मुझे कैसे पता चलेगा कि मैं परिवर्तित हो गया हूँ?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

मुझे कैसे पता चलेगा कि मैं परिवर्तित हो गया हूँ?

बहुत से नए जन्मे विश्वासी आश्चर्य करते हैं: “अपने आप को परखो, कि विश्वास में हो कि नहीं; अपने आप को जांचो, क्या तुम अपने विषय में यह नहीं जानते, कि यीशु मसीह तुम में है नहीं तो तुम निकम्मे निकले हो” (2 कुरिन्थियों 13:5)। यदि आप वास्तव में परिवर्तित हुए हैं, तो स्व-मूल्यांकन करने में आपकी सहायता के लिए निम्नलिखित दस संकेत हैं:

1-क्या मैं परमेश्वर या दुनिया से प्यार करता हूँ?

“तुम न तो संसार से और न संसार में की वस्तुओं से प्रेम रखो: यदि कोई संसार से प्रेम रखता है, तो उस में पिता का प्रेम नहीं है। क्योंकि जो कुछ संसार में है, अर्थात शरीर की अभिलाषा, और आंखों की अभिलाषा और जीविका का घमण्ड, वह पिता की ओर से नहीं, परन्तु संसार ही की ओर से है” (1 यूहन्ना 2:15,16)। और इस संसार के सदृश न बनो; परन्तु तुम्हारी बुद्धि के नये हो जाने से तुम्हारा चाल-चलन भी बदलता जाए, जिस से तुम परमेश्वर की भली, और भावती, और सिद्ध इच्छा अनुभव से मालूम करते रहो” (रोमियों 12:2)।

2-क्या मैं प्रतिदिन बाइबल अध्ययन और प्रार्थना में समय व्यतीत करता हूँ?

“जब तेरे वचन मेरे पास पहुंचे, तब मैं ने उन्हें मानो खा लिया, और तेरे वचन मेरे मन के हर्ष और आनन्द का कारण हुए; क्योंकि, हे सेनाओं के परमेश्वर यहोवा, मैं तेरा कहलाता हूँ” (यिर्मयाह 15:16)। “निरन्तर प्रार्थना मे लगे रहो” (1 थिस्सलुनीकियों 5:17)।

3-क्या मेरे जीवन में पाप का शासन है?

“यदि हम कहें, कि हम में कुछ भी पाप नहीं, तो अपने आप को धोखा देते हैं: और हम में सत्य नहीं” (1 यूहन्ना 1:8)। “इसलिये पाप तुम्हारे मरनहार शरीर में राज्य न करे, कि तुम उस की लालसाओं के आधीन रहो” (रोमियों 6:12)। “शरीर के काम तो प्रगट हैं, अर्थात व्यभिचार, गन्दे काम, लुचपन। मूर्ति पूजा, टोना, बैर, झगड़ा, ईर्ष्या, क्रोध, विरोध, फूट, विधर्म। डाह, मतवालापन, लीलाक्रीड़ा, और इन के जैसे और और काम हैं, इन के विषय में मैं तुम को पहिले से कह देता हूं जैसा पहिले कह भी चुका हूं, कि ऐसे ऐसे काम करने वाले परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे” (गलातियों 5:19-21) .

4- क्या मैं आत्मा के फल दिखाता हूँ?

“मैं दाखलता हूं: तुम डालियां हो; जो मुझ में बना रहता है, और मैं उस में, वह बहुत फल फलता है, क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते” (यूहन्ना 15:5)। आत्मा के फल हैं: “पर आत्मा का फल प्रेम, आनन्द, मेल, धीरज, और कृपा, भलाई, विश्वास, नम्रता, और संयम हैं; ऐसे ऐसे कामों के विरोध में कोई भी व्यवस्था नहीं” (गलातियों 5:22, 23)।

5-क्या मैं मसीह को स्वीकार करता हूँ या उनका इनकार करता हूँ?

यीशु ने कहा, “मैं तुम से कहता हूं जो कोई मनुष्यों के साम्हने मुझे मान लेगा उसे मनुष्य का पुत्र भी परमेश्वर के स्वर्गदूतों के सामहने मान लेगा। परन्तु जो मनुष्यों के साम्हने मुझे इन्कार करे उसका परमेश्वर के स्वर्गदूतों के साम्हने इन्कार किया जाएगा” (लूका 12:8-9)।

6-क्या मैं अपने पड़ोसी से प्यार करता हूँ?

यीशु ने कहा कि उसके अनुयायी उसके प्रेम से जानेंगे (यूहन्ना 13:35)। “यदि कोई कहे, कि मैं परमेश्वर से प्रेम रखता हूं; और अपने भाई से बैर रखे; तो वह झूठा है: क्योंकि जो अपने भाई से, जिस उस ने देखा है, प्रेम नहीं रखता, तो वह परमेश्वर से भी जिसे उस ने नहीं देखा, प्रेम नहीं रख सकता। और उस से हमें यह आज्ञा मिली है, कि जो कोई अपने परमेश्वर से प्रेम रखता है, वह अपने भाई से भी प्रेम रखे” (1 यूहन्ना 4:20,21)।

7-क्या मैं पाप से दुखी हूँ?

“तो क्या वह जो अच्छी थी, मेरे लिये मृत्यु ठहरी? कदापि नहीं! परन्तु पाप उस अच्छी वस्तु के द्वारा मेरे लिये मृत्यु का उत्पन्न करने वाला हुआ कि उसका पाप होना प्रगट हो, और आज्ञा के द्वारा पाप बहुत ही पापमय ठहरे” (रोमियों 7:13)। जब पतरस ने महसूस किया कि उसने यीशु का इन्कार कर दिया है, तो वह बाहर गया और फूट फूट कर रोने लगा (मत्ती 26:75)।

8-क्या मैं विश्वासियों के साथ संगति करता हूँ?

“और प्रेम, और भले कामों में उक्साने के लिये एक दूसरे की चिन्ता किया करें। और एक दूसरे के साथ इकट्ठा होना ने छोड़ें, जैसे कि कितनों की रीति है, पर एक दूसरे को समझाते रहें; और ज्यों ज्यों उस दिन को निकट आते देखो, त्यों त्यों और भी अधिक यह किया करो” (इब्रानियों 10:24, 25)।

9- क्या मुझे परमेश्वर की शांति है?

“तेरी व्यवस्था से प्रीति रखने वालों को बड़ी शान्ति होती है; और उन को कुछ ठोकर नहीं लगती” (भजन संहिता 119:165

10-मेरा खजाना कहाँ है?

यीशु ने कहा कि उसके लोग “अपने लिये पृथ्वी पर धन इकट्ठा न करो; जहां कीड़ा और काई बिगाड़ते हैं, और जहां चोर सेंध लगाते और चुराते हैं। परन्तु अपने लिये स्वर्ग में धन इकट्ठा करो, जहां न तो कीड़ा, और न काई बिगाड़ते हैं, और जहां चोर न सेंध लगाते और न चुराते हैं। क्योंकि जहां तेरा धन है वहां तेरा मन भी लगा रहेगा” (मत्ती 6:19-21)। “कोई मनुष्य दो स्वामियों की सेवा नहीं कर सकता, क्योंकि वह एक से बैर ओर दूसरे से प्रेम रखेगा, वा एक से मिला रहेगा और दूसरे को तुच्छ जानेगा; “तुम परमेश्वर और धन दोनो की सेवा नहीं कर सकते” (मत्ती 6:24)।

परिवर्तित होना एक संपूर्ण परिवर्तन का अनुभव करना है जो एक व्यक्ति के जीवन को अनन्त भलाई के लिए प्रभावित करेगा (2 कुरिन्थियों 5:17)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: