मैं सबसे दुष्ट पापियों में से एक हूं। क्या मेरे लिए आशा है?

Author: BibleAsk Hindi


बाइबल सिखाती है कि सबसे दुष्ट पापी के लिए आशा है। यहूदा का राजा मनश्शे बहुत दुष्ट राजा था। 2 राजा 21 में, बाइबल बताती है कि मनश्शे ने “प्रभु की दृष्टि में बुराई की” (2)। उसने “ज्योतिष का अभ्यास किया, जादू टोना का इस्तेमाल किया, और आत्माओं और माध्यमों से परामर्श किया और शुभ-अशुभ मुहुर्तों को मानता, और टोना करता, और ओझों और भूत सिद्धि वालों से व्यवहार करता था; (पद 6)। और उसने इतनी दुष्टता की कि अपने ही बच्चों को मूर्तियों के लिए बलिदान के रूप में अर्पित कर दिया “फिर उसने अपने बेटे को आग में होम कर के चढ़ाया” (पद 6)। और “अशेरा की जो मूरत उसने खुदवाई, उसको उसने उस भवन में स्थापित किया” (पद 7)। और उसने “और जितनी बुराइयां एमोरियों ने जो उस से पहिले थे की थीं, उन से भी अधिक बुराइयां कीं; और यहूदियों से अपनी बनाई हुई मूरतों की पूजा करवा के उन्हें पाप में फंसाया है” (पद 11)। इसके अलावा, बाइबल बताती है कि मनश्शे ने “वरन निर्दोषों का खून बहुत बहाया, यहां तक कि उसने यरूशलेम को एक सिरे से दूसरे सिरे तक खून से भर दिया” (पद 16)। ऐसा लगता था कि राजा मनश्शे, परमेश्वर की ओर मुड़ने की आशा से परे था।

लेकिन, उसकी दया में प्रभु ने अश्शूर के राजा को यहूदा के साथ युद्ध करने के लिए भेजा। अश्शूरियों ने युद्ध जीत लिया और राजा मनश्शे को बंदी बना लिया और उसे बाबुल के राष्ट्र पर हुक और कांस्य लाने के लिए ले गए। अपनी बर्बाद स्थिति में, मनश्शे ने धर्मत्याग के अपने पुराने कार्यों की समीक्षा की और पूरे मन से पश्चाताप किया। और बाइबल हमें बताती है, “तब संकट में पड़ कर वह अपने परमेश्वर यहोवा को मानने लगा, और अपने पूर्वजों के परमेश्वर के साम्हने बहुत दीन हुआ, और उस से प्रार्थना की। तब उसने प्रसन्न हो कर उसकी विनती सुनी, और उसको यरूशलेम में पहुंचा कर उसका राज्य लौटा दिया। तब मनश्शे को निश्चय हो गया कि यहोवा ही परमेश्वर है” (2 इतिहास 33:12-13)।

जब परमेश्वर ने उसे राज्य में पुनःस्थापित कर दिया, तो मनश्शे ने अपने पश्चाताप को साबित कर दिया और उसने बहुत सुधार किया: “फिर उसने पराये देवताओं को और यहोवा के भवन में की मूर्ति को, और जितनी वेदियां उसने यहोवा के भवन के पर्वत पर, और यरूशलेम में बनवाई थीं, उन सब को दूर कर के नगर से बाहर फेंकवा दिया। तब उसने यहोवा की वेदी की मरम्मत की, और उस पर मेलबलि और धन्यवादबलि चढ़ाने लगा, और यहूदियों को इस्राएल के परमेश्वर यहोवा की उपासना करने की आज्ञा दी” (2 इतिहास 33: 15-16)।

सबसे दुष्ट पापी के पास भी आशा है। वह परमेश्वर द्वारा स्वीकार किया जा सकता है जब वह ईमानदारी से उसकी मदद से अपने पापों का पश्चाताप करता है। और राजा मनश्शे की कहानी परमेश्वर के सबसे दुष्ट पापी को उसकी तह में स्वीकार करने की इच्छा का सिर्फ एक उदाहरण है। “परन्तु परमेश्वर हम पर अपने प्रेम की भलाई इस रीति से प्रगट करता है, कि जब हम पापी ही थे तभी मसीह हमारे लिये मरा” (रोमियों 5: 8)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment