अगर मैं आत्महत्या कर लूँ तो क्या मैं नर्क में जाऊँगा?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

आत्महत्या कभी जवाब नहीं है। ईश्वर है। इससे पहले कि आप अपने जीवन को समाप्त करने पर विचार करें, आपको सबसे पहले प्रभु को आपके जीवन को आशीर्वाद देने का मौका देना चाहिए। यहोवा कहता है, “मुझ से प्रार्थना कर और मैं तेरी सुन कर तुझे बढ़ी-बड़ी और कठिन बातें बताऊंगा जिन्हें तू अभी नहीं समझता” (यिर्मयाह 33:3)।

यदि आप आत्महत्या करते हैं तो आप अपने जीवन के लिए परमेश्वर की योजनाओं को समाप्त कर रहे हैं। आप परमेश्वर की स्पष्ट आज्ञा का उल्लंघन कर रहे होंगे जो कहती है, “हत्या न करना” (निर्गमन 20:13) जो एक पाप है जो मृत्यु की ओर ले जाता है (रोमियों 6:23)। बाइबल सिखाती है, “विश्‍वास के बिना परमेश्वर को प्रसन्न करना अनहोना है” (इब्रानियों 11:6)। विश्वास निराशा के विपरीत है। आत्महत्या करने का मतलब है कि आपने जीवन की सारी उम्मीदें खो दी हैं और हार मान ली है। और वास्तव में, आप अपने भाग्य को नर्क में बंद कर रहे हैं।

जीवन ईश्वर का दिया हुआ अनमोल उपहार है। और इसे छीन लेना पाप है। यीशु ने तुम्हें मृत्यु तक प्रेम किया (यूहन्ना 3:16)। जब कोई व्यक्ति अपना जीवन समाप्त कर लेता है, तो वह परमेश्वर के प्रेम को दूर फेंक रहा होता है और अपने आप पर उसका कोई प्रभाव न होने वाला बलिदान कर रहा होता है। यीशु हर आहत व्यक्ति को प्यार, आशीर्वाद और आराम देने के लिए खुली बाहों के साथ प्रतीक्षा कर रहा है “हे सब थके हुए और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ, और मैं तुम्हें विश्राम दूंगा” (मत्ती 11:28)। परमेश्वर अपने बच्चों को उनकी अपेक्षा से कहीं अधिक देगा “अब जो ऐसा सामर्थी है, कि हमारी बिनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है, उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है” (इफिसियों 3:20)। इसलिए, प्रभु पर भरोसा रखें कि वह आपके जीवन को बदल दे।

प्रभु को अपने हृदय में आमंत्रित करें और प्रार्थना करें: “मेरे स्वर्गीय पिता, मेरे हृदय में आयें, मेरे प्रभु बने। मैं अपना विशवास आप पर रख रहा हु। मुझे क्षमा करें, मुझे शुद्ध करें, और मेरे आनन्द और विश्वास को आप पर पुनर्स्थापित करें। मेरी प्रार्थना सुनने के लिए धन्यवाद। यीशु के नाम में, आमीन।” यहोवा के लिए आनन्दित रहें, निश्चय ही आपकी प्रार्थना का उत्तर देगा। और फिर उसके वचन के दैनिक अध्ययन और प्रार्थना के माध्यम से अपने आप को परमेश्वर से जोड़ें ताकि आप अपने जीवन के लिए परमेश्वर की योजना को पा सको।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: