सारपत की विधवा की कहानी क्या है?

This page is also available in: English (English)

सारपत की विधवा फेनीशिया में एक तटीय शहर सिदोन के दक्षिण-दक्षिण पश्चिम से 9 मील था, में रहती थी। परमेश्वर ने एलिय्याह को इस शहर में भेजा, बाल के राजाओं द्वारा शासित देश के बिलकुल केंद्र में, एक विधवा द्वारा पोषित होने के लिए जो एक इस्राएली नहीं थी। यहोवा ने अपने धर्मत्याग और मूर्तिपूजा के कारण इस्राएल के राष्ट्र पर सूखा डाला (1 राजा 17:1)। क्योंकि राजा अहाब और रानी ईज़ेबेल के नेतृत्व में, जीवन के स्रोत और आशीष के रूप में बाल की पूजा की जाती थी। और अब इस्राएल को यह सीखना था कि बाल ये आशीष नहीं दे सकते था।

एलिय्याह ने स्त्री से मुलाकात की

जब एलिय्याह शहर में आया, तो विधवा आग जलाने के लिए लकड़ी इकट्ठा कर रही थी। इसलिए, एलिय्याह ने उससे थोड़ा पानी और रोटी का टुकड़ा मांगा (पद 10)। लेकिन विधवा ने जवाब दिया, “तेरे परमेश्वर यहोवा के जीवन की शपथ मेरे पास एक भी रोटी नहीं है केवल घड़े में मुट्ठी भर मैदा और कुप्पी में थोड़ा सा तेल है, और मैं दो एक लकड़ी बीनकर लिए जाती हूँ कि अपने और अपने बेटे के लिये उसे पकाऊं, और हम उसे खाएं, फिर मर जाएं।”(पद 12)। विधवा ने अपनी खुद की गंभीर स्थिति के बारे में बताया।

एलिय्याह का अनुरोध एक वादे के साथ था। “क्योंकि इस्राएल का परमेश्वर यहोवा यों कहता है, कि जब तक यहोवा भूमि पर मेंह न बरसाएगा तब तक न तो उस घड़े का मैदा चुकेगा, और न उस कुप्पी का तेल घटेगा। तब वह चली गई, और एलिय्याह के वचन के अनुसार किया, तब से वह और स्त्री और उसका घराना बहुत दिन तक खाते रहे”(पद 14,15)।

विश्वास ने चमत्कार से प्रतिफल दिया

यह अनुरोध विश्वास की परीक्षा थी। परमेश्वर ने विधवा को यह स्पष्ट कर दिया कि अगर उसने नबी को दिया, तो वह उससे कहीं ज्यादा वापस पायेगी, जितना उसने दिया था। और विधवा की परीक्षा हुई और बड़े पैमाने पर प्रतिफल पाया। क्योंकि उसने कई दिनों के लिए परमेश्वर के वादे पर विश्वास किया था (पद 15)। जब देने के लिए बुलाहट हुई, तो उसके पास अपने और बेटे के लिए केवल एक आखिरी भोजन बचा था। लेकिन जब उसने दिया था, तो वह कई दिनों तक अपने, अपने घर और नबी के लिए पर्याप्त था।

जब इस्राएल बाल की पूजा के लिए परमेश्वर से दूर हो रहा था, तो बाल देश की एक स्त्री इस्राएल के परमेश्वर में अपने विश्वास का प्रदर्शन कर रही थी। बाल पर भरोसा करने वाले हजारों लोग भूखे मर रहे थे, लेकिन उसने अपने विश्वास के कारण जीवन और आशीष  पाई (नीतिवचन 11:24)। परमेश्वर सभी आशीष का स्रोत है। जो लोग उस पर भरोसा करना सीखते हैं, वे इस जीवन में भी खुशी और आशीष की पूर्णता पाएंगे, जो उसकी कृपा के तिरस्कार करने वालों को कभी पता नहीं चल सकता (मती 6:25, 33)।

दूसरा चमत्कार

एलिय्याह कुछ समय के लिए वहाँ रुका था, विधवा के घर के एक ऊपरी कमरे में रह रहा था। तब स्त्री का बेटा बीमार हो गया और उसकी मृत्यु हो गई। इसलिए, दुःख से हताश स्त्री ने परमेश्वर के मनुष्य से कहा, “क्या तू इसलिये मेरे यहां आया है कि मेरे बेटे की मृत्यु का कारण हो और मेरे पाप का स्मरण दिलाए?” (पद 18)। अपने दुःख में, उसने नबी और ईश्वर के साथ अपनी परेशानी को जोड़ा। उसने महसूस किया कि उसके जीवन में कुछ पिछले पापों के कारण उसे फैसला सुनाया गया था। लेकिन एलिय्याह ने प्रार्थना की: ” हे मेरे परमेश्वर यहोवा! इस बालक का प्राण इस में फिर डाल दे” (पद 21)। और उसके बेटे को ज़िंदा कर दिया गया। फिर उसने कहा, “अब मुझे निश्चय हो गया है कि तू परमेश्वर का जन है, और यहोवा का जो वचन तेरे मुंह से निकलता है, वह सच होता है” (पद 24)।

यीशु ने विधवा के विश्वास को प्रशस्त किया

यीशु ने पुराने नियम में इस स्त्री के विश्वास का जिक्र करते हुए कहा, ” और मैं तुम से सच कहता हूं, कि एलिय्याह के दिनों में जब साढ़े तीन वर्ष तक आकाश बन्द रहा, यहां तक कि सारे देश में बड़ा आकाल पड़ा, तो इस्राएल में बहुत सी विधवाएं थीं।

26 पर एलिय्याह उन में से किसी के पास नहीं भेजा गया, केवल सैदा के सारफत में एक विधवा के पास”(लूका 4: 25–26)। परमेश्वर उन लोगों के लिए कुछ भी नहीं कर सकता है जो अविश्वासी हैं, जो उनकी आवश्यकता को महसूस नहीं करते हैं (मती 5: 3)। परमेश्वर के सामने हमारा खड़ा होना तय है, हमारे पास ज्योति की मात्रा से नहीं, बल्कि इस इस ज्योति के उपयोग से। परमेश्वर ने उनकी जाति की परवाह किए बिना उनको आशीष दी (प्रेरितों के काम 10:34-35)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk  टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

जेवनार में रानी वशती ने उपस्थित होने से क्यों मना कर दिया?

This page is also available in: English (English)प्रश्न: रानी वशती ने राजा अहेसरुस (क्षयर्ष) के भोज में उपस्थित होने से इंकार क्यों किया? उत्तर: राजा अहेसरुस के शासनकाल के तीसरे…
View Post

नए नियम में यह कहाँ कहा गया है कि पुनर्विवाह की अनुमति है?

This page is also available in: English (English)यीशु ने कहा, “यह भी कहा गया था, कि जो कोई अपनी पत्नी को त्याग दे तो उसे त्यागपत्र दे। परन्तु मैं तुम…
View Post