यदि परमेश्वर ने मनुष्य को स्वतंत्र इच्छा दी थी, तो वह मनुष्य को आज्ञा उल्लंघनता के लिए दंडित क्यों करता है?

परमेश्वर ने हमें मुक्त कर दिया है ताकि हम उसे प्यार करने को चुन सकें क्योंकि सच्चा प्यार मजबूर या रोबोट नहीं बनाता है। परमेश्वर ने हमें उसे स्वीकार करने…
View Answer

क्या गैया विश्वास बाइबिल से है?

यूनानी पौराणिक कथाओं में, गैया शब्द पृथ्वी के लिए है। आज, गैया मूर्तिपूजक, पूर्वी रहस्यवाद, विज्ञान और नारीवाद के मिश्रण से लिया गया एक दर्शन है। जेम्स लवलॉक ने 1970…
View Answer

अथेने का अथेनगोरस कौन था?

ऐतिहासिक भूमिका अथेनगोरस एक पूर्व-नाईसीन मसीही पक्षसमर्थक था, जो दूसरी शताब्दी के उत्तरार्ध के दौरान रहा। वह एक एथेनियन दार्शनिक था जो मसीही धर्म में परिवर्तित हो गया। कुछ लोग…
View Answer

क्या मनुष्य सिद्धता तक पहुँच सकते हैं?

प्रश्न के उत्तर में: क्या मनुष्य सिद्धता तक पहुँच सकता है? यीशु कहता है, “तुम सिद्ध बनो, जैसा तुम्हारा स्वर्गीय पिता सिद्ध है” (मत्ती 5:48)। यूनानी में सही शब्द “टेलीओस”…
View Answer

हमें आदम के पाप के परिणाम के फल क्यों भुगतने चाहिए?

पाप के दुनिया में आने से पहले, परमेश्वर ने आदम को चेतावनी दी थी कि पाप मृत्यु लाएगा (उत्पत्ति 2:17)। परमेश्वर को मनुष्य की आवश्यकता थी कि वह जीवन और…
View Answer

क्या हम इस बात के लिए जवाबदेह हैं जो हम नहीं जानते?

ज्ञान की कमी और ज्ञान को अस्वीकार करना दो अलग-अलग चीजें हैं। न जानते हुए क्योंकि आप नहीं जान सकते, न जानने से अलग है क्योंकि आप जानने के अवसर…
View Answer

मानवता का यहाँ पृथ्वी पर उद्देश्य क्या है?

मानवता का उद्देश्य, जैसा कि ईश्वर ने बनाया है, मेलजोल के लिए है: “मैं तुझ से सदा प्रेम रखता आया हूँ; इस कारण मैं ने तुझ पर अपनी करुणा बनाए…
View Answer

पाप की जड़ क्या है? क्या यह मानव इच्छा है?

अभिमान और स्वार्थ सभी पापों की जड़ है। शुरुआत में, स्वर्ग की सबसे ऊँचे पद के स्वर्गदूत लूसीफर ने परमेश्वर को सत्ता से हटाने का निर्णय किया “क्योंकि तू मन…
View Answer

क्या विश्वास ज्ञान पर आधारित है? उनके बीच क्या संबंध है?

हां, विश्वास ज्ञान पर आधारित है। “अंध” विश्वास जैसी कोई चीज़ नहीं है। सच्चा विश्वास मन को प्रस्तुत किये तथ्यों पर बनाया गया है (यूहन्ना 20:30, 31)। बाइबल में, विश्वास…
View Answer

क्या अमेरिका अपराजेय है?

अमेरिका के संस्थापक, जो गहरी मसीहियत के दृढ़ विश्वासी पुरुष थे, ने घोषणा की कि राष्ट्र का अस्तित्व इसके नागरिकों के मसीही नैतिक निर्माण पर निर्भर करता है। आइए उनके…
View Answer