हम स्वर्ग में किस उम्र के होंगे?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

बाइबल हमें यह नहीं बताती है कि स्वर्ग में बचाए हुए की उम्र क्या होगी, लेकिन यह माना जाता है कि जिस तरह ईश्वर ने आदम और हव्वा को पूरी तरह से उनके यौवन के मूल में बढ़ाया था (उत्पत्ति 1:27), उसी स्थिति में ईश्वर अपने बच्चों को नया शरीर देगा।

उम्र का प्रमुख लगभग 30 वर्ष माना जाता है। यीशु ने 30 साल की उम्र में अपनी सांसारिक सेवकाई शुरू की (लूका 3:23)। और यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाला, जो यीशु से छह महीने बड़ा था, ने शायद 30 साल की उम्र में अपनी सेवकाई शुरू की। यह वह उम्र थी जिस दिन लेवियों ने अपने काम में प्रवेश किया था; उम्र जब यह सिखाने के लिए शास्त्री के लिए वैध था। गिनती 4: 3 कहती है, “अर्थात तीस वर्ष से ले कर पचास वर्ष तक की अवस्था वालों की सेना में, जितने मिलापवाले तम्बू में कामकाज करने को भरती हैं।”

बाइबल के कुछ छात्रों का मानना ​​है कि बचाया गया उस उम्र में होगा जब यीशु ने धरती पर सेवकाई शशुरू की थी। यूहन्ना कहते हैं, “हे प्रियों, अभी हम परमेश्वर की सन्तान हैं, और अब तक यह प्रगट नहीं हुआ, कि हम क्या कुछ होंगे! इतना जानते हैं, कि जब वह प्रगट होगा तो हम भी उसके समान होंगे, क्योंकि उस को वैसा ही देखेंगे जैसा वह है” (1 यूहन्ना 3: 2)।

स्वर्ग में, हम अपने नए शरीरों के साथ युवावस्था की अवस्था का आनंद लेंगे जो ईश्वर हमें उसके आने पर देगा। प्रेरित पौलुस हमें बताता है कि “देखे, मैं तुम से भेद की बात कहता हूं: कि हम सब तो नहीं सोएंगे, परन्तु सब बदल जाएंगे। और यह क्षण भर में, पलक मारते ही पिछली तुरही फूंकते ही होगा: क्योंकि तुरही फूंकी जाएगी और मुर्दे अविनाशी दशा में उठाए जांएगे, और हम बदल जाएंगे। क्योंकि अवश्य है, कि यह नाशमान देह अविनाश को पहिन ले, और यह मरनहार देह अमरता को पहिन ले” (1 कुरिन्थियों 15: 51–53)।

बुढ़ापा और पाप के सभी प्रभाव नई पृथ्वी में दूर हो जाएंगे। “और वह उन की आंखोंसे सब आंसू पोंछ डालेगा; और इस के बाद मृत्यु न रहेगी, और न शोक, न विलाप, न पीड़ा रहेगी; पहिली बातें जाती रहीं” (प्रकाशितवाक्य 21: 4)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: