परमेश्वर ने वादा किए देश में प्रवेश करने से मूसा को मना किया। क्या परमेश्वर का न्याय उसकी दया से अधिक था?

आइए जाँच करें कि परमेश्वर ने वादा किए गए देश में प्रवेश करने से मूसा को क्यों मना किया? पहला: मूसा ने प्रभु की सीधी आज्ञा की आज्ञा उल्लंघनता की।…
View Post

अगर परमेश्वर प्रेम है, तो वह अच्छे लोगों को बुरा क्यों होने देता है?

परमेश्वर ने मनुष्यों को चुनने की स्वतंत्रता के साथ बनाया- अच्छाई या बुराई करने की स्वतंत्रता (व्यवस्थाविवरण 30:19)। इंसानों ने शैतान को सुनने के लिए चुना (उत्पत्ति 3) और वह…
View Post

यदि परमेश्वर न्यायी है, तो वह न्याय देने में देरी क्यों करता है?

नियत समय पर परमेश्वर अपना न्याय प्रकट करेगा (भजन संहिता 25:8)। लेकिन जब से शैतान ने दावा किया कि उसके पास ब्रह्मांड की सरकार और इस धरती के लिए एक…
View Post

मूसा को परमेश्वर ने क्यों चुना?

“विश्वास के अनुसार, जब वह उम्र का हो गया, तब उसने फिरौन की बेटी का बेटा कहलाने से इंकार कर दिया, जो परमेश्वर के लोगों के साथ पाप के सुख…
View Post

परमेश्वर ने इस्राएलियों को उसके “चुने हुए” लोगों के रूप में क्यों चुना?

“यहोवा ने जो तुम से स्नेह करके तुम को चुन लिया, इसका कारण यह नहीं था कि तुम गिनती में और सब देशों के लोगों से अधिक थे, किन्तु तुम…
View Post

बाइबल में “याहवेह” की जगह प्रभु या परमेश्वर का उपयोग क्यों किया गया है?

अलग-अलग बाइबल अनुवादों में परमेश्वर के इब्रानी नाम के बजाय “ईश्वर” और “प्रभु” शब्दों का इस्तेमाल किया गया था, जो कि इस्त्रााएलियों की परंपरा का अनुसरण करते हुए, ईश्वर के…
View Post

क्या राजा शाऊल को अंततः नकार दिया गया क्योंकि वह परमेश्वर से दूर हो गया?

शाऊल अंततः ईश्वर की आज्ञा उल्लंघना करता है। राजा शाऊल का प्रारंभिक शासनकाल इस्राएल के लिए एक महत्वपूर्ण समय था क्योंकि वे अपने सभी समय के दुश्मनों के साथ युद्ध…
View Post

यहोवा ने केवल यहोशू और कालेब को ही प्रतिज्ञा किए हुए राष्ट्र में प्रवेश करने की अनुमति क्यों दी?

मिस्र से लाए गए इस्राएलियों को विश्वास नहीं था कि प्रभु उन्हें वादा किए गए देश में ले जा सकता है। केवल यहोशू और कालेब को ही ऐसा विश्वास था।…
View Post

यदि परमेश्वर निष्पक्ष है, तो उसने एसाव पर याकूब को क्यों चुना?

“जैसा लिखा है, कि मैं ने याकूब से प्रेम किया, परन्तु एसाव को अप्रिय जाना” (रोमियों 9:13) यह मजबूत अभिव्यक्ति वास्तविक घृणा का मतलब नहीं है, जैसे आज इस शब्द…
View Post

क्या याकूब ने परमेश्वर के साथ कुश्ती की या वह रूपक था?

हमारी तरह, याकूब ने कई तरीकों से परमेश्वर का अनुभव किया है। अक्सर ऐसे समय होते थे जब उसे ईश्वर की आवश्यकता होती थी। यह वह जगह है जहां हमने…
View Post