क्या यह सच नहीं है कि जो कोई ईश्वर में विश्वास करेगा वह स्वर्ग जाएगा?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

बाइबल शिक्षा देती है कि केवल परमेश्वर पर विश्वास करना ही पर्याप्त नहीं है “वैसे ही विश्वास भी, यदि कर्म सहित न हो तो अपने स्वभाव में मरा हुआ है” (याकूब 2:17)। याकूब आगे कहता है, “तुझे विश्वास है कि एक ही परमेश्वर है: तू अच्छा करता है: दुष्टात्मा भी विश्वास रखते, और थरथराते हैं” (याकूब 2:19)। शैतान विश्वास करता है कि परमेश्वर अभी भी अस्तित्व में है, वह बचाया नहीं जाएगा (प्रकाशितवाक्य अध्याय 20:10)। किसी को संदेह नहीं है कि दुष्टात्माएँ परमेश्वर के अस्तित्व में विश्वास करती हैं (मरकुस 3:11; 5:7) लेकिन उनका विश्वास केवल बौद्धिक रूप से सही है, लेकिन फिर भी वे दुष्ट बने रहते हैं। सच्चा विश्वास विश्वासियों के जीवन को बदल देता है। जीवित विश्वास ईश्वर की कृपा से अच्छे कार्यों का निर्माण करता है।

याकूब उद्धार में कार्यों के महत्व के बारे में बोलता है, “जब हमारे पिता इब्राहीम ने अपने पुत्र इसहाक को वेदी पर चढ़ाया, तो क्या वह कर्मों से धामिर्क न ठहरा था? सो तू ने देख लिया कि विश्वास ने उस के कामों के साथ मिल कर प्रभाव डाला है और कर्मों से विश्वास सिद्ध हुआ। और पवित्र शास्त्र का यह वचन पूरा हुआ, कि इब्राहीम ने परमेश्वर की प्रतीति की, और यह उसके लिये धर्म गिना गया, और वह परमेश्वर का मित्र कहलाया। सो तुम ने देख लिया कि मनुष्य केवल विश्वास से ही नहीं, वरन कर्मों से भी धर्मी ठहरता है” (याकूब 2:21-24)। इब्राहीम के काम विश्‍वास के द्वारा प्रगट हुए, अर्थात्, उसने उसके विश्‍वास का प्रमाण दिया। दूसरे शब्दों में, उसके कार्यों ने साबित कर दिया कि वह धर्मी था!

पौलुस उद्धार में विश्वास के महत्व के बारे में बात करता है, “वरन इसी समय उस की धामिर्कता प्रगट हो; कि जिस से वह आप ही धर्मी ठहरे, और जो यीशु पर विश्वास करे, उसका भी धर्मी ठहराने वाला हो” (रोमियों 3:26)। हम विश्वास के माध्यम से धार्मिकता प्राप्त करते हैं। इब्रानियों 11 में सम्मानित अन्य सभी विश्वास नायकों के साथ भी यही सच है। विश्वास से उन सभी ने परमेश्वर की आज्ञा मानी और उसकी इच्छा पूरी की।

यह सतह पर प्रकट हो सकता है कि याकूब और पौलुस द्वारा विश्वास की दो परिभाषाएं एक दूसरे के विपरीत हैं। लेकिन अगर हम दो अलग-अलग दृष्टिकोणों पर विचार करें, तो इस विरोधाभास को आसानी से साफ किया जा सकता है। पौलूस के अनुसार, परमेश्वर के दृष्टिकोण से, जो विश्वास बचाता है वह कामों से अलग एक विश्वास है। परन्तु याकूब के अनुसार और मनुष्य के दृष्टिकोण से, सही प्रकार के विश्वास का परिणाम अच्छे कार्यों में होता है जिसे लोग देख सकते हैं। सच्चा विश्वास अच्छे कर्मों से इसका पेशा सिद्ध करेगा। इस प्रकार, हम देख सकते हैं कि पौलुस और याकूब पूर्ण सहमति में हैं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: