मुझे कैसे यकीन हो सकता है कि परमेश्वर निष्पक्ष हैं?

SHARE

By BibleAsk Hindi


कुछ आश्चर्य करते हैं कि : क्या परमेश्वर निष्पक्ष है? निष्पक्षता का अर्थ होगा कि हर कोई वास्तव में वही प्राप्त करता है जो वह चाहता है। यदि परमेश्वर पूरी तरह से निष्पक्ष था, तो हमें सभी को हमारे पापों के लिए मौत की सजा दी जाएगी, जो वास्तव में हमारे लिए योग्य है क्योंकि हमने परमेश्वर के खिलाफ सभी पाप किए हैं और इसलिए, अनन्त मृत्यु के योग्य हैं “पाप की मजदूरी मृत्यु है” (रोमियों 6:23)।

परमेश्वर निष्पक्ष से बहुत अधिक है! परमेश्वर असीम रूप से “और यहोवा उसके साम्हने हो कर यों प्रचार करता हुआ चला, कि यहोवा, यहोवा, ईश्वर दयालु और अनुग्रहकारी, कोप करने में धीरजवन्त, और अति करूणामय और सत्य, हजारों पीढिय़ों तक निरन्तर करूणा करने वाला, अधर्म और अपराध और पाप का क्षमा करने वाला है”  (निर्गमन 34: 6) लेकिन क्योंकि वह पवित्र, न्यायी और धर्मी (यशायाह 48:17) भी है, किसी को हमारे पापों का दंड चुकाना पड़ता है हम बच सकते हैं।

परमेश्वर ने अपने पुत्र यीशु को हमारे स्थान पर क्रूस पर मरने का प्रस्ताव दिया, उस दंड के लिए जो हमारे लिए होना “जो पाप से अज्ञात था, उसी को उस ने हमारे लिये पाप ठहराया, कि हम उस में होकर परमेश्वर की धामिर्कता बन जाएं” (2 कुरिन्थियों 5:21)। हमें केवल इतना करना है कि हम उस पर विश्वास करें और उसका अनुसरण करें। फिर, हम स्वर्ग में एक अनन्त घर बचाएंगे, क्षमा करेंगे और प्राप्त करेंगे “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (यूहन्ना 3: 16)।

परमेश्वर सभी लोगों को उसके पास ले जाता है (यूहन्ना 12:32)। हम सभी के पास प्यार की उनकी पुकार का जवाब देने का मौका है “हे पृथ्वी के दूर दूर के देश के रहने वालो, तुम मेरी ओर फिरो और उद्धार पाओ! क्योंकि मैं ही ईश्वर हूं और दूसरा कोई नहीं है” (यशायाह 45:22)। जो लोग जवाब नहीं देते हैं, वे अपने पाप कर्मों के कारण वे प्राप्त करेंगे जो जो उस पर विश्वास करता है, उस पर दंड की आज्ञा नहीं होती, परन्तु जो उस पर विश्वास नहीं करता, वह दोषी ठहर चुका; इसलिये कि उस ने परमेश्वर के एकलौते पुत्र के नाम पर विश्वास नहीं किया” (यूहन्ना 3:18, 36)। लेकिन जो लोग जवाब देते हैं, वे उससे कहीं अधिक बेहतर और बहुत बेहतर प्राप्त करेंगे, जो उनके लिए “अब जो ऐसा सामर्थी है, कि हमारी बिनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है, उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है” (इफिसियों 3:20 )।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Reply

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments