यीशु के इस कथन से क्या अभिप्राय था, “कोई नया दाखरस पुरानी मशकों में नहीं डालता”?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

यीशु के इस कथन से क्या अभिप्राय था, “कोई नया दाखरस पुरानी मशकों में नहीं डालता”?

यीशु ने कहा, “नये दाखरस को पुरानी मश्कों में कोई नहीं

यीशु के इस कथन से क्या अभिप्राय था, “कोई नया दाखरस पुरानी मशकों में नहीं डालता”?

यीशु ने कहा, “नये दाखरस को पुरानी मश्कों में कोई नहीं

रखता, नहीं तो दाखरस मश्कों को फाड़ देगा, और दाखरस और मश्कें दोनों नष्ट हो जाएंगी; परन्तु दाख का नया रस नई मश्कों में भरा जाता है” (मरकुस 2:22)।

इस दृष्टांत में, “नई दाखरस” लोगों के दिलों में काम करने वाले परमेश्वर के जीवित सत्य का प्रतिनिधित्व करती है। वाक्यांश “नई दाखरस” उस दाखरस के लिए स्थिर है जिसमें खमीर ने अपना काम शुरू नहीं किया है, या जिसमें काम शुरू हो गया है लेकिन पूरा नहीं हुआ है।

प्राचीन दिनों में, दाखरस को मशकों में रखा जाता था, जो भेड़ या बकरियों की खाल होती थी, जिसके पैरों की त्वचा सिल दी जाती थी, और गर्दन बोतल के मुंह के रूप में काम करती थी। “पुरानी बोतलें” अपना मूल लचीलापन खो देती हैं और सूखी और सख्त हो जाती हैं। और यह यीशु के समय में यहूदियों की स्थिति का प्रतिनिधित्व करता था।

यीशु की कट्टरपंथी शिक्षाएं यहूदी धर्म की अनुचित परंपराओं के अनुरूप नहीं हो सकतीं। यहूदी धर्म के मृत रूपों के भीतर मसीही धर्म को शामिल करने और मसीही धर्म को यहूदी परंपराओं में समेटने के लिए मजबूर करके दोनों को एकजुट करने का कोई भी प्रयास सफल नहीं होगा।

यीशु ने सिखाया कि लोगों द्वारा एक बार अपनाए गए स्वर्ग के राज्य के मूल्यों से जीवन में बदलाव आएगा। यह पुराने तरीकों से दूर परिवर्तन और मसीह की समानता में वृद्धि में खिलेगा (मत्ती 5:2)।

इस चित्र के उपयोग से मसीह ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले के शिष्यों को यह स्पष्ट करने का प्रयास किया कि यहूदी परंपरा के घिसे-पिटे पालन के साथ स्वर्ग के राज्य की खुशखबरी को जोड़ने की कोशिश करना बेकार है।

पुराने के साथ नए को जोड़ने का प्रयास दोनों को नष्ट कर देगा। सुसमाचार की “दाखरस” गिरा दी जाएगी और यहूदी धर्म की बोतलें खराब हो जाएंगी और उपयोग के लायक नहीं रह जाएंगी।

 

“नई दाखरस” द्वारा सुसमाचार का प्रतिनिधित्व और खमीरपन की प्रक्रिया द्वारा इसके कार्य की तुलना मूल रूप से “खमीर” के दृष्टांत से की जाती है, लेकिन एक अलग परिणाम पर जोर देता है (मत्ती 13:33)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: