परमेश्वर हमें क्या हमारे कार्यों से या हमारे विचारों से न्याय करता है?

“क्योंकि भीतर से अर्थात मनुष्य के मन से, बुरी बुरी चिन्ता, व्यभिचार। चोरी, हत्या, पर स्त्रीगमन, लोभ, दुष्टता, छल, लुचपन, कुदृष्टि, निन्दा, अभिमान, और मूर्खता निकलती हैं। ये सब बुरी…
View Answer

परमेश्वर ने मूसा को कनानियों को मारने को क्यों कहा, जबकि उसने आज्ञा दी थी “तू खून न करना?”

मारना और हत्या करना दो अलग-अलग चीजें हैं। हत्या “एक जीवन का पूर्व-निर्धारित, गैरकानूनी रूप से लिया जाना है”, जबकि मारना आम तौर पर, “एक जीवन का लिया जाना है।”…
View Answer

आज परमेश्वर अधिक चमत्कार क्यों नहीं करता है ताकि लोग उसके अस्तित्व पर विश्वास कर सकें?

कुछ लोग आश्चर्य करते हैं कि परमेश्वर आज अधिक चमत्कार क्यों नहीं करते हैं ताकि लोग उनके अस्तित्व पर विश्वास कर सकें। ये नहीं जानते कि चमत्कार प्राप्त करने के…
View Answer

यदि परमेश्वर प्रेम है, तो वह दुष्टों पर अपना क्रोध क्यों बरसाएगा?

परमेश्वर के क्रोध की तुलना मानव के क्रोध से नहीं की जानी चाहिए। क्योंकि परमेश्वर प्रेम है (1 यूहन्ना 4:8), और यद्यपि वह पाप से घृणा करता है, वह पापी…
View Answer

परमेश्वर ने मूसा को वादा किए गए देश में प्रवेश करने की अनुमति क्यों नहीं दी?

प्रश्न: परमेश्वर ने मूसा को वादा किए गए देश में प्रवेश करने की अनुमति क्यों नहीं दी? उत्तर: मूसा को वादा किए गए देश में प्रवेश करने की अनुमति नहीं…
View Answer

क्या चीज ने परमेश्वर को मनुष्यों को बचाने के लिए प्रेरित किया?

जब मनुष्यों ने पाप किया, तो परमेश्वर ने स्वर्ग से नीचे देखा और उस पीड़ा और दुःख को स्वीकार किया जो संसार को और पाप की भ्रष्टता को प्रभावित करता…
View Answer

क्या परमेश्वर सिर्फ कनानियों को नष्ट करने में था?

संदेहवादीयों ने दावा किया है कि जब वह कनानी लोगों को नष्ट करने के लिए इस्राएल को ठहराता था तो परमेश्वर अन्यायपूर्ण था। हालाँकि, अगर हम पूरी तस्वीर को अच्छी…
View Answer

क्या परमेश्वर पक्षपात करता है?

पक्षपात एक व्यक्ति को दूसरे की कीमत पर अनुचित श्रेष्ठ व्यवहार दे रही है। पवित्रशास्त्र सिखाता है कि “क्योंकि परमेश्वर किसी का पक्ष नहीं करता” (रोमियों 2:11 इफिसियों 6: 9)…
View Answer

क्या परमेश्वर स्वप्न के माध्यम से उसकी इच्छा प्रकट करता है?

  अतीत में, परमेश्वर ने अपने लोगों को स्वप्न के माध्यम से अपनी इच्छा प्रकट की। और समय के अंत में, उसने वादा किया, “न बातों के बाद मैं सब…
View Answer

क्या परमेश्वर मनुष्य को शाप देता है?

बुद्धिमान सुलैमान ने लिखा, “दुष्ट के घर पर यहोवा का शाप और धर्मियों के वासस्थान पर उसकी आशीष होती है” (नीतिवचन 3:33)। परमेश्वर के शाप मनुष्य के शाप की तरह…
View Answer