोगों में झूठे भविष्यद्वक्ता थे उसी प्रकार तुम में भी झूठे उपदेशक होंगे, जो नाश करने वाले पाखण्ड का उद्घाटन छिप छिपकर करेंगे और उस स्वामी का जिस ने उन्हें मोल लिया है इन्कार करेंगे और अपने आप को शीघ्र विनाश में डाल देंगे” (2 पतरस 2:1)।

यीशु ने स्वयं कलिसिया के प्रत्येक चरण में प्रकाशितवाक्य 2 और 3 में प्रदर्शित होने से ठीक पहले उसकी कलिसिया के हर चरण में चेतावनी और घृणित के संदेश दिए थे। वह कलिसिया के इतिहास के प्रत्येक चरण का प्रतिनिधित्व करने के लिए नाम से सात कलिसियाओं की सूची देता है।

पहली कलिसिया में वह संबोधित करते हैं, वे कहते हैं, “मै तेरे काम, और परिश्रम, और तेरा धीरज जानता हूं; और यह भी, कि तू बुरे लोगों को तो देख नहीं सकता; और जो अपने आप को प्रेरित कहते हैं, और हैं नहीं, उन्हें तू ने परख कर झूठा पाया” (प्रकाशितवाक्य 2: 2)। यह कहा जाता है कि “पर हां तुझ में यह बात तो है, कि तू नीकुलइयों के कामों से घृणा करता है, जिन से मैं भी घृणा करता हूं” (पद 6 )। ध्यान दें कि यह नहीं कहता है कि वे या यीशु इन लोगों से नफरत करते हैं, बस उनके कर्मों या कार्यों से। यह तब था जब कलिसिया पहली बार शुरू हुई, वे कलिसिया में आने वाले चौकस झूठ थे और झूठे सिद्धांतों को मानने के लिए उनको दोषी ठहराया गया।

यीशु ने अपने इतिहास में बाद के समय में उसकी कलिसिया को संबोधित किया, “वैसे ही तेरे यहां कितने तो ऐसे हैं, जो नीकुलइयों की शिक्षा को मानते हैं। जिन से मैं घृणा करता हूं” (प्रकाशितवाक्य 2:15)। फिर से हमें नीकुलइयों के नाम को दिखाई देते हैं, केवल इस बार ऐसा प्रतीत होता है कि कलिसिया इस सिद्धांत को कलिसिया में अनुमति दे रहा है। अगला सवाल यह है कि नीकुलइ कौन हैं और उनका सिद्धांत क्या है?

बाइबल के समीक्षकों के अनुसार, नीकुलइयों का सिद्धांत मूल रूप से यह था कि उन्होंने परमेश्वर की कृपा का दुरुपयोग किया और उपदेश दिया कि वे जो चाहें कर सकते थे और अभी भी खुद को मसीही मानते हैं।

यह पिछली आयत में अध्याय के संदर्भ में, “पर मुझे तेरे विरूद्ध कुछ बातें कहनी हैं, क्योंकि तेरे यहां कितने तो ऐसे हैं, जो बिलाम की शिक्षा को मानते हैं, जिस ने बालाक को इस्त्राएलियों के आगे ठोकर का कारण रखना सिखाया, कि वे मूरतों के बलिदान खाएं, और व्यभिचार करें” (प्रकाशितवाक्य 2:14)।

प्रेरित पतरस ने आरंभिक कलिसिया में इस बात की चेतावनी दी थी। “वे सीधे मार्ग को छोड़कर भटक गए हैं, और बओर के पुत्र बिलाम के मार्ग पर हो लिए हैं; जिस ने अधर्म की मजदूरी को प्रिय जाना” (2 पतरस 2:15)।

जाहिर है, कलिसिया में भ्रष्टाचार तुच्छ अनुग्रह के सिद्धांत में लाने वालों से आया था। यह एक बाइबिल के खिलाफ सिद्धांत है जो कहता है कि वे जानबूझकर पाप जारी रख सकते हैं और फिर भी अनुग्रह द्वारा बचाए जा सकते हैं। परमेश्‍वर ऐसी चीज़ को मना करता है (रोमियों 6: 1-2)। प्रभाव के इन प्रारंभिक भ्रष्ट लोगों ने उसकी व्यवस्था का पालन किए बिना लोगों से ईश्वर का आशीर्वाद चाहने की स्वार्थी इच्छाओं को अपील करके ऐसा किया। “वे व्यर्थ घमण्ड की बातें कर करके लुचपन के कामों के द्वारा, उन लोगों को शारीरिक अभिलाषाओं में फंसा लेते हैं, जो भटके हुओं में से अभी निकल ही रहे हैं। वे उन्हें स्वतंत्र होने की प्रतिज्ञा तो देते हैं, पर आप ही सड़ाहट के दास हैं, क्योंकि जो व्यक्ति जिस से हार गया है, वह उसका दास बन जाता है” (2 पतरस 2:18-19)।

परमेश्‍वर की स्तुति करो कि हमारे पास वादा है कि जब मसीह आएगा, तो वह “सभी चीजों को नया बना देगा” और फिर से किसी भी और छल की अनुमति नहीं देगा (प्रकाशितवाक्य 21: 5, 27)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: