हम परमेश्वर के लिए कैसे स्थिर होते हैं और समझौता नहीं करते हैं?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

एक बार जब हम जान जाते हैं कि परमेश्वर के वचन के अनुसार कुछ सही है, तो हमारा कर्तव्य है कि हम परमेश्वर के लिए स्थिर हों और समझौता न करें। और परमेश्वर उन सब के लिये सामर्थ के काम करेगा जो उसके सत्य के लिये स्थिर होते हैं। “देख, यहोवा की दृष्टि सारी पृथ्वी पर इसलिये फिरती रहती है कि जिनका मन उसकी ओर निष्कपट रहता है, उनकी सहायता में वह अपना सामर्थ दिखाए। तूने यह काम मूर्खता से किया है, इसलिये अब से तू लड़ाइयों में फंसा रहेगा” (2 इतिहास 16:9)।

जब परीक्षाएँ और मुसीबतें हमें घेर लेती हैं, तो हमें डरने की ज़रूरत नहीं है। जब इस्राएली लाल समुद्र की सीमा पर पहुंचे, और उनके मिस्री स्वामी उनका फिर से दास बनाने के लिए उनका पीछा कर रहे थे, तो वे बहुत डर गए। परन्तु मूसा ने उनसे कहा, “मूसा ने लोगों से कहा, डरो मत, खड़े खड़े वह उद्धार का काम देखो, जो यहोवा आज तुम्हारे लिये करेगा; क्योंकि जिन मिस्रियों को तुम आज देखते हो, उन को फिर कभी न देखोगे” (निर्गमन 14:13)।

दानिय्येल 3 में, हम 3 व्यक्तियों की कहानी पढ़ते हैं जो मृत्यु की पीड़ा पर परमेश्वर के लिए स्थिर थे। राजा नबूकदनेस्सर ने सभी लोगों को उसकी पूजा करने या आग में फेंकने का आदेश दिया। परन्तु शद्रक, मेशक और अबेदनगो ने राजा की आज्ञा मानने से इन्कार किया और उन्हें आग में झोंक दिया गया। परन्तु परमेश्वर ने इन 3 जवानों को घातक आग से बचाया और परिणामस्वरूप राजा ने यहोवा पर विश्वास किया।

जब हम सत्य के लिए दृढ़ होते हैं, तो हमारा जीवन लोगों और ब्रह्मांड के लिए एक गवाह होगा क्योंकि “मेरी समझ में परमेश्वर ने हम प्रेरितों को सब के बाद उन लोगों की नाईं ठहराया है, जिन की मृत्यु की आज्ञा हो चुकी हो; क्योंकि हम जगत और स्वर्गदूतों और मनुष्यों के लिये एक तमाशा ठहरे हैं”(1 कुरिन्थियों 4:9)। पृथ्वी पर उसके बच्चों के दृढ़ जीवन से परमेश्वर का चरित्र ब्रह्मांड के सामने सही साबित होता है।

अच्छी खबर यह है कि मसीह ने हमें अपनी शक्ति से अपने वचन के लिए स्थिर होने के लिए नहीं छोड़ा है। उन्होंने जीत के लिए आवश्यक सारी ताकत प्रदान की है। क्‍योंकि उसके साथ सब कुछ संभव है, जिसमें समझौता रहित जीवन भी सम्मिलित है (मत्ती 19:26)। उसने हमें बचाने के लिए अपने स्वयं के उद्धार के कवच भी प्रदान किए हैं (इफिसियों 6:11, 13)।

विलियम जेनिंग्स ब्रायन ने कहा, “अल्पसंख्यक के साथ खड़े होने से कभी न डरें जो सही है, अल्पसंख्यक के लिए जो सही है वह किसी दिन बहुसंख्यक होगा। बहुसंख्यकों के साथ खड़े होने से हमेशा डरो जो गलत है, क्योंकि जो बहुमत गलत है वह एक दिन अल्पसंख्यक होगा।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: