हम नई पृथ्वी में क्या करने जा रहे हैं?

This page is also available in: English (English)

हम नई पृथ्वी में क्या करने जा रहे हैं?

“परन्तु जैसा लिखा है, कि जो आंख ने नहीं देखी, और कान ने नहीं सुना, और जो बातें मनुष्य के चित्त में नहीं चढ़ीं वे ही हैं, जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखने वालों के लिये तैयार की हैं” (1 कुरिन्थियों 2:9)। यहाँ कुछ पद हैं जो वर्णन करते हैं कि विश्वासियों को नई पृथ्वी में क्या अनुभव होगा और क्या करेंगे:

1-हमेशा की खुशी पाने के लिए: “और यहोवा के छुड़ाए हुए लोग लौटकर जयजयकार करते हुए सिय्योन में आएंगे; और उनके सिर पर सदा का आनन्द होगा; वे हर्ष और आनन्द पाएंगे और शोक और लम्बी सांस का लेना जाता रहेगा” (यशायाह 35:10)।

2-कोई मृत्यु या दुःख अनुभव न करें: “और वह उन की आंखोंसे सब आंसू पोंछ डालेगा; और इस के बाद मृत्यु न रहेगी, और न शोक, न विलाप, न पीड़ा रहेगी; पहिली बातें जाती रहीं” (प्रकाशितवाक्य 21: 4)।

3- हमारे प्यारे पिता के साथ बातचीत के लिए: “फिर ऐसा होगा कि एक नये चांद से दूसरे नये चांद के दिन तक और एक विश्राम दिन से दूसरे विश्राम दिन तक समस्त प्राणी मेरे साम्हने दण्डवत करने को आया करेंगे; यहोवा का यही वचन है” (यशायाह 66:23)।

4-जीवन के उन सुखों का आनंद लें जिन्हें परमेश्वर ने तैयार किया था: “तू मुझे जीवन का रास्ता दिखाएगा; तेरे निकट आनन्द की भरपूरी है, तेरे दाहिने हाथ में सुख सर्वदा बना रहता है” (भजन संहिता 16:11)।

5-दूसरों के साथ सभा: “और नगर में चौक खेलने वाले लड़कों और लड़कियों से भरे रहेंगे” (जकर्याह 8: 5)।

6-प्रकृति की सुंदरता में प्रसन्नता: “जंगल और निर्जल देश प्रफुल्लित होंगे, मरूभूमि मगन हो कर केसर की नाईं फूलेगी” (यशायाह 35: 1)।

7-स्वप्न घरों का निर्माण करेंगे: “वे घर बनाकर उन में बसेंगे; वे दाख की बारियां लगाकर उनका फल खाएंगे। ऐसा नहीं होगा कि वे बनाएं और दूसरा बसे; वा वे लगाएं, और दूसरा खाए; क्योंकि मेरी प्रजा की आयु वृक्षों की सी होगी, और मेरे चुने हुए अपने कामों का पूरा लाभ उठाएंगे” (यशायाह 65: 21-22)।

8-बिना किसी बीमारी के धन्य होंगे: “कोई निवासी न कहेगा कि मैं रोगी हूं; और जो लाग उस में बसेंगे, उनका अधर्म क्षमा किया जाएगा” (यशायाह 33:24)। “तब अन्धों की आंखे खोली जाएंगी और बहिरों के कान भी खोले जाएंगे; तब लंगड़ा हरिण की सी चौकडिय़ां भरेगा और गूंगे अपनी जीभ से जयजयकार करेंगे। क्योंकि जंगल में जल के सोते फूट निकलेंगे और मरूभूमि में नदियां बहने लगेंगी” (यशायाह 35: 5, 6)।

9- अनुकूलतम ऊर्जा: “परन्तु जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे नया बल प्राप्त करते जाएंगे, वे उकाबों की नाईं उड़ेंगे, वे दौड़ेंगे और श्रमित न होंगे, चलेंगे और थकित न होंगे” (यशायाह 40:31)।

10-परमेश्वर के जीवों की सराहना होगी: “तब भेडिय़ा भेड़ के बच्चे के संग रहा करेगा, और चीता बकरी के बच्चे के साथ बैठा रहेगा, और बछड़ा और जवान सिंह और पाला पोसा हुआ बैल तीनों इकट्ठे रहेंगे, और एक छोटा लड़का उनकी अगुवाई करेगा” (यशायाह 11: 6)।

नई पृथ्वी की वास्तविकताओं, अकथनीय आश्चर्य और सुंदरता, परमेश्वर के राज्य की महिमा का आनंद, और बचाए गए के अनन्त घर को हमारा सीमित दिमाग द्वारा पूरी तरह से समझ नहीं सकता है। इस तरह के सभी ज्ञान अभी तक किसी भी चीज़ से परे हैं जो मनुष्य अब जान सकते हैं।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या लोग स्वर्ग में विवाह करेंगे?

This page is also available in: English (English)यीशु ने इस सवाल को संबोधित किया कि क्या लोग स्वर्ग में विवाह करेंगे, जब पुनरुत्थान में विश्वास नहीं करने वाले सदूकियों ने…
View Answer

जिस दिन यीशु की मृत्यु हुई उस दिन क्रूस पर का कुकर्मी स्वर्ग नहीं गया था?

This page is also available in: English (English)जिस दिन यीशु की मृत्यु हुई उस दिन क्रूस पर का कुकर्मी स्वर्ग नहीं गया था? “उस ने उस से कहा, मैं तुझ…
View Answer