मैं अपने पुराने घाव और निशान से कैसे उभर सकता हूं?

Author: BibleAsk Hindi


कुछ लोग दुरुपयोग, हिंसा या उपेक्षा के पुराने अनुभव होने का बोझ ढोते हैं। ये अनुभव उनके जीवन में गहरे घाव और निशान छोड़ जाते हैं। अफसोस की बात है, दर्दनाक यादों से निपटने में मदद करने के लिए, लोग अक्सर नशे और शराब की ओर रुख करते हैं जो बदले में उनके जीवन में अधिक दर्द जोड़ते हैं।

लेकिन परमेश्वर की योजना आत्मा को पूर्ण भावनात्मक चंगाई लाने की है। यीशु ने आदमियों को पाप, घावों और कड़वी निराशाओं से मुक्त किया। अतीत के दर्दनाक डर को खत्म करने में मदद करने के लिए, लोगों को यह करने की आवश्यकता है:

क-चंगाई के चमत्कार के लिए परमेश्वर से मांगे “कि प्रभु का आत्मा मुझ पर है, इसलिये कि उस ने कंगालों को सुसमाचार सुनाने के लिये मेरा अभिषेक किया है, और मुझे इसलिये भेजा है, कि बन्धुओं को छुटकारे का और अन्धों को दृष्टि पाने का सुसमाचार प्रचार करूं और कुचले हुओं को छुड़ाऊं। और प्रभु के प्रसन्न रहने के वर्ष का प्रचार करूं” (लूका 4:18,19)।

मसीही पेशेवर परामर्श प्राप्त करें।

ख- एक क्षमाशील आत्मा रखें “और एक दूसरे पर कृपाल, और करूणामय हो, और जैसे परमेश्वर ने मसीह में तुम्हारे अपराध क्षमा किए, वैसे ही तुम भी एक दूसरे के अपराध क्षमा करो” (इफिसियों 4:32)। प्रभु स्वयं एक मात्र नमूना है जिसका हमें अनुसरण करने का प्रयास करना चाहिए (मत्ती 6:12; लूका 6:36)। मनुष्यों के लिए माफी अनंत लागत पर खरीदी गई थी (मत्ती 18:32, 33)।

ग-नकारात्मक के बजाय सकारात्मक पर बने रहें “निदान, हे भाइयों, जो जो बातें सत्य हैं, और जो जो बातें आदरणीय हैं, और जो जो बातें उचित हैं, और जो जो बातें पवित्र हैं, और जो जो बातें सुहावनी हैं, और जो जो बातें मनभावनी हैं, निदान, जो जो सदगुण और प्रशंसा की बातें हैं, उन्हीं पर ध्यान लगाया करो” (फिलिप्पियों 4: 8)।

घ-विश्वासियों की संगति के साथ जीवन को समृद्ध करें “सो यदि मसीह में कुछ शान्ति और प्रेम से ढाढ़स और आत्मा की सहभागिता, और कुछ करूणा और दया है। तो मेरा यह आनन्द पूरा करो कि एक मन रहो और एक ही प्रेम, एक ही चित्त, और एक ही मनसा रखो” (फिलिप्पियों 2:1,2)।

ड़- एक नया पृष्ठ खोलें और नए लक्ष्य निर्धारित करें “हे भाइयों, मेरी भावना यह नहीं कि मैं पकड़ चुका हूं: परन्तु केवल यह एक काम करता हूं, कि जो बातें पीछे रह गई हैं उन को भूल कर, आगे की बातों की ओर बढ़ता हुआ” (फिलिप्पियों 3:13)।

च- और अंत में दूसरों की मदद करने की खुशी और तृप्ति का अनुभव करें “और विश्वास के कर्ता और सिद्ध करने वाले यीशु की ओर ताकते रहें; जिस ने उस आनन्द के लिये जो उसके आगे धरा था, लज्ज़ा की कुछ चिन्ता न करके, क्रूस का दुख सहा; और सिंहासन पर परमेश्वर के दाहिने जा बैठा” (इब्रानियों 12:2)।

ऐसा कोई दर्द या चोट नहीं है जिसे परमेश्वर ठीक नहीं कर सकते। बस प्रभु को ऐसा करने का मौका दीजिए। और उसने वादा किया कि “अब जो ऐसा सामर्थी है, कि हमारी बिनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है, उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है” (इफिसियों 3:20)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment