हारून को वादा किए गए देश में प्रवेश करने की अनुमति क्यों नहीं दी गई?

Total
0
Shares

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic) Français (French)

कई कारण हैं जो बताते हैं कि हारून क्यों वादा किए गए देश में प्रवेश नहीं कर सकता है:

1-मूसा और हारून दोनों के विश्वास की कमी ने उन्हें प्रतिज्ञा किए देश में प्रवेश करने से रोक दिया। “परन्तु मूसा और हारून से यहोवा ने कहा, तुम ने जो मुझ पर विश्वास नहीं किया, और मुझे इस्त्राएलियों की दृष्टि में पवित्र नहीं ठहराया, इसलिये तुम इस मण्डली को उस देश में पहुंचाने न पाओगे जिसे मैं ने उन्हें दिया है” (गिनती 20:12) ।

2-हारून ने इस्राएलियों की पूजा करने के लिए एक सुनहरा बछड़ा बनाया और लोगों पर बहुत न्याय हुआ। “और यहोवा ने उन लोगों पर विपत्ति डाली, क्योंकि हारून के बनाए हुए बछड़े को उन्हीं ने बनवाया था” (निर्गमन 32:35)।

3-हारून और मरियम दोनों ने पाप किया क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के अभिषिक्‍त अगुए मूसा के खिलाफ बात की थी। ” मूसा ने तो एक कूशी स्त्री के साथ ब्याह कर लिया था। सो मरियम और हारून उसकी उस ब्याहिता कूशी स्त्री के कारण उसकी निन्दा करने लगे” (गिनती 12: 1)।

4- मूसा, यहोशु और कालेब को छोड़कर सभी इस्राएली ईश्वर के खिलाफ़ बड़बड़ाने के दोषी थे, जब 12 भेदियों को वादा किए गए देश (गिनती  13) की खोज के लिए भेजा गया था। हारून का नाम उन लोगों के साथ उल्लेख नहीं किया गया था जो मानते थे और जंगल में न मरने के लिए प्रतिफल किए गए थे ” इसलिये उस समय यहोवा ने कोप करके यह शपथ खाई कि, नि:सन्देह जो मनुष्य मिस्र से निकल आए हैं उन में से, जितने बीस वर्ष के वा उससे अधिक अवस्था के हैं, वे उस देश को देखने न पाएंगे, जिसके देने की शपथ मैं ने इब्राहीम, इसहाक, और याकूब से खाई है, क्योंकि वे मेरे पीछे पूरी रीति से नहीं हो लिये; परन्तु यपुन्ने कनजी का पुत्र कालेब, और नून का पुत्र यहोशू, ये दोनों जो मेरे पीछे पूरी रीति से हो लिये हैं ये तो उसे देखने पाएंगे। सो यहोवा का कोप इस्त्राएलियों पर भड़का, और जब तक उस पीढ़ी के सब लोगों का अन्त न हुआ, जिन्होंने यहोवा के प्रति बुरा किया था, तब तक अर्थात चालीस वर्ष तक वह जंगल में मारे मारे फिराता रहा” (गिनती  32:10-13) ।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic) Français (French)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या मसीहीयों को यहूदी पर्व मानने चाहिए?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic) Français (French)पर्व मानना विवेक का विषय है किसी मसीही को यहूदी पर्व मनाना चाहिए या नहीं, यह व्यक्तिगत मसीही के…
View Answer

रोमियों 14 में पौलुस किस बारे में बात कर रहा है?

Table of Contents रोमियों 14विश्वास में कमजोरआहारदिनों का पालननिष्कर्ष This page is also available in: English (English) العربية (Arabic) Français (French)रोमियों 14 “1 विश्वास में निर्बल है, उसे अपनी संगति…
View Answer