यीशु के लहू के माध्यम से लोग क्या प्राप्त कर सकते हैं?

This page is also available in: English (English)

यीशु के लहू के माध्यम से लोग क्या प्राप्त कर सकते हैं यह माप से परे है।

मानव जाति के छुटकारे के लिए भुगतान की गई अनंत कीमत असीम है। यह न केवल परमेश्वर के अतुलनीय प्रेम को प्रदर्शित करता है, बल्कि मनुष्यों पर उनकी असीम दया भी दर्शाता है।

“क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (यूहन्ना 3:16)।

यीशु का लहू छुटकारे का मार्ग प्रदान करता है

“क्योंकि तुम जानते हो, कि तुम्हारा निकम्मा चाल-चलन जो बाप दादों से चला आता है उस से तुम्हारा छुटकारा चान्दी सोने अर्थात नाशमान वस्तुओं के द्वारा नहीं हुआ। पर निर्दोष और निष्कलंक मेम्ने अर्थात मसीह के बहुमूल्य लोहू के द्वारा हुआ।” (1 पतरस 1:18-19)।

यीशु का लहू धर्मीकरण करता है

“परन्तु उसके अनुग्रह से उस छुटकारे के द्वारा जो मसीह यीशु में है, सेंत मेंत धर्मी ठहराए जाते हैं। उसे परमेश्वर ने उसके लोहू के कारण एक ऐसा प्रायश्चित्त ठहराया, जो विश्वास करने से कार्यकारी होता है, कि जो पाप पहिले किए गए, और जिन की परमेश्वर ने अपनी सहनशीलता से आनाकानी की; उन के विषय में वह अपनी धामिर्कता प्रगट करे” (रोमियों 3: 24-25)।

यीशु का लहू पवित्रीकरण की अनुमति देता है

“इसी कारण, यीशु ने भी लोगों को अपने ही लोहू के द्वारा पवित्र करने के लिये फाटक के बाहर दुख उठाया” (इब्रानियों 13:12)।

यीशु का लहू पापों की क्षमा प्रदान करता है

“हम को उस में उसके लोहू के द्वारा छुटकारा, अर्थात अपराधों की क्षमा, उसके उस अनुग्रह के धन के अनुसार मिला है” (इफिसियों 1: 7)।

यीशु का लहू पाप से शुद्धता के लिए अनुमति देता है

“पर यदि जैसा वह ज्योति में है, वैसे ही हम भी ज्योति में चलें, तो एक दूसरे से सहभागिता रखते हैं; और उसके पुत्र यीशु का लोहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है” (1 यूहन्ना 1: 7)।

यीशु का लहू हमें पापों से मुक्ति का अधिकार देता है

“और यीशु मसीह की ओर से, जो विश्वासयोग्य साक्षी और मरे हुओं में से जी उठने वालों में पहिलौठा, और पृथ्वी के राजाओं का हाकिम है, तुम्हें अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे: जो हम से प्रेम रखता है, और जिस ने अपने लोहू के द्वारा हमें पापों से छुड़ाया है” (प्रकाशितवाक्य 1: 5)।

यीशु का लहू सृष्टिकर्ता के साथ शांति देता है

“और उसके क्रूस पर बहे हुए लोहू के द्वारा मेल मिलाप करके, सब वस्तुओं का उसी के द्वारा से अपने साथ मेल कर ले चाहे वे पृथ्वी पर की हों, चाहे स्वर्ग में की” (कुलुस्सियों 1:20)।

यीशु का लहू स्वर्गीय पिता तक पहुँचाता है

“सो हे भाइयो, जब कि हमें यीशु के लोहू के द्वारा उस नए और जीवते मार्ग से पवित्र स्थान में प्रवेश करने का हियाव हो गया है। जो उस ने परदे अर्थात अपने शरीर में से होकर, हमारे लिये अभिषेक किया है” (इब्रानी 10: 19-20) )।

यीशु का लहू आत्मिक चंगाई प्राप्त करने की अनुमति देता है

“वह आप ही हमारे पापों को अपनी देह पर लिए हुए क्रूस पर चढ़ गया जिस से हम पापों के लिये मर कर के धामिर्कता के लिये जीवन बिताएं: उसी के मार खाने से तुम चंगे हुए” (1 पतरस 2:24)।

यीशु का लहू शैतान पर विजय प्रदान करता है

“और वे मेम्ने के लोहू के कारण, और अपनी गवाही के वचन के कारण, उस पर जयवन्त हुए, और उन्होंने अपने प्राणों को प्रिय न जाना, यहां तक कि मृत्यु भी सह ली” (प्रकाशितवाक्य 12:11)।

यीशु का लहू एक शुद्ध विवेक देता है

“तो मसीह का लोहू जिस ने अपने आप को सनातन आत्मा के द्वारा परमेश्वर के साम्हने निर्दोष चढ़ाया, तुम्हारे विवेक को मरे हुए कामों से क्यों न शुद्ध करेगा, ताकि तुम जीवते परमेश्वर की सेवा करो” (इब्रानियों 9:14)।

अंत में, यीशु का लहू हमें अनंत जीवन देता है

“मैं ने उस से कहा; हे स्वामी, तू ही जानता है: उस ने मुझ से कहा; ये वे हैं, जो उस बड़े क्लेश में से निकल कर आए हैं; इन्होंने अपने अपने वस्त्र मेम्ने के लोहू में धो कर श्वेत किए हैं। इसी कारण वे परमेश्वर के सिंहासन के साम्हने हैं, और उसके मन्दिर में दिन रात उस की सेवा करते हैं; और जो सिंहासन पर बैठा है, वह उन के ऊपर अपना तम्बू तानेगा। वे फिर भूखे और प्यासे न होंगे: ओर न उन पर धूप, न कोई तपन पड़ेगी। क्योंकि मेम्ना जो सिंहासन के बीच में है, उन की रखवाली करेगा; और उन्हें जीवन रूपी जल के सोतों के पास ले जाया करेगा, और परमेश्वर उन की आंखों से सब आंसू पोंछ डालेगा” (प्रकाशितवाक्य 7: 14-17)।

हम यीशु पर प्रतिदिन अपना विश्वास रखें और हमारे उद्धार के लिए उसके बलिदान में विश्वास करें। अगर हम सिर्फ परमेश्वर से मांगे, तो वह हमारे लेखे में यीशु का लहू लगायेगा। हमें इन वादों पर भरोसा हो सकता है।

परमेश्वर आपको आशीष दे!

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

राजा ने उस व्यक्ति को दंडित क्यों किया जो विवाह समारोह में विवाह के वस्त्र में नहीं था?

This page is also available in: English (English)“जब राजा जेवनहारों के देखने को भीतर आया; तो उस ने वहां एक मनुष्य को देखा, जो ब्याह का वस्त्र नहीं पहिने था।…
View Post

क्या एक मसीही परमेश्वर के पक्ष से दूर हो सकता है?

This page is also available in: English (English)एक मसीही निश्चित रूप से परमेश्वर के पक्ष से दूर हो सकता है। एक मसीही को मसीह के प्यार (1 यूहन्ना 4:8), उसके…
View Post