Answered by: BibleAsk Hindi

Date:

यहेजकेल की पुस्तक में ओफ़ानिम क्या हैं?

यहेजकेल की पुस्तक में ओफ़ानिम

ओफ़ानिम “पहिए” के लिए पुराना इब्रानी शब्द है। एकवचन ओफन है। ओफ़ानिम शब्द का उल्लेख यहेजकेल की पुस्तक में ईश्वर के सिंहासन के संबंध में किया गया है, जो पहियों (ओफ़ानिम) पर स्थापित है और चार स्वर्गदूतों के नेतृत्व में है जैसा कि निम्नलिखित अंशों में देखा गया है:

“15 जब मैं जीवधारियों को देख ही रहा था, तो क्या देखा कि भूमि पर उनके पास चारों मुखों की गिनती के अनुसार, एक एक पहिया था।

16 पहियों का रूप और बनावट फीरोजे की सी थी, और चारों का एक ही रूप था; और उनका रूप और बनावट ऐसी थी जैसे एक पहिये के बीच दूसरा पहिया हो।

17 चलते समय वे अपनी चारों अलंगों की ओर चल सकते थे, और चलने में मुड़ते नहीं थे।

18 और उन चारों पहियों के घेरे बहुत बड़े और डरावने थे, और उनके घेरों में चारों ओर आंखें ही आंखें भरी हुई थीं।

19 और जब जीवधारी चलते थे, तब पहिये भी उनके साथ चलते थे; और जब जीवधारी भूमि पर से उठते थे, तब पहिये भी उठते थे।

20 जिधर आत्मा जाना चाहती थी, उधर ही वे जाते, और और पहिये जीवधारियों के साथ उठते थे; क्योंकि उनकी आत्मा पहियों में थी।

21 जब वे चलते थे तब ये भी चलते थे; और जब जब वे खड़े होते थे तब ये भी खड़े होते थे; और जब वे भूमि पर से उठते थे तब पहिये भी उनके साथ उठते थे; क्योंकि जीवधारियों की आत्मा पहियों में थी।” (यहेजकेल 1:15-21)

“9 तब मैं ने देखा, कि करूबें के पास चार पहिये हैं; अर्थात एक एक करूब के पास एक एक पहिया है, और पहियों का रूप फीरोज़ा का सा है।

10 और उनका ऐसा रूप है, कि चारों एक से दिखाई देते हैं, जैसे एक पहिये के बीच दूसरा पहिया हो।

11 चलने के समय वे अपनी चारों अलंगों के बल से चलते हैं; और चलते समय मुड़ते नहीं, वरन जिधर उनका सिर रहता है वे उधर ही उसके पीछे चलते हैं और चलते समय वे मुड़ते नहीं।

12 और पीठ हाथ और पंखों समेत करूबों का सारा शरीर और जो पहिये उनके हैं, वे भी सब के सब चारों ओर आंखों से भरे हुए हैं।

13 मेरे सुनते हुए इन पहियों को चक्कर कहा गया, अर्थात घूमने वाले पहिये” (यहेजकेल 10:9-13)।

पहिए और स्वर्गदूत

पहियों के भीतर पहिए हैं (ओफ़ानिम) यह दर्शाता है कि परमेश्वर का सिंहासन बिना मुड़े किसी भी दिशा में आगे बढ़ सकता है। जीवित प्राणी, जिनकी पहचान “करूबों” के रूप में की जाती है, के भी प्रत्येक दिशा में चार मुख होते हैं, यह दर्शाता है कि वे बिना मुड़े चल सकते हैं। इन चार जीवित प्राणियों को देखते हुए, भविष्यद्वक्ता ने देखा कि पहिए पृथ्वी को छूते हैं, जबकि करूब एक बादल में दिखाई देते हैं (यहेजकेल 1:4, 5)।

एक शाब्दिक भविष्यद्वाणी नहीं

एक प्रतीकात्मक भविष्यद्वाणी की व्याख्या करने में, उसी आत्मा को अनुमति देना आवश्यक है जिसने दर्शन को इसके प्रतीकों की व्याख्या करने की अनुमति दी थी। जहाँ ऐसी व्याख्या का अभाव है, वहाँ बाइबल विद्यार्थियों को अर्थ के बारे में अनुमान लगाने के लिए छोड़ दिया जाता है। जिस प्रकार दृष्टान्त को शाब्दिक रूप से नहीं लिया जाना चाहिए, उसी प्रकार प्रतीकात्मक भविष्यद्वाणी को शाब्दिक रूप से नहीं लिया जाना चाहिए। दृष्टान्तों की तरह, हमें यह देखना चाहिए कि दृष्टि का सामान्य उद्देश्य क्या है, और दृष्टि के किन पहलुओं का उद्देश्य परमेश्वर की सच्चाई को दिखाना है।

जीवित प्राणी स्वर्गीय प्राणियों का प्रतिनिधित्व करते हैं लेकिन यह कल्पना करना आवश्यक नहीं है कि परमेश्वर की सेवा में चार सिर वाले, चार पंखों वाले प्राणी हैं। इस भविष्यसूचक दृष्टि के लिए चुने गए रूप केवल स्वर्गीय दूतों को उनके विभिन्न ईश्वरीय कर्तव्यों और जिम्मेदारियों में प्रतिनिधित्व करने के लिए दिए गए थे।

दर्शन का उद्देश्य

इस भविष्यद्वाणी की दृष्टि को यहूदियों को एक ऐसे समय में आशा देने के संदेश के रूप में समझा जाना चाहिए जब उनकी अधिकांश भूमि बार-बार दुश्मन के हमलों से नष्ट हो गई थी और उनके कई लोग पहले से ही दुश्मन द्वारा कैदी थे। इन सताए हुए लोगों को ऐसा लग रहा था कि परमेश्वर का नियंत्रण नहीं है। शत्रु का कहर उन्हें ऐसे दिखाई दे रहा था मानो परमेश्वर अब उनसे प्रेम नहीं करता। वे समग्र तस्वीर को देखने में विफल रहे और कैसे परमेश्वर वास्तव में अपनी ईश्वरीय इच्छा को लाने के लिए इतिहास के पाठ्यक्रम को खत्म कर रहे थे।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More Answers: