क्या हमें बच्चे पैदा करने चाहिए यदि हम ऐसे मनुष्य पैदा कर रहे हैं जो परमेश्वर को अस्वीकार कर सकते हैं और नरक में जा सकते हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परमेश्वर ने मनुष्य को चुनने की स्वतंत्रता के साथ बनाया जिसका अर्थ है कि वे अनन्त जीवन या मृत्यु का चयन कर सकते हैं। प्रभु ने उन्हें वह करने की पूर्ण स्वतंत्रता दी, जो वे चाहते हैं, उम्मीद है कि वे सभी अनंत काल (2 पतरस 3: 9) का चयन करेंगे। इसलिए, जीवन में हमें एक अवसर दिया गया है कि हम उसे जान सकते हैं और उद्धार प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन अगर हम से चुनने की स्वतंत्रता को छीन लेते हैं, तो मनुष्य केवल रोबोट होंगे जिन्हे पहले ही कार्यक्रमबद्ध किया जाता है। और इस परिदृश्य में प्रेम मौजूद नहीं हो सकता है। क्योंकि प्रेम चुनने की स्वतंत्रता पर आधारित है।

मसीही माता-पिता अपने बच्चों को अनंत जीवन प्राप्त करने का मौका दे सकते हैं। और उसके लिए, उनके बचाए हुए बच्चे सदा के लिए ऋणी रहेंगे। यीशु ने अपने जीवन को इस आधार पर बलिदान कर दिया कि उसके बच्चों को बचाया जा सके। इसी तरह, माता-पिता को बहुत त्याग करने के लिए तैयार होना चाहिए ताकि उनके बच्चे अनन्त जीवन प्राप्त कर सकें। माता-पिता को अपने बच्चों को बहुत प्रार्थना और प्रेम से पालने की जरूरत है कि उन्हें सही रास्ते पर लाया जा सके। और जो ऐसा करते हैं वे मुश्किल ही अपने बच्चों को खो देंगे। और माता-पिता को उस अंत की ओर सहायता करने के लिए, प्रभु ने उन्हें कई वादे दिए जो वे अपने बच्चों के उद्धार के लिए प्रतिदिन दावा कर सकते हैं। ये उनमे से कुछ है:

“लड़के को शिक्षा उसी मार्ग की दे जिस में उस को चलना चाहिये, और वह बुढ़ापे में भी उस से न हटेगा” (नीतिवचन 22: 6)

“याह की स्तुति करो। क्या ही धन्य है वह पुरूष जो यहोवा का भय मानता है, और उसकी आज्ञाओं से अति प्रसन्न रहता है! उसका वंश पृथ्वी पर पराक्रमी होगा; सीधे लोगों की सन्तान आशीष पाएगी” (भजन संहिता 112: 1-2)।

“क्योंकि मैं प्यासी भूमि पर जल और सूखी भूमि पर धाराएं बहाऊंगा; मैं तेरे वंश पर अपनी आत्मा और तेरी सन्तान पर अपनी आशीष उण्डेलूंगा। वे उन मजनुओं की नाईं बढ़ेंगे जो धाराओं के पास घास के बीच में होते हैं। कोई कहेगा, मैं यहोवा का हूं, कोई अपना नाम याकूब रखेगा, कोई अपने हाथ पर लिखेगा, मैं यहोवा का हूं, और अपना कुलनाम इस्राएली बताएगा” (यशायाह 44: 3-5)।

“क्योंकि, मैं यहोवा न्याय से प्रीति रखता हूं, मैं अन्याय और डकैती से घृणा करता हूं; इसलिये मैं उन को उनके साथ सदा की वाचा बान्धूंगा। उनका वंश अन्यजातियों में और उनकी सन्तान देश देश के लोगों के बीच प्रसिद्ध होगी; जितने उन को देखेंगे, पहिचान लेंगे कि यह वह वंश है जिस को परमेश्वर ने आशीष दी है” (यशायाह 61: 8-9)।

“उनका परिश्रम व्यर्थ न होगा, न उनके बालक घबराहट के लिये उत्पन्न होंगे; क्योंकि वे यहोवा के धन्य लोगों का वंश ठहरेंगे, और उनके बाल-बच्चे उन से अलग न होंगे” (यशायाह 65:23)।

“धर्मी जो खराई से चलता रहता है, उसके पीछे उसके लड़के बाले धन्य होते हैं” (नीतिवचन 20: 7)।

“और तू उसकी विधियों और आज्ञाओं को जो मैं आज तुझे सुनाता हूं मानना, इसलिये कि तेरा और तेरे पीछे तेरे वंश का भी भला हो, और जो देश तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे देता है उस में तेरे दिन बहुत वरन सदा के लिये हों” (व्यवस्थाविवरण 4:40)।

“उन्होंने कहा, प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास कर, तो तू और तेरा घराना उद्धार पाएगा। और उन्होंने उस को, और उसके सारे घर के लोगों को प्रभु का वचन सुनाया। और रात को उसी घड़ी उस ने उन्हें ले जाकर उन के घाव धोए, और उस ने अपने सब लोगों समेत तुरन्त बपतिस्मा लिया” (प्रेरितों के काम 16: 31-33)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: