सात अंतिम विपत्तियाँ क्या हैं और वे कब होंगी?

Total
2
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

सात अंतिम विपत्तियाँ

सात अंतिम विपत्तियाँ अधर्मियों पर परमेश्वर के क्रोध का प्रतिनिधित्व करती हैं। यीशु के दूसरे आगमन से ठीक पहले विपत्तियाँ आएंगी। यहाँ वर्णन है:

पहली विपति “सो पहिले ने जा कर अपना कटोरा पृथ्वी पर उंडेल दिया। और उन मनुष्यों के जिन पर पशु की छाप थी, और जो उस की मूरत की पूजा करते थे, एक प्रकार का बुरा और दुखदाई फोड़ा निकला” (प्रकाशितवाक्य 16: 2)।

दूसरी विपति “और दूसरे ने अपना कटोरा समुद्र पर उंडेल दिया और वह मरे हुए का सा लोहू बन गया, और समुद्र में का हर एक जीवधारी मर गया” (प्रकाशितवाक्य 16:3)।

तीसरी विपति: “और तीसरे ने अपना कटोरा नदियों, और पानी के सोतों पर उंडेल दिया, और वे लोहू बन गए।
और मैं ने पानी के स्वर्गदूत को यह कहते सुना, कि हे पवित्र, जो है, और जो था, तू न्यायी है और तू ने यह न्याय किया।
क्योंकि उन्होंने पवित्र लोगों, और भविष्यद्वक्ताओं का लोहू बहाया था, और तू ने उन्हें लोहू पिलाया; क्योंकि वे इसी योग्य हैं।
फिर मैं ने वेदी से यह शब्द सुना, कि हां हे सर्वशक्तिमान प्रभु परमेश्वर, तेरे निर्णय ठीक और सच्चे हैं॥” (प्रकाशितवाक्य 16:4-7; यशायाह 33:16)।

चौथी विपति: “और चौथे ने अपना कटोरा सूर्य पर उंडेल दिया, और उसे मनुष्यों को आग से झुलसा देने का अधिकार दिया गया।
और मनुष्य बड़ी तपन से झुलस गए, और परमेश्वर के नाम की जिसे इन विपत्तियों पर अधिकार है, निन्दा की और उस की महिमा करने के लिये मन न फिराया॥” (प्रकाशितवाक्य 16:8-9)।

पाँचवी विपति: “10 और पांचवें ने अपना कटोरा उस पशु के सिंहासन पर उंडेल दिया और उसके राज्य पर अंधेरा छा गया; और लोग पीड़ा के मारे अपनी अपनी जीभ चबाने लगे।
11 और अपनी पीड़ाओं और फोड़ों के कारण स्वर्ग के परमेश्वर की निन्दा की; और अपने अपने कामों से मन न फिराया॥” (प्रकाशितवाक्य 16:10-11) ।

छठवीं विपति: : महान नदी फरात “सूख जाती है” का प्रतीक आत्मिक बाबुल से समर्थन वापस ले लिया गया है और  हर-मगिदोन की लड़ाई निकट आती है। “12 और छठवें ने अपना कटोरा बड़ी नदी फुरात पर उंडेल दिया और उसका पानी सूख गया कि पूर्व दिशा के राजाओं के लिये मार्ग तैयार हो जाए।
13 और मैं ने उस अजगर के मुंह से, और उस पशु के मुंह से और उस झूठे भविष्यद्वक्ता के मुंह से तीन अशुद्ध आत्माओं को मेंढ़कों के रूप में निकलते देखा।
14 ये चिन्ह दिखाने वाली दुष्टात्मा हैं, जो सारे संसार के राजाओं के पास निकल कर इसलिये जाती हैं, कि उन्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उस बड़े दिन की लड़ाई के लिये इकट्ठा करें।
15 देख, मैं चोर की नाईं आता हूं; धन्य वह है, जो जागता रहता है, और अपने वस्त्र कि चौकसी करता है, कि नंगा न फिरे, और लोग उसका नंगापन न देखें।
16 और उन्होंने उन को उस जगह इकट्ठा किया, जो इब्रानी में हर-मगिदोन कहलाता है” (प्रकाशितवाक्य 16:12-16)।

सातवीं विपति: यीशु का दूसरा आगमन होता है। मानव जाति पर बड़े-बड़े ओले पत्थर बरसाते हैं और मसीह उसके मार्ग मे है। “17 और सातवें ने अपना कटोरा हवा पर उंडेल दिया, और मंदिर के सिंहासन से यह बड़ा शब्द हुआ, कि हो चुका।
18 फिर बिजलियां, और शब्द, और गर्जन हुए, और एक ऐसा बड़ा भुइंडोल हुआ, कि जब से मनुष्य की उत्पत्ति पृथ्वी पर हुई, तब से ऐसा बड़ा भुइंडोल कभी न हुआ था।
19 और उस बड़े नगर के तीन टुकड़े हो गए, और जाति जाति के नगर गिर पड़े, और बड़ा बाबुल का स्मरण परमेश्वर के यहां हुआ, कि वह अपने क्रोध की जलजलाहट की मदिरा उसे पिलाए।
20 और हर एक टापू अपनी जगह से टल गया; और पहाड़ों का पता न लगा।
21 और आकाश से मनुष्यों पर मन मन भर के बड़े ओले गिरे, और इसलिये कि यह विपत्ति बहुत ही भारी थी, लोगों ने ओलों की विपत्ति के कारण परमेश्वर की निन्दा की” (प्रकाशितवाक्य 16:17-21)।

दुष्टों पर परमेश्वर का न्याय

विपत्तियाँ उन विपत्तियों से बहुत मिलती-जुलती हैं, जो मिस्र में परमेश्वर द्वारा इस्राएलियों को गुलामी से छुड़ाने से पहले गिराई गई थीं। विपत्तियाँ इस दुष्ट दुनिया पर आने वाली हैं,  उससे ठीक पहले परमेश्वर के लोग, आत्मिक इस्राएल, वे उस दुनिया से स्वतंत्र किए जाते हैं जो पाप के बंधन में है।

विपत्तियाँ थोड़े समय के लिए रहेंगी “इसलिए उसकी विपत्तियाँ एक दिन में आएंगी” (प्रकाशितवाक्य 18:8)। भविष्यद्वाणी में एक दिन एक वर्ष है “तेरे लिये एक वर्ष की सन्ती एक दिन अर्थात चालीस दिन ठहराए हैं” (यहेजकेल 4:6) (गिनती 14:34)। इसलिए, एक साल के भीतर यह सब हो जाएगा।

कौन विपत्तियों से बच पाएगा? जिन लोगों ने “और मैं ने आग से मिले हुए कांच का सा एक समुद्र देखा, और जो उस पशु पर, और उस की मूरत पर, और उसके नाम के अंक पर जयवन्त हुए थे” (प्रकाशितवाक्य 15:2)। मसीह कहता है, “जो अन्याय करता है, वह अन्याय ही करता रहे; और जो मलिन है, वह मलिन बना रहे; और जो धर्मी है, वह धर्मी बना रहे; और जो पवित्र है, वह पवित्र बना रहे। देख, मैं शीघ्र आने वाला हूं; और हर एक के काम के अनुसार बदला देने के लिये प्रतिफल मेरे पास है” (प्रकाशितवाक्य 22:11-12)।

धर्मियों को परमेश्वर का उद्धार

धर्मियों पर एक भी विपत्ति नहीं पड़ेगी। यहोवा ने प्रतिज्ञा की, “इसलिये कोई विपत्ति तुझ पर न पड़ेगी, न कोई दु:ख तेरे डेरे के निकट आएगा” (भजन संहिता 91:10) जैसा कि मिस्र में विपत्तियों के दिनों में हुआ था। परमेश्‍वर के स्वर्गदूत व्यक्तिगत रूप से धर्मी के चारों ओर घूमेंगे और उनकी रक्षा करेंगे “यहोवा के डरवैयों के चारों ओर उसका दूत छावनी किए हुए उन को बचाता है” (भजन संहिता 34:7)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या ट्रम्प मसीह विरोधी हैं या सिर्फ एक बहुत ही दुष्ट व्यक्ति हैं?

Table of Contents ये हैं नौ बिंदु:कृपया ध्यान दें:पवित्रशास्त्र में ईशनिंदा की दो परिभाषाएँ हैं:प्यार के शब्द: This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)ट्रम्प और उनकी राजनीतिक…

क्या पुराने नियम ने मसीह के क्रूस के वर्ष की भविष्यद्वाणी की थी?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)प्रश्न: क्या पुराने नियम ने वास्तव में मसीह के क्रूस के सही वर्ष की भविष्यद्वाणी की थी? उत्तर: मसीह के पहले…