मुझे परामर्शदाताओं की सलाह क्यों लेनी चाहिए? क्या पवित्र आत्मा की सलाह पर्याप्त नहीं है?

This page is also available in: English (English)

मनुष्य की सीमित क्षमता और ज्ञान के साथ, यह बुद्धिमान समझदार परामर्शदाताओं की सलाह लेने के लिए समझदार है जिनके पास विवेक, ज्ञान और विशेष प्रशिक्षण है। ये ईश्वरीय परामर्शदाता जीवन में अधिक अनुभव रखते हैं और इसलिए सलाह देने के लिए एक जगह है। इस तरह के परामर्श के लिए जितनी अधिक कठिन स्थिति होगी (नीतिवचन 11:14; 15:22)। जैसे ये अभिषिक्‍त लोग अपनी बुद्धि को साझा करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि हर महत्वपूर्ण कारक तौला जाता है (नीतिवचन 15:22; 20:14; 24: 6), वे सही सलाह दे पाएँगे, जो साधकों को अनन्त जीवन की ओर सही मार्ग पर ले जाती हैं। (नीतिवचन 5, 10, 32)।

पवित्र आत्मा के उपहार

परमेश्वर ने माना कि विशिष्ट धर्मी लोग पवित्र आत्मा के कुछ उपहार प्राप्त करेंगे। पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि “किन्तु सब के लाभ पहुंचाने के लिये हर एक को आत्मा का प्रकाश दिया जाता है” (1 कुरिन्थियों 12:7)। कुछ लोगों को, आत्मा ज्ञान का संदेश देता है। दूसरों को ज्ञान का संदेश होगा (पद 8)। और अन्य लोगों को अन्य उपहार दिए जाएंगे जैसे आत्मा सटीक देखता है (पद 11)।

इस प्रकार, आत्मिक उपहार पवित्र आत्मा द्वारा निर्मित अभिव्यक्तियाँ हैं। इसलिए, जिस व्यक्ति को ज्ञान का उपहार दिया गया है, वह किसी भी स्थिति को तौलना और इसकी सलाह को स्पष्ट और तर्कसंगत तरीके से दे सकेगा। उसका ज्ञान पवित्र शास्त्र के अध्ययन से, या विशेष प्रेरणा से सीधे ईश्वर से मिलता है।

धर्मग्रंथ ईश्वरीय परामर्शदाताओं का समर्थन करते हैं

“बिना सम्मति की कल्पनाएं निष्फल हुआ करती हैं, परन्तु बहुत से मंत्रियों की सम्मत्ति से बात ठहरती है” (नीतिवचन 15:22)।

“जहां बुद्धि की युक्ति नहीं, वहां प्रजा विपत्ति में पड़ती है; परन्तु सम्मति देने वालों की बहुतायत के कारण बचाव होता है” (नीतिवचन 11:14)।

“इसलिये जब तू युद्ध करे, तब युक्ति के साथ करना, विजय बहुत से मन्त्रियों के द्वारा प्राप्त होती है” (नीतिवचन 24: 6)।

“मूढ़ को अपनी ही चाल सीधी जान पड़ती है, परन्तु जो सम्मति मानता, वह बुद्धिमान है” (नीतिवचन 12:15)।

“सब कल्पनाएं सम्मति ही से स्थिर होती हैं; और युक्ति के साथ युद्ध करना चाहिये”(नीतिवचन 20:18)।

“सम्मति को सुन ले, और शिक्षा को ग्रहण कर, कि तू अन्तकाल में बुद्धिमान ठहरे” (नीतिवचन 19:20)।

“झगड़े रगड़े केवल अंहकार ही से होते हैं, परन्तु जो लोग सम्मति मानते हैं, उनके पास बुद्धि रहती है” (नीतिवचन 13:10)।

“बुद्धिमान लड़का दरिद्र होन पर भी ऐसे बूढ़े और मूर्ख राजा से अधिक उत्तम है जो फिर सम्मति ग्रहण न करे” (सभोपदेशक 4:13)।

“जो जीवनदायी डांट कान लगा कर सुनता है, वह बुद्धिमानों के संग ठिकाना पाता है। जो शिक्षा को सुनी-अनसुनी करता, वह अपने प्राण को तुच्छ जानता है, परन्तु जो डांट को सुनता, वह बुद्धि प्राप्त करता है” (नीतिवचन 15:31)।

“वरन जिस दिन तक आज का दिन कहा जाता है, हर दिन एक दूसरे को समझाते रहो, ऐसा न हो, कि तुम में से कोई जन पाप के छल में आकर कठोर हो जाए।” (इब्रानियों 3:13)।

निष्कर्ष

ईश्वरीय परामर्शदाताओं की राय लेना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक विश्वासी को एक व्यापक और मजबूत नींव देता है जिस पर निर्णय लेना है। इस प्रकार, एक व्यक्ति सबसे अच्छा विकल्प बनाता है जब वह अलग-अलग पक्षों से पूरी तरह से एक मामले का अध्ययन करता है, परमेश्वर का ज्ञान (याकूब 1: 5) चाहता है, और परमेश्वर की अगुआई (नीतिवचन 3: 5) पर निर्भर करता है।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This page is also available in: English (English)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

एक मसीही परिवार के लिए क्या प्राथमिकताएं होनी चाहिए?

Table of Contents परमेश्वरजीवनसाथीबच्चेमाता-पिताकलीसियाविश्व This page is also available in: English (English)बाइबल के अनुसार, एक मसीही परिवार के लिए कई प्राथमिकताएँ हैं। परमेश्वर बाइबल सिखाती है कि परमेश्वर पहले आता…
View Answer