विनाश से बचने के लिए गिबोनियों ने क्या किया?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

विनाश से बचने के लिए गिबोनियों ने क्या किया?

जब कनान पर इस्राएल की विजय शुरू हुई, तो इस्राएल की जीत की खबर कनानियों तक पहुंची और उनके राजाओं – हित्तियों, एमोरियों, कनानियों, परिज्जियों, हिव्वी और यबूसी लोगों को डरा दिया। इसलिए, वे परमेश्वर की संतानों के विरुद्ध युद्ध करने के लिए अपने सैन्य बलों को संयुक्त करते हैं।

गिबोनियों का झूठ

परन्तु जब गिबोनियों ने सुना कि यहोशू ने यरीहो और ऐ के नगरों को कैसे नष्ट कर दिया है, तो उन्होंने चालाकी से काम किया, और राजदूत होने का नाटक किया। और वे यहोशू के पास आए, और उस से यह कहकर मेल मिलाप करने को कहा, कि वे बहुत दूर देश से आए हैं, जहां से इस्राएल को कोई खतरा न था। और अपने झूठ को पक्का करने के लिए “4 तब उन्होंने छल किया, और राजदूतों का भेष बनाकर अपने गदहों पर पुराने बोरे, और पुराने फटे, और जोड़े हुए मदिरा के कुप्पे लादकर

5 अपने पांवों में पुरानी गांठी हुई जूतियां, और तन पर पुराने वस्त्र पहिने, और अपने भोजन के लिये सूखी और फफूंदी लगी हुई रोटी ले ली” (यहोशू 9:4,5)।

यहोशू ने गिबोनियों के साथ मेल किया

यहोशू और पुरनियों ने अपके झूठ की प्रतीति की, और गिबोनियोंसे मेल किया। “परन्तु उन्होंने यहोवा से सम्मति नहीं मांगी” (पद 14)। यदि वे परमेश्वर से सलाह मांगते, तो वह उन पर प्रकट कर देता कि गिबोनी झूठ बोल रहे हैं। कम से कम कहने के लिए, इस्राएल के साथ युद्ध न करने के लिए गिबोनियों के उद्देश्य ने इस्राएल के परमेश्वर की शक्ति में कुछ विश्वास प्रदर्शित किया। वे इस्राएल के साथ एक वाचा बाँधने के लिए तैयार थे जिसमें मूर्तिपूजा को त्यागने और यहोवा की उपासना को स्वीकार करने का उनका वादा शामिल था।

तीन दिनों के बाद, इस्राएलियों ने पाया कि गिबोनी शहर निकट थे और उन्हें धोखा दिया गया था। और इस्राएली उन से युद्ध न कर सके, क्योंकि मण्डली के हाकिमों ने उन से यहोवा की मेल की शपथ खाई या।। इसलिए, इस्राएल की सारी मण्डली ने अगुवों के जल्दबाजी में लिए गए निर्णय के विरुद्ध शिकायत की (पद 16-18)।

इस्राएल के प्रमुखों ने इस्राएल की सारी छावनी को संकट में डाल दिया, क्योंकि उन्होंने यहोवा से ज्ञान नहीं मांगा। यह पाठ सिखाता है कि कलीसिया के आत्मिक अगुवों को अपने निर्णयों में बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है, कहीं ऐसा न हो कि वे परमेश्वर के बजाय अपने स्वयं के निर्णय पर निर्भर होकर, अपनी कलीसियाओं पर समस्याएँ न लाएँ।

गिबोनियों ने दण्ड दिया

परन्तु गिबोनियों के लिए दण्ड के रूप में “शासक ने ठहराया कि वे “सारी मण्डली के लिये लकड़हारे और जलवाहक होंगे” (पद 21)। इन नीच कामों का काम गिबोनियों का दण्ड था। यदि उन्होंने इस्राएल के साथ ईमानदारी से व्यवहार किया होता, तब भी उनकी जान बच जाती, और वे शायद गुलामी से मुक्त हो जाते। फिर भी, एक अभिशाप भी वरदान बन सकता है। इस सेवा के द्वारा, वे सच्चे सृष्टिकर्ता के बारे में जानने में समर्थ हुए।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: