वे दस बार क्या थे जब इस्राएलियों ने जंगल में यहोवा की परीक्षा ली?

Author: BibleAsk Hindi


इस्राएलियों का अविश्वास

इस्राएल के बच्चों ने दस भेदियों की नकारात्मक रिपोर्ट सुनी (गिनती 13:31-33)। और उन्होंने विश्वास करने से इनकार कर दिया कि यहोवा उन्हें वादा किया हुआ देश दे सकता है। तब उन्होंने मूसा और हारून से शिकायत की, “और सब इस्त्राएली मूसा और हारून पर बुड़बुड़ाने लगे; और सारी मण्डली उसने कहने लगी, कि भला होता कि हम मिस्र ही में मर जाते! वा इस जंगल ही में मर जाते!
और यहोवा हम को उस देश में ले जा कर क्यों तलवार से मरवाना चाहता है? हमारी स्त्रियां और बालबच्चे तो लूट में चलें जाएंगे; क्या हमारे लिये अच्छा नहीं कि हम मिस्र देश को लौट जाएं?” (गिनती 14:2,3)। और उन्होंने आपस में यह भी कहा, “फिर वे आपस में कहने लगे, आओ, हम किसी को अपना प्रधान बना लें, और मिस्र को लौट चलें।” (गिनती 14:4; नहेमायाह 9:17)।

यहोवा उन पर बहुत अप्रसन्न हुआ और उसने मूसा से कहा: “11 तब यहोवा ने मूसा से कहा, वे लोग कब तक मेरा तिरस्कार करते रहेंगे? और मेरे सब आश्चर्यकर्म देखने पर भी कब तक मुझ पर विश्वास न करेंगे?
12 मैं उन्हें मरी से मारूंगा, और उनके निज भाग से उन्हें निकाल दूंगा, और तुझ से एक जाति उपजाऊंगा जो उन से बड़ी और बलवन्त होगी।” (गिनती 14:11-12)।

परन्तु मूसा ने उत्तर दिया, “18 कि यहोवा कोप करने में धीरजवन्त और अति करूणामय है, और अधर्म और अपराध का क्षमा करनेवाला है, परन्तु वह दोषी को किसी प्रकार से निर्दोष न ठहराएगा, और पूर्वजों के अधर्म का दण्ड उनके बेटों, और पोतों, और परपोतों को देता है।
19 अब इन लोगों के अधर्म को अपनी बड़ी करूणा के अनुसार, और जैसे तू मिस्र से ले कर यहां तक क्षमा करता रहा है वैसे ही अब भी क्षमा कर दे।” (गिनती 14:18,19)। इस्राएलियों का “अविश्वास” स्पष्ट रूप से मूसा और दो जासूसों के विश्वास के विपरीत था। यदि यहूदी उनके ईश्वरीय अगुवे की तरह अधिक होते, तो उन्हें वादा किए गए देश में प्रवेश करने की अनुमति दी जाती।

फिर, यहोवा ने मूसा से कहा: “20 यहोवा ने कहा, तेरी बिनती के अनुसार मैं क्षमा करता हूं;
21 परन्तु मेरे जीवन की शपथ सचमुच सारी पृथ्वी यहोवा की महिमा से परिपूर्ण हो जाएगी;
22 उन सब लोगों ने जिन्होंने मेरी महिमा मिस्र देश में और जंगल में देखी, और मेरे किए हुए आश्चर्यकर्मों को देखने पर भी दस बार मेरी परीक्षा की, और मेरी बातें नहीं मानी,
23 इसलिये जिस देश के विषय मैं ने उनके पूर्वजों से शपथ खाई, उसको वे कभी देखने न पाएंगे; अर्थात जितनों ने मेरा अपमान किया है उन में से कोई भी उसे देखने न पाएगा” (गिनती 14:20-23)।

परिणामस्वरूप, वे दस भेदिए, जो उस देश का भेद लेने को गए थे, और दुष्ट समाचार लाए थे, यहोवा के साम्हने मरी से मर गए, क्योंकि सारी छावनी ने परमेश्वर पर से अपना विश्वास खो दिया और प्रतिज्ञात देश में प्रवेश नहीं किया। परन्तु नून का पुत्र विश्वासयोग्य यहोशू और यपुन्ने का पुत्र कालेब, जिन्होंने विश्वास की पूरी रिपोर्ट दी, वे जीवित रहे (गिनती 14:37,38)।

दस बार इस्राएलियों ने यहोवा की परीक्षा ली

1-वे परमेश्वर में विश्वास नहीं रखते थे, परन्तु फिरौन की उस सेना से डरते थे जो लाल समुद्र तक उनका पीछा करती थी (निर्गमन 14:11-12)।

2-वे मारा में कड़वे पानी पर बड़बड़ाते रहे (निर्गमन 15:24)।

3-वे पाप के जंगल में मिस्र के भोजन की लालसा रखते थे (निर्गमन 16:3)।

4-उन्होंने प्रभु के निर्देश की उपेक्षा की और आवश्यकता से अधिक मन्ना इकट्ठा किया (निर्गमन 16:20)।

5-उन्होंने सब्त के दिन मन्ना इकट्ठा करने का प्रयास किया और परमेश्वर की आज्ञा का उल्लंघन किया (निर्गमन 16:27-29)।

6-उन्होंने रपीदीम में पानी की कमी के कारण मूसा से शिकायत की (निर्गमन 17:2-3)।

7-उन्होंने “एक बछड़ा ढालकर बना लिया, फिर उसको दण्डवत किया, और उसके लिये बलिदान भी चढ़ाया” (निर्गमन 32:7-10)।

8-उन्होंने तबेरा में शिकायत की (गिनती 11:1-2)।

9-उन्होंने मांस खाने के लिए भोजन नहीं करने की शिकायत की (गिनती 11:4)।

10-उन्हें विश्वास नहीं था कि यहोवा उन्हें प्रतिज्ञा की हुई भूमि दे सकता है और उसके अन्यजातियों पर विजय प्राप्त कर सकता है (गिनती 14:1-4)।

अपने पूरे इतिहास में, इस्राएलियों ने अब्राहम से अपने वंश पर भरोसा किया है, फिर भी उन्होंने बार-बार परमेश्वर की अवज्ञा की (उत्पत्ति 15:6; गलातियों 3:7, 9)। नतीजतन, विश्वास की यह कमी ही उन्हें परमेश्वर के विश्राम में प्रवेश करने से रोकती है (इब्रानियों 3:19; 4:11)। आइए हम उनकी गलतियों से सीखें और अपने उद्धारकर्ता के रूप में परमेश्वर पर अपना पूरा विश्वास रखें।

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment