हम परमेश्वर के लिए अपने पहले प्यार को कैसे पुनर्जीवित करते हैं?

Author: BibleAsk Hindi


“पर मुझे तेरे विरूद्ध यह कहना है कि तू ने अपना पहिला सा प्रेम छोड़ दिया है” (प्रकाशितवाक्य 2: 4)। आत्मा कहता है, “सो चेत कर, कि तू कहां से गिरा है, और मन फिरा और पहिले के समान काम कर; और यदि तू मन न फिराएगा, तो मै तेरे पास आकर तेरी दीवट को उस स्थान से हटा दूंगा” (प्रकाशितवाक्य 2: 5)।

प्रेम शिष्यत्व का एकमात्र संकेत है “यदि आपस में प्रेम रखोगे तो इसी से सब जानेंगे, कि तुम मेरे चेले हो” (यूहन्ना 13:35)। और यीशु ने विश्वासियों को चेतावनी दी कि, “और अधर्म के बढ़ने से बहुतों का प्रेम ठण्डा हो जाएगा” (मत्ती 24:12)।

हम परमेश्वर के लिए अपने पहले प्यार को कैसे पुनर्जीवित करते हैं?

हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने का पहला कदम दिल से पाप को दूर करना है। बाइबल बताती है कि पाप हमारे और परमेश्वर के बीच संबंध को काट देता है “क्योंकि तुम्हारे हाथ हत्या से और तुम्हारी अंगुलियां अधर्म के कर्मों से अपवित्र हो गईं हैं; तुम्हारे मुंह से तो झूठ और तुम्हारी जीभ से कुटिल बातें निकलती हैं” (यशायाह 59: 2)। जब हम अपने पापों को स्वीकार और पश्चाताप करते हैं, तो वह हमें क्षमा करने का वादा करता है (1 यूहन्ना 1: 9)।

हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने के लिए दूसरा कदम बाइबल के माध्यम से परमेश्वर की आवाज़ को सुनना है। जब हम धर्मग्रंथों का अध्ययन करते हैं तो हम सुनते हैं कि परमेश्वर ने हमें अपनी आत्मा के माध्यम से बात करते हुए कहा ” तेरा वचन मेरे पांव के लिये दीपक, और मेरे मार्ग के लिये उजियाला है” (भजन संहिता 119: 105)।

हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने के लिए तीसरा कदम प्रार्थना के माध्यम से प्रभु से बात करना है। यीशु ने हमें मत्ती 6: 9-13 में प्रार्थना के लिए नमूना दिया।

हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने का चौथा कदम मसीह (कलिसिया) के शरीर का हिस्सा होना है। भजन संहिता में परमेश्वर अपने लोगों को परमेश्वर (भजन संहिता 95: 1-2) के पास आने और उपासना करने के लिए कई बुलाहट हैं।

हमारे पहले प्रेम को पुनर्जीवित करने का पाँचवाँ चरण है प्रभु का पालन करना। यीशु ने अपने शिष्यों से कहा, “यीशु ने उस को उत्तर दिया, यदि कोई मुझ से प्रेम रखे, तो वह मेरे वचन को मानेगा, और मेरा पिता उस से प्रेम रखेगा, और हम उसके पास आएंगे, और उसके साथ वास करेंगे” (यूहन्ना 14:23)।

हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने के लिए छठा कदम परमेश्वर के प्रेम का साक्षी है “परन्तु जब पवित्र आत्मा तुम पर आएगा तब तुम सामर्थ पाओगे; और यरूशलेम और सारे यहूदिया और सामरिया में, और पृथ्वी की छोर तक मेरे गवाह होगे” (प्रेरितों के काम 1: 8)।

अगर हम ये छह कदम प्रभु की ओर बढ़ाते हैं, तो उसने हमारे पहले प्यार को पुनर्जीवित करने का वादा किया “परन्तु वहां भी यदि तुम अपने परमेश्वर यहोवा को ढूंढ़ोगे, तो वह तुम को मिल जाएगा, शर्त यह है कि तुम अपने पूरे मन से और अपने सारे प्राण से उसे ढूंढ़ो” ( व्यवस्थाविवरण 4:29)।

 

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment