क्या मसीहीयों का फिल्मों में जाना ठीक है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

क्या मसीहीयों का फिल्मों में जाना ठीक है?

“निदान, हे भाइयों, जो जो बातें सत्य हैं, और जो जो बातें आदरणीय हैं, और जो जो बातें उचित हैं, और जो जो बातें पवित्र हैं, और जो जो बातें सुहावनी हैं, और जो जो बातें मनभावनी हैं, निदान, जो जो सदगुण और प्रशंसा की बातें हैं, उन्हीं पर ध्यान लगाया करो” (फिलिप्पियों 4:8)।

एक सामान्य दिशानिर्देश के रूप में, फिलिप्पियों 4 में बाइबल हमें एक ऐसा मानक देती है जिसके द्वारा हम न्याय कर सकते हैं कि हमें क्या देखना और सुनना चाहिए। और शास्त्र सिखाते हैं कि देखने से हम बदल जाते हैं (2 कुरिन्थियों 3:18)। मसीहियों को अपनी आत्मा के मार्गों की रक्षा करनी है “क्योंकि कुचिन्ता, हत्या, पर स्त्रीगमन, व्यभिचार, चोरी, झूठी गवाही और निन्दा मन ही से निकलतीं है” (मत्ती 15:19)। इसलिए, मन को बुराई, हिंसा और अनैतिकता को देखने से बचाना आवश्यक है (मत्ती 5:22, 28)।

मसीही विश्‍वासियों के लिए, ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जिनकी अनुमति है, परन्तु सभी चीज़ें वास्तव में लाभकारी और उत्थानकारी नहीं हैं (1 कुरिन्थियों 10:23)। इसलिए, विश्वासियों को उन फिल्मों को देखना चाहिए जो प्रभु के साथ उनके रिश्ते को बढ़ने में मदद करेंगी। हमें क्या देखना चाहिए, इसके लिए एक अच्छा मार्गदर्शक प्रश्न पूछना है: यीशु क्या करेगा?

एक अच्छी फिल्म होने पर भी हमें सावधान रहना चाहिए कि हम दूसरों के लिए एक बुरा उदाहरण न बनें। यदि एक नए धर्मांतरित ने अपने मसीही भाई को सिनेमाघरों में देखा, तो वह सोच सकता है कि किसी भी फिल्म को देखना ठीक है, चाहे वह किसी भी सामग्री की हो। यह उसके लिए एक ठोकर हो सकती है, विशेष रूप से, यदि वह किसी ऐसे कार्य या आदत से जूझ रहा है जो प्रभु के साथ उसके चलने को कमजोर कर रही है (रोमियों 14:3)।

मसीह की देह के सदस्यों के रूप में, हमें संसार के लिए ज्योति बनना है (मत्ती 5:14) और दूसरों को उन चमत्कारों के बारे में गवाही देनी है जो परमेश्वर ने हमारे जीवनों में किए हैं (1 पतरस 2:11-12)। मसीही विश्वासी के जीवन को परमेश्‍वर की महिमा करनी चाहिए “सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, सब कुछ परमेश्वर की महीमा के लिये करो” (1 कुरिन्थियों 10:31)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: