कौन से नबी ने उसके सिंहासन पर बैठे परमेश्वर के दर्शन देखे?

जब खतरों ने परमेश्वर के लोगों और दुष्टों की शक्तियां बहुत अधिक बढ़ा दीं, तो परमेश्वर ने उनके भविष्यद्वक्ताओं को उसके दर्शन के जरिए से उसे देखने के लिए बुलाया।…
View Post

अय्यूब की कहानी में शैतान और परमेश्वर के बीच क्या विवाद था?

अय्यूब की कहानी शैतान और ईश्वर के बीच एक संवाद से शुरू होती है जब ईश्वर के पुत्र उससे मिले थे (अय्यूब 1)। शैतान “परमेश्वर के पुत्रों” में से एक…
View Post

अगापे प्रेम का अर्थ क्या होता है?

अगापे शब्द प्रेम के लिए एक यूनानी शब्द है। यह उच्च प्रकृति का प्रेम है, जो उस व्यक्ति के मूल्य को पहचानता है जिससे प्रेम करता है। अगापे अपने उत्कृष्ट…
View Post

ईश्वर क्यों मारता है जब वह हमें मारने की आज्ञा नहीं देता है?

मारना और हत्या में अंतर है। हत्या एक निर्दोष व्यक्ति की जान लेना है जबकि मारना एक बुरे काम के लिए न्याय की एक क्रिया है जो प्रतिबद्ध थी। छठी…
View Post

परमेश्वर मूसा को क्यों मारना चाहता था?

“और ऐसा हुआ कि मार्ग पर सराय में यहोवा ने मूसा से भेंट करके उसे मार डालना चाहा” (निर्गमन 4:24)। भूमिका मूसा की परवरिश मिस्र में हुई थी, लेकिन एक…
View Post

क्या आज ईश्वर दर्शन के माध्यम से हमसे संवाद करता है?

दर्शन का अर्थ है “जागते हुए स्वप्न” (गिनती 24: 4)। परमेश्वर अपने बच्चों को अपनी योजनाओं को प्रकट करने के लिए दर्शन का उपयोग करता है। “इसी प्रकार से प्रभु…
View Post

क्या किसी ने कभी परमेश्वर को देखा है?

किसी मनुष्य ने कभी परमेश्वर का चेहरा नहीं देखा (यूहन्ना 1:18; 6:46; 1 तीमु 1:17; 1 यूहन्ना 4:12)। धरती पर अब तक सबसे करीबी व्यक्ति मूसा था, लेकिन तब भी…
View Post

परमेश्वर बुरी चीजों को होने की अनुमति क्यों देता है?

कई आश्चर्य: परमेश्वर ने शैतान का विनाश क्यों नहीं किया जब उसने इस तरह से पाप किया तो मनुष्यों को बुरी चीजों का अनुभव नहीं करना पड़ता? एक शब्द जवाब…
View Post

कालेब ने ईश्वर की दृष्टि में पक्ष क्यों पाया?

परमेश्वर ने इस्राएलियों को मिस्र के बंधन से छुड़ाने के बाद, कनान देश को एक विरासत (निर्गमन 3: 8, 17) के रूप में रखने के लिए एक शक्तिशाली हाथ के…
View Post

क्या परमेश्वर पापियों की प्रार्थना सुनता है (यूहन्ना 9:31)?

“हम जानते हैं कि परमेश्वर पापियों की नहीं सुनता परन्तु यदि कोई परमेश्वर का भक्त हो, और उस की इच्छा पर चलता है, तो वह उस की सुनता है” (यूहन्ना…
View Post