आप दूसरों को प्यार करने से पहले खुद से प्यार करें, क्या यह वाक्यांश बाइबल पर आधारित हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परमेश्वर के वचन से, आप प्यार, आत्म-बलिदान और आत्मत्याग की अवधारणा पाते हैं। यीशु इसका प्रमुख उदाहरण है और इसमें आत्म-इनकार को प्रोत्साहित करते हुए वह कहता है, “तब यीशु ने अपने चेलों से कहा; यदि कोई मेरे पीछे आना चाहे, तो अपने आप का इन्कार करे और अपना क्रूस उठाए, और मेरे पीछे हो ले। क्योंकि जो कोई अपना प्राण बचाना चाहे, वह उसे खोएगा; और जो कोई मेरे लिये अपना प्राण खोएगा, वह उसे पाएगा” (मत्ती 16:24, 25 और मरकुस 8: 34-35)।

पौलुस आत्मत्याग या खुद से प्यार नहीं करने के इस सिद्धांत को दोहराता है कि उसने सुसमाचार की खातिर अपना सब कुछ बलिदान कर दिया और बार-बार सुसमाचार प्रचार के लिए अपने जीवन को जोखिम में डाल दिया। ध्यान दीजिए कि वह प्रेरितों के काम 20:24 में क्या कहता है, “परन्तु मैं अपने प्राण को कुछ नहीं समझता: कि उसे प्रिय जानूं, वरन यह कि मैं अपनी दौड़ को, और उस सेवाकाई को पूरी करूं, जो मैं ने परमेश्वर के अनुग्रह के सुसमाचार पर गवाही देने के लिये प्रभु यीशु से पाई है।” पौलुस मसीहीयों से यह भी अनुरोध करता है कि वे खुद को प्रभु के लिए एक पवित्र बलिदान के रूप में प्रस्तुत करें, खुद को परमेश्वर की इच्छा के लिए प्रस्तुत करें और इस दुनिया की चीजों पर स्वार्थी रूप से पकड़ न रखें (रोमियों 12: 8, 13:14)।

पतरस दूसरों से प्यार करने को ऊपर उठाता है और विशेष रूप से जोड़ता है कि हमें खुद को शरीर की वासनाओं से इनकार करने की आवश्यकता है जो आत्मा के खिलाफ युद्ध है(1 पतरस 2:11)। दुनिया हमें दूसरों से प्यार करने से पहले खुद से प्यार करने के लिए कहती है, लेकिन यह एक स्वार्थी भावना से उपजा है और सीधे बाइबल का खंडन करता है। शास्त्र हमें बताते हैं कि हमें खुद से प्यार नहीं करना है, बल्कि दूसरों से प्यार करना है, जितना हम खुद से प्यार करते हैं और दूसरों के हितों को अपने से ऊपर रखना चाहते हैं। फिलिप्पियों 2: 3-4 कहता है, “विरोध या झूठी बड़ाई के लिये कुछ न करो पर दीनता से एक दूसरे को अपने से अच्छा समझो। हर एक अपनी ही हित की नहीं, वरन दूसरों की हित की भी चिन्ता करे।”

बाइबल हमें यह भी चेतावनी देती है कि हम दुनिया से प्यार न करें, या दुनिया क्या सिखाती है। “तुम न तो संसार से और न संसार में की वस्तुओं से प्रेम रखो: यदि कोई संसार से प्रेम रखता है, तो उस में पिता का प्रेम नहीं है। क्योंकि जो कुछ संसार में है, अर्थात शरीर की अभिलाषा, और आंखों की अभिलाषा और जीविका का घमण्ड, वह पिता की ओर से नहीं, परन्तु संसार ही की ओर से है। और संसार और उस की अभिलाषाएं दोनों मिटते जाते हैं, पर जो परमेश्वर की इच्छा पर चलता है, वह सर्वदा बना रहेगा” (1 यूहन्ना 2: 15-17)।

एक बार जब हम खुद को एक तरफ रख देते हैं, तो हम निश्चिंत हो सकते हैं कि प्रभु हमारी देखभाल करेगा और हमारी सभी जरूरतों को पूरा करेगा। हमें अपने बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, परमेश्वर अपने अनमोल बच्चों की देखभाल करता है (मत्ती 6: 25-34)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: