मुझे मसीही प्रेम के बारे में बताईये? और यह प्यार एक व्यक्ति को कैसे मिल सकता है?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

मुझे मसीही प्रेम के बारे में बताईये? और यह प्यार एक व्यक्ति को कैसे मिल सकता है?

मसीही प्रेम पूरी तरह से क्रूस पर चित्रित किया गया है। परमेश्वर ने अपने पुत्र, यीशु मसीह को हमारे पापों के प्रायश्चित के रूप में देने में हमारे प्रति अपने प्रेम को प्रकट किया “जो प्रेम परमेश्वर हम से रखता है, वह इस से प्रगट हुआ, कि परमेश्वर ने अपने एकलौते पुत्र को जगत में भेजा है, कि हम उसके द्वारा जीवन पाएं। प्रेम इस में नहीं कि हम ने परमेश्वर ने प्रेम किया; पर इस में है, कि उस ने हम से प्रेम किया; और हमारे पापों के प्रायश्चित्त के लिये अपने पुत्र को भेजा” (1 यूहन्ना 4:9-10)। “इस से बड़ा प्रेम किसी का नहीं, कि कोई अपने मित्रों के लिये अपना प्राण दे” (यूहन्ना 15:13)।

महान समाचार यह है कि प्रभु ने प्रेम के इस उपहार को हमारे हृदयों में उण्डेलने की प्रतिज्ञा की है जब हम उसे एक व्यक्तिगत उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करते हैं “क्योंकि प्रेम परमेश्वर से है” (1 यूहन्ना 4:7)। मसीही प्रेम एक आज्ञा है कि यीशु ने हमें छोड़ दिया, और यह बाहरी संकेत है जिसके द्वारा लोग हमें यीशु के शिष्यों के रूप में पहचानेंगे “मैं तुम्हें एक नई आज्ञा देता हूं, कि एक दूसरे से प्रेम रखो: जैसा मैं ने तुम से प्रेम रखा है, वैसा ही तुम भी एक दुसरे से प्रेम रखो। यदि आपस में प्रेम रखोगे तो इसी से सब जानेंगे, कि तुम मेरे चेले हो”  (यूहन्ना 13:34-35)।

और प्रेम ही एकमात्र मानदंड है जिसके द्वारा यीशु न्याय के दिन अच्छाई को बुराई से अलग करेगा “तब राजा अपनी दाहिनी ओर वालों से कहेगा, हे मेरे पिता के धन्य लोगों, आओ, उस राज्य के अधिकारी हो जाओ, जो जगत के आदि से तुम्हारे लिये तैयार किया हुआ है। क्योंकि मैं भूखा था, और तुम ने मुझे खाने को दिया; मैं प्यासा था, और तुम ने मुझे पानी पिलाया, मैं पर देशी था, तुम ने मुझे अपने घर में ठहराया। मैं नंगा था, तुम ने मुझे कपड़े पहिनाए; मैं बीमार था, तुम ने मेरी सुधि ली, मैं बन्दीगृह में था, तुम मुझ से मिलने आए। तब धर्मी उस को उत्तर देंगे कि हे प्रभु, हम ने कब तुझे भूखा देखा और खिलाया? या प्यासा देखा, और पिलाया? हम ने कब तुझे पर देशी देखा और अपने घर में ठहराया या नंगा देखा, और कपड़े पहिनाए? हम ने कब तुझे बीमार या बन्दीगृह में देखा और तुझ से मिलने आए? तब राजा उन्हें उत्तर देगा; मैं तुम से सच कहता हूं, कि तुम ने जो मेरे इन छोटे से छोटे भाइयों में से किसी एक के साथ किया, वह मेरे ही साथ किया। तब वह बाईं ओर वालों से कहेगा, हे स्रापित लोगो, मेरे साम्हने से उस अनन्त आग में चले जाओ, जो शैतान और उसके दूतों के लिये तैयार की गई है। क्योंकि मैं भूखा था, और तुम ने मुझे खाने को नहीं दिया, मैं प्यासा था, और तुम ने मुझे पानी नहीं पिलाया। मैं परदेशी था, और तुम ने मुझे अपने घर में नहीं ठहराया; मैं नंगा था, और तुम ने मुझे कपड़े नहीं पहिनाए; बीमार और बन्दीगृह में था, और तुम ने मेरी सुधि न ली। तब वे उत्तर देंगे, कि हे प्रभु, हम ने तुझे कब भूखा, या प्यासा, या परदेशी, या नंगा, या बीमार, या बन्दीगृह में देखा, और तेरी सेवा टहल न की? तब वह उन्हें उत्तर देगा, मैं तुम से सच कहता हूं कि तुम ने जो इन छोटे से छोटों में से किसी एक के साथ नहीं किया, वह मेरे साथ भी नहीं किया। और यह अनन्त दण्ड भोगेंगे परन्तु धर्मी अनन्त जीवन में प्रवेश करेंगे” (मत्ती 25:31-46)।

लेकिन प्यार कैसे व्यवहार में है? पौलुस जवाब देता है: “यदि मैं मनुष्यों, और सवर्गदूतों की बोलियां बोलूं, और प्रेम न रखूं, तो मैं ठनठनाता हुआ पीतल, और झंझनाती हुई झांझ हूं। और यदि मैं भविष्यद्वाणी कर सकूं, और सब भेदों और सब प्रकार के ज्ञान को समझूं, और मुझे यहां तक पूरा विश्वास हो, कि मैं पहाड़ों को हटा दूं, परन्तु प्रेम न रखूं, तो मैं कुछ भी नहीं। और यदि मैं अपनी सम्पूर्ण संपत्ति कंगालों को खिला दूं, या अपनी देह जलाने के लिये दे दूं, और प्रेम न रखूं, तो मुझे कुछ भी लाभ नहीं। प्रेम धीरजवन्त है, और कृपाल है; प्रेम डाह नहीं करता; प्रेम अपनी बड़ाई नहीं करता, और फूलता नहीं। वह अनरीति नहीं चलता, वह अपनी भलाई नहीं चाहता, झुंझलाता नहीं, बुरा नहीं मानता। कुकर्म से आनन्दित नहीं होता, परन्तु सत्य से आनन्दित होता है। वह सब बातें सह लेता है, सब बातों की प्रतीति करता है, सब बातों की आशा रखता है, सब बातों में धीरज धरता है। प्रेम कभी टलता नहीं……….पर अब विश्वास, आशा, प्रेम थे तीनों स्थाई है, पर इन में सब से बड़ा प्रेम है। (1 कुरिन्थियों 13:1-13)। परमेश्वर और हमारे साथियों के लिए प्रेम परमेश्वर के साथ सामंजस्य की सर्वोच्च अभिव्यक्ति है (मत्ती 22:37-40)। विश्वासी के जीवन में जिया गया प्रेम उसकी मसीहीयत की ईमानदारी की महान परीक्षा है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

क्या उत्पत्ति 1:1 से पहले पृथ्वी पर जातियाँ और राष्ट्र थे?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)आदम और हव्वा – शुरुआत में बाइबल यह उल्लेख नहीं करती है कि परमेश्वर ने उत्पत्ति 1:1 से पहले अन्य जातियों और राष्ट्रों…
easter
बिना श्रेणी

क्या मसीहीयों को ईस्टर मनाना चाहिए?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)बाइबल के अनुसार, ईस्टर रविवार से संबंधित यीशु मसीह के पुनरुत्थान और सामान्य आधुनिक परंपराओं के बीच कोई संबंध नहीं है। ईस्टर शब्द…