यशायाह 4:1 की सात स्त्री क्या दर्शाती हैं?

Author: BibleAsk Hindi


“और उस समय सात स्त्रियां एक पुरूष को पकड़कर कहेंगी कि रोटी तो हम अपनी ही खाएंगी, और वस्त्र अपने ही पहिनेंगी, केवल हम तेरी कहलाएं; हमारी नामधराई को दूर कर” (यशायाह 4:1)।

यशायाह 3:16 से 4:1 का संदेश मूल रूप से नबी के अपने दिन में रहने वाले यरूशलेम के लोगों को संबोधित किया गया था। युद्ध के दौरान, पुरुषों को बंदी बना दिया जाता है या उनकी मृत्यु हो जाती है। इससे पुरुषों की तुलना में स्त्रियों की संख्या में वृद्धि होगी।

इसके बाद स्त्री उन कुछ पुरुषों से अपील करती थीं जो उनसे विवाह करे। इन स्त्रियों में से एक, एक विवाह के रूप में प्रदान करने के लिए सुरक्षा और समर्थन देनेवाले एक व्यक्ति की तलाश करेगी। वे अपने स्वयं के भोजन और वस्त्रों के लिए काम करने की इच्छा की घोषणा करेंगी जो आम तौर पर पुरुषों की जिम्मेदारी होती है (निर्गमन 21:10)।

यशायाह 4:1 आज सीधे कलिसिया पर लागू होता है। “सात स्त्री” नाममात्र के मसीहियों का प्रतिनिधित्व करती हैं, और “एक व्यक्ति,” मसीह। ये स्त्री(कलिसिया) मसिहियत को “धारण” करती हैं, निष्ठा में नहीं (मति 25:1-13), लेकिन ऊपरी सतह पर, पाखंडी, और केवल व्यक्तिगत लाभ और प्राप्ति के लिए। “सात स्त्री” मसिहियत में धार्मिक समूहों का भी उल्लेख कर सकती हैं, जिनमें “भक्ति का भेष” है, लेकिन “उस की शक्ति” से इनकार करते हैं (2 तीमुथियुस 3: 5)। उनमें आत्मिकता का कोई सच्चा सार नहीं है।

“सात स्त्री” अपनी “रोटी” खाने का प्रस्ताव रखती हैं (पुरुषों की परंपराओं का पालन) मसीह की सच्चाई को “स्वर्ग की सच्ची रोटी” (यूहन्ना 6:32), और उनके “पहनने” के लिए स्वीकार करें अपना परिधान”-यशायाह 64:6 के “मैले चिथड़ों” के बजाय मसीह की धार्मिकता के परिपूर्ण वस्त्र को ओढ़ें (मत्ती 22:11-12)। इस प्रकार, यशायाह 4:1 धार्मिक जीवन में निष्ठा के मूल्य पर जोर देता है, जैसा कि स्व-धार्मिकता  और पाखंड के विपरीत है।

इसलिए, यीशु इन मसीहियों को बुलाता है “इसी लिये मैं तुझे सम्मति देता हूं, कि आग में ताया हुआ सोना मुझ से मोल ले, कि धनी हो जाए; और श्वेत वस्त्र ले ले कि पहिन कर तुझे अपने नंगेपन की लज्ज़ा न हो; और अपनी आंखों में लगाने के लिये सुर्मा ले, कि तू देखने लगे” (प्रकाशितवाक्य 3:18)। यहां, सोना विश्वास का प्रतिनिधित्व करता है और आंख का सुर्मा परमेश्वर की दया का प्रतिनिधित्व करता है जो मसीही को सच्चाई और त्रुटि के बीच अंतर करने में सक्षम बनाता है और एक धर्मी जीवन जीने की शक्ति प्रदान करता है।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment