मृत्यु की वाचा क्या है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

पौलुस ने लिखा: “और यदि मृत्यु की यह वाचा जिस के अक्षर पत्थरों पर खोदे गए थे, यहां तक तेजोमय हुई, कि मूसा के मुंह पर के तेज के कराण जो घटता भी जाता था, इस्त्राएल उसके मुंह पर दृष्टि नहीं कर सकते थे” (2 कुरिन्थियों 3:7)।

“मृत्यु की वाचा” का अर्थ

पद 7-18 में पौलुस का संदेश निर्गमन 34:29-35 में मूसा के अनुभव पर बनाया गया है। जब मूसा साक्षीपत्र की दो पट्टिकाएं हाथ में लिये हुए सीनै पर्वत से उतरा, तो उसका मुख चमक उठा, क्योंकि उस ने परमेश्वर से बात की थी।

मृत्यु की वाचा एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग पौलुस यहूदी धार्मिक व्यवस्था की ओर संकेत करने के लिए करता था, जो यीशु की मृत्यु से पूरी हुई थी और जो इसका अभ्यास करते थे उन्हें जीवन प्रदान नहीं कर सकता था। पौलुस ने इसे “दण्ड की वाचा” (पद 9) का नाम भी दिया।

परमेश्वर की व्यवस्था और मूसा की व्यवस्था के बीच तुलना

परमेश्वर ने अपने लोगों को दो नियम दिए: पहला- दस आज्ञाओं की नैतिक व्यवस्था (निर्गमन 20:3-17) जो अनंत है और हमेशा के लिए स्थिर है (लूका 16:17; भजन संहिता 19:9)। दूसरा- मूसा की व्यवस्था जो अस्थायी थी क्योंकि यह केवल मसीह की ओर इशारा करती थी और उसकी मृत्यु के द्वारा पूर्ण और समाप्त कर दी गई थी (इफिसियों 2:15)। क्रूस पर क्या खत्म कर दिया गया था? https://biblea.sk/2OprPBR

पौलुस, “आत्मा की वाचा” की श्रेष्ठ महिमा को प्रस्तुत करता है, जो उसका विरोध करने वाले यहूदियों का खंडन करता है (2 कुरिं 11:22), और लोगों को मूसा की रीति-विधि व्यवस्था (दूसरी व्यवस्था) का अभ्यास जारी रखने के लिए प्रेरित कर रहे थे जो कि क्रूस पर पूरा किया।

पौलुस उस महिमा की तुलना कर रहा है जो उस महिमा के साथ है जो गायब हो जाती है, पुराने के साथ नया। नए में मसीह में परमेश्वर की महिमा का पूर्ण प्रकाशन है (यूहन्ना 1:14)। जबकि, मूसा की वाचा में, मसीह को केवल औपचारिक कानून के प्रकारों में ही देखा गया था। मसीह बलिदानों, प्रतीकों और मंदिर समारोहों के परदे के पीछे छिपा हुआ था, परन्तु उसकी मृत्यु के द्वारा इस परदे को समाप्त कर दिया गया था (इब्रा० 10:19, 20)। इस प्रकार, यह मूसा और यहूदी व्यवस्था की वाचा थी जिसे समाप्त होना था, न कि परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था – प्रथम व्यवस्था (मत्ती 5:17, 18)।

मूसा की व्यवस्था क्रूस पर पूरी हुई परन्तु परमेश्वर की व्यवस्था प्रभाव में बनी हुई है

अफसोस की बात है कि पुराने समारोहों में यीशु को देखने में इस्राएल की विफलता ने अंततः उन्हें उसे सूली पर चढ़ाने के लिए प्रेरित किया। पौलुस ने पुष्टि की कि मसीह में महान महिमा के आने और औपचारिक प्रणाली की पूर्ति के साथ, उस प्रणाली को देखने की कोई आवश्यकता नहीं है। मसीह का आगमन और पवित्र आत्मा की परिपूर्णता ने आत्मा की एक वाचा प्रदान की जो जीवन प्रदान कर सकती थी (रोमियों 8:3, 4)।

मृत्यु की वाचा के बारे में पौलुस के कथन से कुछ लोगों ने ग़लत निष्कर्ष निकाला है कि परमेश्‍वर की नैतिक व्यवस्था को “नाश किया जाना था।” हालाँकि, पद स्पष्ट रूप से कहता है कि यह मूसा के चेहरे पर दिखाई देने वाली “महिमा” थी जिसे “दूर किया जाना था।” उसके लिए “महिमा” कुछ ही समय में फीकी पड़ गई, लेकिन परमेश्वर की नैतिक व्यवस्था या दस आज्ञाएं जो “पत्थरों में लिखी और खुदी हुई” थीं, हमेशा के लिए बनी रहती हैं (भजन संहिता 119:60, यशायाह 40:8)। पौलुस ने स्वयं समझाया कि परमेश्वर की व्यवस्था को समाप्त नहीं किया जा सकता है, “तो क्या हम विश्वास के द्वारा व्यवस्था को व्यर्थ ठहराते हैं? कदापि नहीं! इसके विपरीत, हम व्यवस्था स्थिर करते हैं” (रोमियों 3:31)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: