यीशु मसीह के स्वभाव और सेवकाई के बारे में बाइबल हमें क्या बताती है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

बाइबल विश्वासियों को यीशु मसीह के स्वभाव और सेवकाई को आंशिक रूप से समझने में सक्षम बनाने के लिए पर्याप्त जानकारी प्रदान करती है। आइए इन सत्यों की जांच करें:

परमेश्वरत्व

ईश्वरत्व, या त्रिएक, तीन व्यक्तियों से मिलकर बना है – अनन्त पिता, प्रभु यीशु मसीह, अनन्त पिता का पुत्र, और पवित्र आत्मा (मत्ती 28:19; यूहन्ना 1:1, 2; 6:27; 14: 16, 17, 26; प्रेरितों के काम 5:3, 4; इफि0 4:4-6; इब्रा 1:1-3, 8; यूहन्ना 1:1-3, 14)।

मसीह का ईश्वरत्व और पूर्व-अस्तित्व

यीशु मसीह शब्द के अंतिम अर्थों में – प्रकृति में, ज्ञान में, अधिकार में, और शक्ति में परमेश्वर है (यशा. 9:6; मीका 5:2; यूहन्ना 1:1-3; 8:58; 14:8 -11; कुलुसियों 1:15-17; 2:9; इब्रानियों 1:8; मीका 5:2; मत्ती 1:1, 23; लूका 1:35; यूहन्ना 1:1–3; 16: 28; फिलिपियों . 2:6–8; कुलुसियों 2:9)।

मसीह की मानवता

प्रभु यीशु मसीह एक वास्तविक मनुष्य था, सिवाय इसके कि वह “पाप को न जानता था” (2 कुरिं. 5:21; लूका 24:39; यूहन्ना 1:14; रोमियों 1:3, 4; 5:15; गलातियों 4 :4; फिलिपियों 2:7; 1 तीमु. 2:5; इब्रा. 2:14, 17; 1 यूहन्ना 1:1; 4:2; 2 यूहन्ना 7; मत्ती 1:23; यूहन्ना 1:14; फिलिपियों 2:6–8)।

मसीह का अवतार

अवतार एक व्यक्ति, यीशु मसीह में दिव्य और मानव स्वभाव का एक सच्चा, पूर्ण मिलन था। प्रत्येक प्रकृति, दूसरे से अलग संरक्षित की गई थी (मत्ती 1:20; लूका 1:35; यूहन्ना 1:14; फिलिपियों 2:5-8; 1 तीमु 3:16; 1 यूहन्ना 4:2, 3; मत्ती 1:18; यूहन्ना 1:14; 16:28; फिलिपियों 2:6-8)।

मसीह की अधीनता

यीशु मसीह ने स्वेच्छा से देहधारण के समय मानव स्वभाव की सीमाओं को सहन किया और अपनी सांसारिक सेवकाई के दौरान स्वयं को पिता के अधीन कर दिया (भजन 40:8; मत्ती 26:39; यूहन्ना 3:16; 4:34; 5:19, 30; 12:49; 14:10; 17:4, 8; 2 कुरि 8:9; फिलिपियों 2:7, 8; इब्रानियों  2:9; लूका 1:35; 2:49; यूहन्ना 3:16; 4 :34; फिलिपियों 2:7, 8)।

मसीह की पापरहित पूर्णता

यद्यपि प्रलोभन के लिए उत्तरदायी और “सब बातों में हमारी नाईं परखा गया,” फिर भी यीशु पूरी तरह से “निर्दोष” था (मत्ती 4:1-11; रोमि. 8:3, 4; 2 कुरिं. 5:21; इब्रा. 2:10; 4:15; 1 पतरस 2:21, 22; 1 यूहन्ना 3:5; मत्ती 4:1-11; 26:38, 41; लूका 2:40, 52; इब्रा 2:17; 4 :15)।

मसीह की उपनियुक्‍त मृत्यु

यीशु मसीह के बलिदान ने सभी लोगों के पापों के लिए पूर्ण प्रायश्चित प्रदान किया (यशा. 53:4–6; यूहन्ना 3:14–17; 1 कुरिं. 15:3; इब्रा. 9:14; 1 पतरस 3:18; 4 :1; 1 यूहन्ना 2:2; यशायाह 53:4; मत्ती 16:13)।

मसीह का पुनरुत्थान

अपने ईश्वरत्व में, मसीह के पास न केवल अपना जीवन देने की शक्ति थी, बल्कि उसे फिर से लेने की शक्ति थी, जब उसके पिता द्वारा कब्र से पुनर्जीवित किया गया था (यूहन्ना 10:18; प्रेरितों 13:32, 33; रोमियों 1:3, 4; 1 कुरि. 15:3–22; इब्रा. 13:20; 1 पतरस 1:3)।

मसीह का स्वर्गारोहण

उद्धारक अपनी महिमामयी देह में स्वर्ग पर चढ़ा ताकि वह विश्वासियों की ओर से सेवा कर सके (मरकुस 16:19; लूका 24:39; यूहन्ना 14:1-3; 16:28; 20:17; प्रेरितों के काम 1:9-11 रोम. 8:34; 1 तीमु. 3:16; इब्रा. 7:25; 8:1, 2; 9:24; 1 यूहन्ना 2:1, 2; प्रेरितों के काम 1:9-11)।

मसीह का उत्थान

स्वर्ग में लौटने पर, मसीह ने अपने देहधारण से पहले पिता के साथ अपनी स्थिति को फिर से शुरू किया (मत्ती 28:18; यूहन्ना 12:23; 17:5; इफि0 1:19–22; फिलिपियों 2:8, 9) ; कुलुसियों 1:18; 1 तीमु 2:5; इब्रानियों 1:3; 2:9; 1 पतरस 1:11; फिलिपियों 2:9)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या मसीह ने उसकी ईश्वरीयता को शून्य कर दिया था जब वह मनुष्य बना?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)कुछ लोग दावा करते हैं कि फिलिप्पियों 2:6,7 के अनुसार, जब वह धरती पर पैदा हुआ था, तब मसीह ने ईश्वरीयता से “अपने…