क्या इब्राहीम को उसके जीवन के दौरान इस्राएल का राष्ट्र विरासत में मिला था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

प्रश्न: परमेश्वर ने इब्राहीम को इस्राएल के राष्ट्र का वादा किया था लेकिन क्या उसने इसे उसके जीवन के दौरान विरासत में दिया था?

उत्तर: अब्राहम ने अपने जीवन काल में इस्राएल के राष्ट्र को प्राप्त नहीं किया। शास्त्र कहते हैं, “विश्वास ही से उस ने प्रतिज्ञा किए हुए देश में जैसे पराए देश में परदेशी रह कर इसहाक और याकूब समेत जो उसके साथ उसी प्रतिज्ञा के वारिस थे, तम्बूओं में वास किया। क्योंकि वह उस स्थिर नेव वाले नगर की बाट जोहता था, जिस का रचने वाला और बनाने वाला परमेश्वर है” (इब्रानियों 11: 9,10)। इब्राहीम, इसहाक, और याकूब सभी लोग उस राष्ट्र में विदेशी के रूप में रहते थे, जिसे परमेश्वर ने वादा किया था। परमेश्वर ने अब्राहम को कनान में कोई विरासत नहीं दी, “और उस को कुछ मीरास वरन पैर रखने भर की भी उस में जगह न दी, परन्तु प्रतिज्ञा की कि मैं यह देश, तेरे और तेरे बाद तेरे वंश के हाथ कर दूंगा; यद्यपि उस समय उसके कोई पुत्र भी न था” (प्रेरितों के काम 7: 5)।

परमेश्वर ने इब्राहीम से वादा किया था कि वह राष्ट्र तब दिया जाएगा जब नया यरुशलेम स्वर्ग से नीचे जैतून के पहाड़ पर आता है, जैसा कि प्रकाशितवाक्य 21: 2 में कहा गया है, “फिर मैं ने पवित्र नगर नये यरूशलेम को स्वर्ग पर से परमेश्वर के पास से उतरते देखा, और वह उस दुल्हिन के समान थी, जो अपने पति के लिये सिंगार किए हो।”

नया यरुशलेम इतना बड़ा है कि यह इस्राएल के राष्ट्र को पूरी तरह से घेरने वाला है। अब्राहम का शाब्दिक अर्थ उस शहर से है, जिसका कर्ता और निर्माता ईश्वर है, यह उस राष्ट्र को कवर करेगा, जिसे ईश्वर ने उसे देने का वादा किया था, “पर तुम सिय्योन के पहाड़ के पास, और जीवते परमेश्वर के नगर स्वर्गीय यरूशलेम के पास” (इब्रानियों 12:22)।

पौलूस इस बात की पुष्टि करता है कि, “क्योंकि यहां हमारा कोई स्थिर रहने वाला नगर नहीं, वरन हम एक आने वाले नगर की खोज में हैं” (इब्रानियों 13:14)। यहूदियों ने यरूशलेम को एक “निरंतर शहर” के रूप में देखा, अर्थात्, उन्होंने माना कि ईश्वरीय योजना शहर के साथ आंतरिक रूप से बंधी हुई थी और इसलिए यह हमेशा के लिए स्थिर थी। उन्होंने यहूदी धर्म की शाखा के भीतर सुरक्षा महसूस की। लेकिन मसीहीयों के पास ऐसा कोई “निरंतर शहर” नहीं है। उनकी आशाएँ और आकांक्षाएँ किसी सांसारिक शहर या धार्मिक प्रणाली से नहीं जुड़ी हैं। हालांकि, हर कोई इस बात पर ध्यान केंद्रित कर रहा है कि अब इस्राएल में क्या हो रहा है, परमेश्वर ने भविष्य की विरासत का वादा किया है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: