यहोवा ने केवल यहोशू और कालेब को ही प्रतिज्ञा किए हुए राष्ट्र में प्रवेश करने की अनुमति क्यों दी?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

मिस्र से लाए गए इस्राएलियों को विश्वास नहीं था कि प्रभु उन्हें वादा किए गए देश में ले जा सकता है। केवल यहोशू और कालेब को ही ऐसा विश्वास था। उन सभी चमत्कारों के बाद जो प्रभु ने अपने बच्चों को गुलामी से निकालने के लिए किया था – दस विपत्तियाँ, लाल सागर को विभाजित करना, और उन्हें स्वर्ग से रोटी देना – इस्त्रााएलियों ने अभी भी बड़बड़ाया और विश्वास नहीं किया। “इस बात पर भी तुम ने अपने उस परमेश्वर यहोवा पर विश्वास नहीं किया, जो तुम्हारे आगे आगे इसलिये चलता रहा, कि डेरे डालने का स्थान तुम्हारे लिये ढूंढ़े, और रात को आग में और दिन को बादल में प्रगट हो कर चला, ताकि तुम को वह मार्ग दिखाए जिस से तुम चलो” (व्यवस्थाविवरण 1:32,33)।

और जब परमेश्वर उन्हें वादा किए गए देश की सीमाओं पर लाया, तो इस्राएलियों ने देश की स्थिति की जाँच करने के लिए 12 भेदी भेजे। उनमें से दस यह संदेह कहते हुए वापस आ गए कि देश का अधिकारी होना असंभव है। केवल यहोशू और कालेब ने बताया कि परमेश्वर निश्चित रूप से उन्हें अपने शत्रुओं पर जीत दिला सकता है। उन्होंने कहा, “हम अभी चढ़ के उस देश को अपना कर लें; क्योंकि नि:सन्देह हम में ऐसा करने की शक्ति है” (गिनती 13:30)।

सभी लोगों ने दस भेदियों के नकारात्मक सुझावों के साथ विश्वास किया और उन्होंने “अपने अपने डेरे में यह कहकर कुड़कुड़ाने लगे, कि यहोवा हम से बैर रखता है, इस कारण हम को मिस्र देश से निकाल ले आया है, कि हम को एमोरियों के वश में करके सत्यनाश कर डाले” (व्यवस्थाविवरण 1:27)।

उनके अविश्वास ने उन्हें वादा किए गए देश के प्रवेश द्वार को खो दिया। और प्रभु ने कहा, “कि निश्चय इस बुरी पीढ़ी के मनुष्यों में से एक भी उस अच्छे देश को देखने न पाऐगा, जिसे मैं ने उनके पितरों को देने की शपथ खाई थी। यपुन्ने का पुत्र कालेब ही उसे देखने पाऐगा, और जिस भूमि पर उसके पाँव पड़े हैं उसे मैं उसको और उसके वंश को भी दूंगा; क्योंकि वह मेरे पीछे पूरी रीति से हो लिया है। और मुझ पर भी यहोवा तुम्हारे कारण क्रोधित हुआ, और यह कहा, कि तू भी वहाँ जाने न पाएगा; नून का पुत्र यहोशू जो तेरे साम्हने खड़ा रहता है, वह तो वहाँ जाने पाएगा; सो तू उसको हियाव दे, क्योंकि उस देश को इस्राएलियों के अधिकार में वही कर देगा” (व्यवस्थाविवरण 1:35-38)।

परमेश्वर के वादों पर विश्वास करने में असफलता से उसके और मनुष्यों के प्रति उसकी अच्छाई का अपमान होता है। “और विश्वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है” (इब्रानियों 11:6)। विश्वासियों को “और निश्चय जाना, कि जिस बात की उस ने प्रतिज्ञा की है, वह उसे पूरी करने को भी सामर्थी है” (रोमियों 4:21)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

 

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

More answers: