यदि पाप कभी संसार में प्रवेश नहीं करता, तो क्या मानवजाति मृत्यु से सुरक्षित होती?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

यदि पाप कभी संसार में नहीं आया, तो जीवन उस जीवन से बहुत अलग होता जिसे हम अभी जानते हैं। संसार के निर्माण के समय, परमेश्वर ने सृष्टि के प्रत्येक दिन के बाद घोषणा की कि उसने जो बनाया वह अच्छा था (पद 4, 10, 12, 18, 21, 25)। लेकिन अंतिम दिन में, उसने घोषणा की कि उसका सारा संचयी कार्य बहुत अच्छा था (उत्पत्ति 1:31)। सृष्टि को सृष्टिकर्ता के हाथ से पूर्णता की स्थिति में लाया गया था – इसमें बुराई का कोई निशान नहीं है।

आदम और हव्वा को पीड़ा, दर्द, बीमारी, युद्ध… या मृत्यु के बारे में पता नहीं था। वे परमेश्वर, एक दूसरे और सारी सृष्टि के साथ पूर्ण शांति और सामंजस्य में रहते थे। प्रकृति उनके अधीन थी और उन्होंने उस पर प्रेम से शासन किया।

यही सिद्ध जीवन नई पृथ्वी में छुटकारा पाने वालों का भविष्य का भाग्य होगा। छुटकारा पाने वालों के पास अनन्त आनन्द होगा (यशायाह 35:10)। क्‍योंकि वे फिर न दु:ख और न मृत्यु का अनुभव करेंगे (प्रकाशितवाक्य 21:4)। और यदि कोई अपने आप को चोट पहुँचाता है, तो जीवन के वृक्ष के पत्ते उसे ठीक कर देंगे (प्रकाशितवाक्य 22:2)।

छुटकारा पाने वालों की परमेश्वर के साथ मधुर संगति होगी (यशायाह 66:23) और उनके साथियों के साथ (जकर्याह 8:5) और पूर्ण सामंजस्य में रहेंगे। वे जीवन के उन सभी सुखों का आनंद लेंगे जो परमेश्वर ने उनके लिए तैयार किए हैं (भजन संहिता 16:11)। वे प्रकृति की सुंदरता से प्रसन्न होंगे (यशायाह 35:1) और परमेश्वर के प्राणियों की सराहना करेंगे (यशायाह 11:6)। वे अपने हाथों के काम का आनंद लेंगे और अपने सपनों का घर बनाएंगे (यशायाह 65:21-22)।

नई पृथ्वी की वास्तविकताओं, अवर्णनीय आश्चर्य और सुंदरता, परमेश्वर के महिमा के राज्य का आनंद, और बचाए गए लोगों के अन्नत घर को हमारे सीमित दिमाग द्वारा पूरी तरह से नहीं समझा जा सकता है। ऐसा सारा ज्ञान किसी भी चीज़ से बहुत परे है जिसे हम अभी जान सकते हैं। बाइबल उस जीवन का इस प्रकार वर्णन करती है, “जो बातें आंख ने नहीं देखी, और न कानों ने सुनीं, और जो बातें मनुष्य के मन में नहीं उतरीं, वे बातें जो परमेश्वर ने अपने प्रेम रखनेवालों के लिए तैयार की हैं” (1 कुरिन्थियों 2:9)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या यीशु क्रूस पर मर गया था? कुरान कहता है, नहीं।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)प्रश्न: कुरान कहता है कि यीशु क्रूस पर नहीं मरे? तो आप क्यों मानते हैं कि वह मरा? उत्तर: आप जिस कुरान का…

हम क्यों कहते हैं, परमेश्वर ने अपना पुत्र दे दिया, जबकि वह जानता था कि वह उसे वापस ले आएगा?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)वाक्यांश परमेश्वर ने “अपना एकलौता पुत्र दिया” (यूहन्ना 3:16) का सीधा सा अर्थ है कि परमेश्वर ने अपने पुत्र को मनुष्य के पाप…