वाक्यांशों में क्या अंतर है: मनुष्य का पुत्र और परमेश्वर का पुत्र?

Author: BibleAsk Hindi


यीशु ने नए नियम में 85 से अधिक बार स्वयं को “मनुष्य का पुत्र” कहा। यह दानिय्येल की उस भविष्यद्वाणी का एक सीधा प्रमाण था जो कहता है, “मैं ने रात में स्वप्न में देखा, और देखो, मनुष्य के सन्तान सा कोई आकाश के बादलों समेत आ रहा था, और वह उस अति प्राचीन के पास पहुंचा, और उसको वे उसके समीप लाए। तब उसको ऐसी प्रभुता, महिमा और राज्य दिया गया, कि देश-देश और जाति-जाति के लोग और भिन्न-भिन्न भाषा बालने वाले सब उसके आधीन हों; उसकी प्रभुता सदा तक अटल, और उसका राज्य अविनाशी ठहरा” (दानिय्येल 7:13-14)। इस उपाधि के साथ स्वयं का उल्लेख करते हुए, यीशु चाहते थे कि यहूदी उसे एक ऐसे व्यक्ति के रूप में देखें जिसे प्रभुत्व और महिमा और राज्य दिया गया था, इस प्रकार, पुराने नियम की मसीहाई भविष्यद्वाणियों को पूरा कर रहा था।

वाक्यांश “मनुष्य का पुत्र” का अर्थ यह भी है कि यीशु वास्तव में एक मनुष्य था। देहधारण के समय, परमेश्वर के पुत्र ने स्वयं मानवजाति का रूप धारण कर लिया (यूहन्ना 1:1-4, 12, 14; फिलिपियों 2:7; इब्रानियों 2:14) और मनुष्य का पुत्र बन गया (मरकुस 2:10) ), इसलिए ईश्वरीयता को मानवता के साथ एक बंधन से जोड़ना जो कभी नहीं टूटेगा। यूहन्ना प्रिय हमें बताता है कि यीशु एक मनुष्य के रूप में शरीर में आया था “परमेश्वर का आत्मा तुम इसी रीति से पहचान सकते हो, कि जो कोई आत्मा मान लेती है, कि यीशु मसीह शरीर में होकर आया है वह परमेश्वर की ओर से है” (1 यूहन्ना 4:2)।

उसी समय, यीशु परमेश्वर का पुत्र और परमेश्वर का सार था वह उस की महिमा का प्रकाश, “और उसके तत्व की छाप है, और सब वस्तुओं को अपनी सामर्थ के वचन से संभालता है: वह पापों को धोकर ऊंचे स्थानों पर महामहिमन के दाहिने जा बैठा” (इब्रानियों 1:3)। पश्‍चाताप करने वाले पापियों के लिए यह जानना सबसे अधिक सुकून देने वाला विचार है कि पिता के सामने उनका प्रतिनिधि स्वयं “एक जैसा” है, जो सभी बिंदुओं पर उनकी तरह ही परीक्षा में था और जो उनकी दुर्बलताओं की भावना से प्रभावित था (इब्रानियों 4 :15)।

यीशु एक मानव पिता और एक पुत्र के अर्थ में परमेश्वर का पुत्र नहीं था क्योंकि परमेश्वर ने विवाह नहीं किया था और उसका एक बेटा था। यीशु परमेश्वर का पुत्र है कि उसने पवित्र आत्मा द्वारा मरियम में गर्भ धारण किया था। लूका 1:35 घोषणा करता है, “स्वर्गदूत ने उस को उत्तर दिया; कि पवित्र आत्मा तुझ पर उतरेगा, और परमप्रधान की सामर्थ तुझ पर छाया करेगी इसलिये वह पवित्र जो उत्पन्न होनेवाला है, परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा।”

यीशु ने स्वीकार किया कि वह परमेश्वर का पुत्र है। अपनी परीक्षा के समय, महायाजक ने उससे पूछा, “मैं तुझे जीवते परमेश्वर की शपथ देता हूं, कि यदि तू परमेश्वर का पुत्र मसीह है, तो हम से कह दे” (मत्ती 26:63)। “यीशु ने उस से कहा; तू ने आप ही कह दिया: वरन मैं तुम से यह भी कहता हूं, कि अब से तुम मनुष्य के पुत्र को सर्वशक्तिमान की दाहिनी ओर बैठे, और आकाश के बादलों पर आते देखोगे” (मत्ती 26:64)। यहूदी नेताओं ने यीशु पर ईशनिंदा का आरोप लगाकर प्रतिक्रिया दी (मत्ती 26:65-66)। बाद में, पीलातुस के सामने, “यहूदियों ने उस को उत्तर दिया, कि हमारी भी व्यवस्था है और उस व्यवस्था के अनुसार वह मारे जाने के योग्य है क्योंकि उस ने अपने आप को परमेश्वर का पुत्र बनाया” (यूहन्ना 19:7)। परमेश्वर का पुत्र होने का उसका दावा क्यों ईशनिंदा के रूप में लिया जाएगा और मृत्यु के योग्य होगा? यहूदी नेताओं ने स्पष्ट रूप से समझा कि ईश्वर का पुत्र होना ईश्वरत्व का दावा करना है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment