मैं पशु के चिन्ह को कैसे नकार सकता हूं?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)

प्रकाशितवाक्य 13 में उल्लेख किए गए पशु के चिन्ह पर हमें बहुत सारे सवाल मिलते हैं:

“और उस ने छोटे, बड़े, धनी, कंगाल, स्वत्रंत, दास सब के दाहिने हाथ या उन के माथे पर एक एक छाप करा दी। कि उस को छोड़ जिस पर छाप अर्थात उस पशु का नाम, या उसके नाम का अंक हो, और कोई लेन देन न कर सके” (प्रकाशितवाक्य 13: 16-17)।

प्रकाशितवाक्य की पुस्तक से पता चलता है कि पशु का चिन्ह मसीह के आगमन से पहले अंतिम परीक्षण है। परिणामस्वरूप, जो लोग इस चिन्ह को लेते हैं, वे हैं जो अन्नत जीवन को प्राप्त नहीं करेंगे, बल्कि खो जाएंगे (प्रकाशितवाक्य 14: 9-11)।

इस प्रकार, कई लोग यह जानना चाहते हैं कि पशु के चिन्ह से कैसे बचा जाए। बाइबल हमें इस पर स्पष्ट मार्गदर्शन देती है। हालांकि, उस प्रतिक्रिया को अधिक स्पष्ट करने के लिए पहले उत्तर देने के लिए कुछ प्रश्न हैं। ये प्रश्न इस प्रकार हैं:

1-पशु कौन है?

बाइबल प्रकाशितवाक्य 13 के पशु के कई पहचानने वाले चिन्ह प्रदान करता है। सबसे स्पष्ट है कि ईशनिंदा करना। “और उस ने परमेश्वर की निन्दा करने के लिये मुंह खोला, कि उसके नाम और उसके तम्बू अर्थात स्वर्ग के रहने वालों की निन्दा करे” (प्रकाशितवाक्य 13: 6)। ईश-निंदा एक ऐसे व्यक्ति का कार्य है जो उन्हें स्वयं को परमेश्वर बनाता है (यूहन्ना 10:33)। इस प्रकार, जब सभी राजनीतिक और धार्मिक नेताओं को देखते हैं, तो एकमात्र विश्वव्यापी शक्ति जो इस विवरण पर सटीक बैठती है वह है पोप-तंत्र। केवल पोप-तंत्र एक ऐसी स्थिति रखता है जहां एक आदमी, पोप, पृथ्वी पर परमेश्वर के स्थान पर खड़े होने का दावा करता है। इसके अतिरिक्त, पोप के लिए एक और शीर्षक “यीशु मसीह का विकार” है। विकार का अर्थ है “वह जो किसी के स्थान पर खड़ा” हो या “स्थानापन्न।”

इसका मतलब यह नहीं है कि कैथोलिक कलिसिया के लोग परमेश्वर के लोग नहीं हैं। कैथोलिक कलिसिया का कोई भी सदस्य जो मसीह में एक ईमानदार विश्वासी है, को बचाया जाएगा। अनिवार्य रूप से, यह केवल राजनीतिक-धार्मिक व्यवस्था की बात कर रहा है, न कि इस कलिसिया में एक वफादार विश्वासी के खिलाफ।

कई अन्य संकेतक हैं जो पोप-तंत्र को पशु की शक्ति साबित करते हैं। इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए, कृपया निम्नलिखित लिंक पर विचार करें:

https://bibleask.org/who-is-the-beast-of-revelation-13/.

2-परमेश्वर का चिन्ह क्या है?

परमेश्वर कहता है, “फिर मैं ने उनके लिये अपने विश्रामदिन ठहराए जो मेरे और उनके बीच चिन्ह ठहरें; कि वे जानें कि मैं यहोवा उनका पवित्र करने वाला हूँ” (यहेजकेल 20:12)। “वह मेरे और इस्त्राएलियों के बीच सदा एक चिन्ह रहेगा, क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश और पृथ्वी को बनाया, और सातवें दिन विश्राम करके अपना जी ठण्डा किया” (निर्गमन 31:17)। परमेश्वर का संकेत या चिह्न, सातवें दिन सब्त (उत्पत्ति 2: 2,3; निर्गमन 20: 8-11), सृष्टिकर्ता और उद्धारकर्ता के रूप में शासन करने के लिए उनकी पवित्र शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है।

3-पशु का क्या चिन्ह है?

जैसा कि वर्णित है चूँकि, परमेश्वर के अधिकार और शक्ति का प्रतीक, या चिह्न, उसका पवित्र सातवां सब्त का दिन है, ऐसा लगता है कि परमेश्वर के विरोधी “पशु” का प्रतीक, या चिह्न, भी एक पवित्र दिन हो सकता है, इसकी भविष्यद्वाणी दानिय्येल की पुस्तक में की गई थी। “और वह परमप्रधान के विरुद्ध बातें कहेगा, और परमप्रधान के पवित्र लोगों को पीस डालेगा, और समयों और व्यवस्था के बदल देने की आशा करेगा, वरन साढ़े तीन काल तक वे सब उसके वश में कर दिए जाएंगे” (दानिय्येल 7:25)। जाहिर है, समय को शामिल करने वाली एकमात्र व्यवस्था सब्त आज्ञा है। पोप-तंत्र ने खुले तौर पर घोषणा की है कि उन्होंने सब्त को परमेश्वर की आज्ञा में रविवार को बदल दिया है।

निम्नलिखित एक कैथोलिक कैटकिज़म से एक अनुभाग है:

“प्रश्न: क्या आपके पास यह साबित करने का कोई अन्य तरीका नहीं है कि कलिसिया के पास उपदेश के त्योहारों को प्रतिस्थापित करने की शक्ति है?”

“उतर: उसके पास ऐसी शक्ति नहीं है, तो वह ऐसा नहीं कर सकती थी, जिसमें सभी आधुनिक धर्म-शास्त्री उससे सहमत हों, वह रविवार के पालन के लिए, सप्ताह के पहले दिन, शनिवार के दिन, सातवें दिन, का पालन नहीं कर सकती थी, परिवर्तन जिसके लिए कोई शास्त्र सहमत अधिकार नहीं है” स्टीफन कीनन, ए डॉक्ट्रिन कैटेकिज़म (3 संस्करण, संशोधित न्यू यॉर्क, एडवर्ड डुनिगन एण्ड ब्रदर्स, 1876) पृष्ठ 174।

यहाँ, पोप यह घोषणा कर रहा है कि इसने सप्ताह के पहले दिन (रविवार) के सातवें दिन को सब्त (शनिवार) के पालन से बदल दिया और रविवार को अपने अधिकार के चिह्न, या प्रतीक के रूप में दावा किया। हालाँकि, बाइबल यह घोषणा करती है कि संत ईश्वर की सभी आज्ञाओं (प्रकाशितवाक्य 14:12, मत्ती 19: 7, 1 यूहन्ना 2: 3-4) को मानेंगे। इसमें सातवें दिन का सब्त शामिल है।

4-यदि रविवार को गिरिजाघर गया, क्या मैं खो जाऊंगा?

जिन लोगों ने रविवार को पवित्र के रूप में माना है या रविवार को गिरिजाघर गए हैं वे स्वचालित रूप से चिन्ह प्राप्त नहीं करेंगे। बाइबल कहती है, “इसलिये परमेश्वर आज्ञानता के समयों में अनाकानी करके, अब हर जगह सब मनुष्यों को मन फिराने की आज्ञा देता है। क्योंकि उस ने एक दिन ठहराया है, जिस में वह उस मनुष्य के द्वारा धर्म से जगत का न्याय करेगा, जिसे उस ने ठहराया है और उसे मरे हुओं में से जिलाकर, यह बात सब पर प्रामाणित कर दी है” (प्रेरितों के काम 17: 30-31)। इस प्रकार, परमेश्वर रविवार को उपासना करने के लिए किसी को दंडित नहीं करेंगे जब वे ईमानदारी से उसकी तलाश कर रहे थे। परमेश्वर केवल हमें सच्चाई को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है, जिसके बारे में हमें ज्ञान है।

हालाँकि, बाइबल प्रकाशितवाक्य 14 में कहती है कि तीन स्वर्गदूतों से एक विश्वव्यापी संदेश है (प्रकाशितवाक्य 14: 6-11)। पहला स्वर्गदूत परमेश्वर की सच्ची उपासना के लिए वापसी की घोषणा करता है और सृजनहार के रूप में इस संदेश में सब्त के आदेश का हिस्सा है “और उस ने बड़े शब्द से कहा; परमेश्वर से डरो; और उस की महिमा करो; क्योंकि उसके न्याय करने का समय आ पहुंचा है, और उसका भजन करो, जिस ने स्वर्ग और पृथ्वी और समुद्र और जल के सोते बनाए” (पद 7)। निर्गमन 20:11 देखें।

दूसरे स्वर्गदूत के संदेश में कहा गया है कि झूठी धार्मिक व्यवस्थाओं का जिक्र करते हुए बाबुल गिर गया (प्रकाशितवाक्य 14: 8)। इस संदेश को बाद में दोहराया जाता है, परमेश्वर के लोगों को बाबुल से बाहर आने का आह्वान, या परमेश्वर की आज्ञाओं को तोड़ने वाली कलिसिया (प्रकाशितवाक्य 18: 1-4)।

अंत में, तीसरे स्वर्गदूत का संदेश पशु के चिन्ह को प्राप्त करने के खिलाफ चेतावनी देता है (प्रकाशितवाक्य 14: 9–11)। तब तक, दुनिया को पता चल जाएगा कि रविवार का पालन बाइबल से रहित है जब पशु शक्ति इसे कानून के रूप में लागू करेंगे। उस समय, जो जानबूझकर पशु के संस्थान का समर्थन करने के लिए उसके मानव-निर्मित कानूनों का पालन करते हैं और परमेश्वर के सातवें दिन सब्त आज्ञा (निर्गमन 20: 8-11) की उल्लंघनता करते हैं, उन्हें पशु का चिह्न प्राप्त होगा।

5- क्या चिन्ह भौतिक है?

पशु का चिन्ह माथे या हाथ पर दिया जाएगा। माथा मन का प्रतिनिधित्व करता है (इब्रानियों 10:16)। रविवार को पवित्र रखने के निर्णय द्वारा एक व्यक्ति के माथे में चिन्ह लगाया जाएगा। हाथ काम का प्रतीक है (सभोपदेशक 9:10)। एक व्यक्ति को हाथ में परमेश्वर के पवित्र सब्त पर काम करने या व्यावहारिक कारणों से नागरिक रविवार कानूनों के साथ जाने के द्वारा चिह्नित किया जाएगा। परमेश्वर या पशु के लिए चिन्ह या मुहर लोगों के लिए अदृश्य होगा। वही अवधारणा उन लोगों के लिए सही है जो परमेश्वर की मुहर प्राप्त करते हैं (प्रकाशितवाक्य 7: 3-4, 9: 4)।

6- लोग चिन्ह क्यों लेंगे?

पशु अपने अधिकार को सर्वोच्च के रूप में स्थापित करना चाहते हैं। फिर, पशु परमेश्वर के बच्चों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा और आज्ञा देगा कि “वह कोई खरीद या विक्री नहीं कर सकता है सिर्फ जिसके पास कोई छाप है ” (प्रकाशितवाक्य 13:16-17)। खरीद और बिक्री नहीं करने का यह कानून मूर्ति के हुक्म के अनुपालन को सुरक्षित रखने के प्रयास में लिया जाएगा (प्रकाशितवाक्य 14:1,12)। इस प्रकार, अधिकांश इस चिह्न को सांसारिक सुरक्षा प्राप्त करने के साधन के रूप में प्राप्त करेंगे। हालाँकि, यह अल्पकालिक होगा और उनके उद्धार की कीमत पर होगा (प्रकाशितवाक्य 19:20)।

7-मैं पशु के चिन्ह से कैसे बच सकता हूँ?

इस बिंदु पर, उत्तर स्पष्ट होना चाहिए। “पवित्र लोगों का धीरज इसी में है, जो परमेश्वर की आज्ञाओं को मानते, और यीशु पर विश्वास रखते हैं” (प्रकाशितवाक्य 14:12)। परमेश्वर ऐसे लोगों की इच्छा करता है जो उसके और उसकी आज्ञाओं के प्रति वफादार रहेंगे। यीशु ने कहा, “यदि तुम मुझ से प्रेम रखते हो, तो मेरी आज्ञाओं को मानोगे” (यूहन्ना 14:15)।

फिर भी, इसका अर्थ यह नहीं है कि आज्ञाओं के लिए मनुष्य की व्याख्या। इसके बजाय, यह परमेश्वर के वचन (कुलुस्सियों 2:8, इब्रानियों 4:8-10) के आधार पर विश्वासयोग्य पालन है।

परमेश्वर की आज्ञाओं को मानने का मुख्य बिंदु परमेश्वर और दूसरों के प्रति प्रेम है। यदि परमेश्वर के लिए हमारा प्रेम सर्वोच्च है, तो हम पशु के चिन्ह के खतरे में नहीं होंगे। परिणामस्वरूप, हम परमेश्वर और उसके वचन (इब्रानियों 12: 27-28) के प्रति वफादार रहने के अपने निर्णय में नहीं हिलेंगे। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम प्रार्थना और पवित्रशास्त्र (लूका 21:36) में उसके साथ समय बिताकर परमेश्वर के करीब रहें।

हम अपनी आँखें यीशु पर केन्द्रित रखें और उसके प्रति वफादार रहें। “ये मेम्ने से लड़ेंगे, और मेम्ना उन पर जय पाएगा; क्योंकि वह प्रभुओं का प्रभु, और राजाओं का राजा है: और जो बुलाए हुए, और चुने हुए, ओर विश्वासी उसके साथ हैं, वे भी जय पाएंगे” (प्रकाशितवाक्य 17:14)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या आप प्रकाशितवाक्य अध्याय 17 में “बड़ा बाबुल पृथ्वी की वेश्याओं की माता” कहे जाने वाली वैश्या की पहचान कर सकते हैं?

Table of Contents कौन सी कलिसिया वैश्या होगी?उसने संतों को सताया (पद 6)।वह बैंगनी और किरिमजी कपड़े पहने हुए है (पद 4)।पशु के सात सिर (पद 3)पशु ईशनिंदा का दोषी…
View Answer

क्या आप मुझे समय के अंत तक पिछले ऐतिहासिक घटनाओं की संक्षिप्त भविष्यद्वाणीक रूप-रेखा दे सकते हैं?

This page is also available in: English (English) العربية (Arabic)दानिय्येल की पुस्तक प्रभु मसीह के आगमन तक भविष्यवाणियां की रूपरेखा प्रस्तुत करती है। यह अध्याय 2 में शुरू होता है…
View Answer