मूसा की जगह लेने के लिए परमेश्वर ने यहोशू को क्यों चुना?

Total
0
Shares

This answer is also available in: English

जब मूसा की मृत्यु हुई, तो परमेश्वर ने यहोशू को उसके स्थान पर लेने के लिए चुना। क्योंकि जैसे मूसा फिरौन के साम्हने खड़ा होने के योग्य सबसे अच्छा मनुष्य था, वैसे ही यहोशू कनानियों के साम्हने खड़े होने के योग्य सबसे अच्छा मनुष्य था। परमेश्वर ने यहोशू को निम्नलिखित कारणों से चुना:

(1) यहोशू एक विश्वासयोग्य और आज्ञाकारी व्यक्ति था। तब मूसा ने यहोशू से कहा, “तब मूसा ने यहोशू से कहा, हमारे लिये कई एक पुरूषों को चुनकर छांट ले, ओर बाहर जा कर अमालेकियों से लड़; और मैं कल परमेश्वर की लाठी हाथ में लिये हुए पहाड़ी की चोटी पर खड़ा रहूंगा। मूसा की इस आज्ञा के अनुसार यहोशू अमालेकियों से लड़ने लगा; और मूसा, हारून, और हूर पहाड़ी की चोटी पर चढ़ गए” (निर्गमन 17:9.10; गिनती 13:2, 3, 8)।

(2) वह आस्थावान व्यक्ति था। वह और कालेब एक अलोकप्रिय कारण के लिए अकेले खड़े थे। यह कनान की जासूसी करने के लिए भेजे गए बारह भेदियों की घटना में देखा गया था। केवल यहोशू और कालेब ने परमेश्वर में अटूट विश्वास दिखाया और उन्होंने लोगों को परमेश्वर की शक्ति पर भरोसा करने के लिए प्रोत्साहित किया।

“6 और नून का पुत्र यहोशू और यपुन्ने का पुत्र कालिब, जो देश के भेद लेने वालों में से थे, अपने अपने वस्त्र फाड़कर,

7 इस्त्राएलियों की सारी मण्डली से कहने लगे, कि जिस देश का भेद लेने को हम इधर उधर घूम कर आए हैं, वह अत्यन्त उत्तम देश है।

8 यदि यहोवा हम से प्रसन्न हो, तो हम को उस देश में, जिस में दूध और मधु की धाराएं बहती हैं, पहुंचाकर उसे हमे दे देगा।

9 केवल इतना करो कि तुम यहोवा के विरुद्ध बलवा न करो; और न तो उस देश के लोगों से डरो, क्योंकि वे हमारी रोटी ठहरेंगे; छाया उनके ऊपर से हट गई है, और यहोवा हमारे संग है; उन से न डरो” (गिनती 14:6-9)।

(3) उसके पास सैन्य मामलों की स्वाभाविक क्षमता थी। पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि “यहोशू ने जो कुछ यहोवा ने मूसा से कहा था, उसके अनुसार यहोशू ने सारे देश को ले लिया; और यहोशू ने अपके गोत्रोंके अनुसार इस्राएल को भाग करके उसका भाग कर दिया। तब देश ने युद्ध से विश्राम किया” (यहोशू 11:23; 14:5)।

(4) वह एक ईश्वरीय आत्मिक नेता थे। यह तब दिखाया गया था जब उसने इस्राएल पर शासन किया था। पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि “और “यहोशू के जीवन भर, और जो वृद्ध लोग यहोशू के मरने के बाद जीवित रहे और जानते थे कि यहोवा ने इस्राएल के लिये कैसे कैसे काम किए थे, उनके भी जीवन भर इस्राएली यहोवा ही की सेवा करते रहे” (यहोशू 24:31)।

(5) वह निर्णय लेने वाले और नेता थे। “और यदि यहोवा की सेवा करनी तुम्हें बुरी लगे, तो आज चुन लो कि तुम किस की सेवा करोगे, चाहे उन देवताओं की जिनकी सेवा तुम्हारे पुरखा महानद के उस पार करते थे, और चाहे एमोरियों के देवताओं की सेवा करो जिनके देश में तुम रहते हो; परन्तु मैं तो अपने घराने समेत यहोवा की सेवा नित करूंगा” (यहोशू 24:15) .

यहोशू की शांत, स्पष्ट निष्ठा और विश्वासयोग्यता ने मूसा को सफल करने के लिए उसकी योग्यता को साबित कर दिया। चूँकि वह पूरी तरह से परमेश्वर पर निर्भर था, कनान की विजय सफल हुई और इस्राएल राष्ट्र समृद्ध हुआ। परमेश्वर अक्सर मानवीय साधनों के माध्यम से कार्य करता है, वर्षों के अनुभव के आधार पर अगुवों के रूप में योग्य, लेकिन साथ ही साथ विनम्र और अपनी अच्छी इच्छा के अधीन भी।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This answer is also available in: English

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या परमेश्वर ने एली को उसके बेटों के पापों के लिए दंडित किया?

This answer is also available in: Englishपरमेश्वर ने एली को उसके बेटों के पापों के लिए दंडित नहीं किया, बल्कि अपने बेटों को बुराई करने से नियंत्रित या रोकने में…

क्या ईश्वर को हमें हमारी ईमानदारी से न्याय नहीं करना चाहिए?

This answer is also available in: Englishक्या ईश्वर को हमें हमारी ईमानदारी से न्याय नहीं करना चाहिए? जबकि परमेश्वर के साथ संबंध में ईमानदारी बहुत महत्वपूर्ण है, परमेश्वर को सिर्फ…