वह “आत्मा” क्या है जो मृत्यु के समय परमेश्वर के पास लौटती है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

जब मृतकों की स्थिति की बात आती है, तो बहुत से लोग अक्सर आत्मा और आत्मा (प्राणी) की अवधारणा के साथ भ्रमित हो जाते हैं। बाइबल कहती है, “जब मिट्टी ज्यों की त्यों मिट्टी में मिल जाएगी, और आत्मा परमेश्वर के पास जिसने उसे दिया लौट जाएगी” (सभोपदेशक 12:7)। मृत्यु के समय सब कुछ वहीं लौट जाता है जहां से यह आया था; मिट्टी उस धरती पर लौट जाति है जहाँ से इसे लिया गया था और आत्मा उस ईश्वर के पास वापस लौट जाती है जिसने इसे दिया था।

यह अवधारणा इस बात के अनुरूप है कि मनुष्य को किस प्रकार बनाया गया था, “और यहोवा परमेश्वर ने आदम को भूमि की मिट्टी से रचा और उसके नथनों में जीवन का श्वास फूंक दिया; और आदम जीवता प्राणी बन गया” (उत्पत्ति 2: 7)।

मृत्यु, सृष्टि के विपरीत है। यह अवधारणा सृष्टि वृत्तांत के अनुरूप है, “और यहोवा परमेश्वर ने आदम को भूमि की मिट्टी से रचा और उसके नथनों में जीवन का श्वास फूंक दिया; और आदम जीवता प्राणी बन गया” (उत्पत्ति 2:7)। सृष्टि के दौरान परमेश्वर अपने जीवन की सांस या जीवन की ईश्वरीय चिंगारी को मिट्टी में जोड़ता है और मनुष्य एक जीवित आत्मा (प्राणी) बन जाता है।

ध्यान दें: हिंदी में अंग्रेजी भाषा के दो शब्दों का एक ही अर्थ है :

(1) Spirit – आत्मा (श्वांस)

(2) Soul – आत्मा (प्राणी)

जीवन: शरीर (मिटटी) + जीवन का श्वांस (या आत्मा) = जीवन (प्राणी)

मौत: शरीर (मिटटी) – जीवन का श्वांस (या आत्मा) = मृत्यु (कोई प्राणी नहीं)

जैसा कि आत्मा की प्रकृति जो परमेश्वर के पास वापस जाती है, याकूब 2:26 स्पष्ट करता है कि “जैसे देह आत्मा बिना मरी हुई है।” इस पद में, “आत्मा” शब्द का एक मामूली संदर्भ है जो, “या सांस” है। यूनानी में वास्तविक मूल शब्द “नेऊमा” है, एक शब्द जिसका अर्थ है “सांस” या “वायु।” इससे हम इस नतीजे पर पहुँचते हैं कि बाइबल में “साँस” और “आत्मा” शब्द एक जैसे हैं।

इस अवधारणा को पूरे बाइबल में देखा जाता है, दाऊद इस बात की भी पुष्टि करता है कि आत्माएँ और साँसें भजन संहिता 104:29,30 में एक ही हैं, “तू मुख फेर लेता है, और वे घबरा जाते हैं; तू उनकी सांस ले लेता है, और उनके प्राण छूट जाते हैं और मिट्टी में फिर मिल जाते हैं। फिर तू अपनी ओर से सांस भेजता है, और वे सिरजे जाते हैं; और तू धरती को नया कर देता है।” यहाँ हम देखते हैं कि जब हम मर जाते हैं तो सांस को ईश्वर के पास ले जाया जाता है जैसे कि सभोपदेशक 12: 7 में हम देखते हैं कि आत्मा मृत्यु पर लौट आती है और इस प्रकार यह दर्शाती है कि इन दो शब्दों का एक ही वस्तु से तात्पर्य है।

एक और स्पष्ट उदाहरण है अय्यूब 27: 3, “क्योंकि अब तक मेरी सांस बराबर आती है, और ईश्वर का आत्मा मेरे नथुनों में बना है।” इसलिए, जब सुलैमान ने आत्मा को ईश्वर के पास लौटने का वर्णन किया, तो वह सांस का हवाला दे रहा था, क्योंकि वह वही थी जो ईश्वर ने शुरुआत में दी थी, और इसलिए, यह केवल एक चीज थी जो अब देने वाले के पास “वापस” जा सकती थी। मृत्यु पर ईश्वर के पास लौटने वाली आत्मा जीवन की सांस है या जीवन की ईश्वरीय चिंगारी है। पवित्रशास्त्र में कहीं भी किसी व्यक्ति के मरने के बाद “आत्मा” का जीवन, ज्ञान या भावना नहीं है। यह “जीवन की सांस” है और इससे ज्यादा कुछ नहीं।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

More answers: