Answered by: BibleAsk Hindi

Date:

यदि एक निश्चित कार्य एक पाप है तो मैं कैसे सुनिश्चित हो सकता हूं?

बाइबल स्पष्ट रूप से पाप को बताती है। दस आज्ञा (निर्गमन 20) में परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था रेखांकित करता है और परिभाषित करता है कि पाप क्या है (1 यूहन्ना 3: 4)। “तो हम क्या कहें? क्या व्यवस्था पाप है? कदापि नहीं! वरन बिना व्यवस्था के मैं पाप को नहीं पहिचानता: व्यवस्था यदि न कहती, कि लालच मत कर तो मैं लालच को न जानता” (रोमियों 7: 7)।

और दस आज्ञाओं को दो आज्ञाओं में विभाजित किया गया है जो कि ईश्वर से प्रेम करना है और मनुष्य से प्रेम करना है (मत्ती 22: 37-40)। पाप केवल किसी व्यक्ति की देखी गई क्रियाओं से ही नहीं बल्कि दिल के इरादों से भी होता है (मत्ती 15:19)। निम्नलिखित पद पापों में से कुछ को वर्गीकृत करने में मदद करते हैं:

“छ: वस्तुओं से यहोवा बैर रखता है, वरन सात हैं जिन से उस को घृणा है अर्थात घमण्ड से चढ़ी हुई आंखें, झूठ बोलने वाली जीभ, और निर्दोष का लोहू बहाने वाले हाथ, अनर्थ कल्पना गढ़ने वाला मन, बुराई करने को वेग दौड़ने वाले पांव, झूठ बोलने वाला साक्षी और भाइयों के बीच में झगड़ा उत्पन्न करने वाला मनुष्य” (नीतिवचन 6: 16-19)।

“शरीर के काम तो प्रगट हैं, अर्थात व्यभिचार, गन्दे काम, लुचपन। मूर्ति पूजा, टोना, बैर, झगड़ा, ईर्ष्या, क्रोध, विरोध, फूट, विधर्म। डाह, मतवालापन, लीलाक्रीड़ा, और इन के जैसे और और काम हैं, इन के विषय में मैं तुम को पहिले से कह देता हूं जैसा पहिले कह भी चुका हूं, कि ऐसे ऐसे काम करने वाले परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे” (गलतियों 5: 19-21)

“क्या तुम नहीं जानते, कि अन्यायी लोग परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे? धोखा न खाओ, न वेश्यागामी, न मूर्तिपूजक, न परस्त्रीगामी, न लुच्चे, न पुरूषगामी। न चोर, न लोभी, न पियक्कड़, न गाली देने वाले, न अन्धेर करने वाले परमेश्वर के राज्य के वारिस होंगे” (1 कुरिन्थियों 6: 9-10)।

  1. यदि आप अभी भी संदेह में हैं, तो अपने आप से उस निश्चित कार्य के बारे में निम्नलिखित प्रश्न पूछें:
  2. क्या यह मेरे और दूसरों के लिए अच्छी बात है? (1 कुरिन्थियों 10:23-24)
  3. क्या यह परमेश्वर की महिमा करेगा? (1 कुरिन्थियों 6:19-20 ; 1 कुरिन्थियों 10:31)
  4. क्या यह दूसरों को ठोकर मारना होगा? (रोमियों 14:21; रोमियों 15: 1)

क्या मेरी अपनी इच्छाएँ प्रभु की इच्छा के अनुसार प्रस्तुत हैं? (कुलुस्सियों 3:17; रोमियों 14:23)

परमेश्‍वर ने सभी विश्‍वासियों को वे सभी ज्ञान देने का वादा किया, जो उन्हें पाप के बारे में उनकी इच्छा जानने के लिए चाहिए। इसलिए, इस वादे पर दावा करें “पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है; और उस को दी जाएगी” (याकूब 1: 5)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More Answers: