मिस्र में दूसरे स्थान पर होने के बाद यूसुफ ने अपने पिता से संपर्क क्यों नहीं किया?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

मिस्र में दूसरे स्थान पर होने के बाद यूसुफ ने अपने पिता से संपर्क क्यों नहीं किया?

कोई आश्चर्य नहीं कि क्या यूसुफ अपने पिता के प्रेम को भूल गया? और उसने अपने पिता से संपर्क करने का निश्चय क्यों नहीं किया, जो यह सोचकर कि वह मर चुका है, उसके लिए शोक मना रहा था?

यूसुफ ने अपने दूसरे पुत्र एप्रैम (उत्पत्ति 41:52) का नाम रखने के बाद मिस्र के देश को क्लेशों के देश के रूप में चित्रित किया। और निःसंदेह उन्हें अपने पिता और परिवार को देखने की गहरी इच्छा थी।

यह संभव नहीं था कि यूसुफ अपने पिता के कोमल प्रेम और उस ईश्वरीय वातावरण को भूल जाए, जिसने उसके बड़े होने पर उसे घेर लिया था। खासकर जब यूसुफ का दिल इसके लिए प्यार और कोमलता से भरा हुआ था, तो जिस तरह से उसने अपने भाइयों के साथ व्यवहार किया, जिसने उसे बिना किसी दया या पछतावे के गुलामी में बेच दिया था।

यह संभव है कि फिरौन ने अपने पिता को देखने के लिए छोड़ने के लिए यूसुफ की अपील को खारिज कर दिया, यह महसूस करते हुए कि यूसुफ का काम मिस्र के सारे राष्ट्र के लिए अधिक महत्व रखता था और सात साल के अकाल के फिरौन को दिए गए स्वप्नों के अनुसार बहुत कुछ दांव पर लगा था। फिरौन ने महसूस किया होगा कि व्यक्तिगत कार्यों में बर्बाद करने के लिए समय नहीं था, लेकिन आने वाले बड़े संकट के समय की तैयारी के लिए हर अवसर का उपयोग करें।

या, यह संभव है कि प्रभु ने यूसुफ को प्रभावित किया हो कि एक भविष्य का समय आएगा जब वह अपने परिवार से मिलेगा और उसे धैर्यपूर्वक परमेश्वर के सिद्ध समय की प्रतीक्षा करनी चाहिए और मामलों को अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए।

परमेश्वर उसके पूरे जीवन में यूसुफ का नेतृत्व करता रहा है और उसने यूसुफ के स्वप्नों को पूरा करने के लिए अपने प्रावधान द्वारा घटनाओं को निर्देशित किया जो उसने तब देखा था जब वह अपने पिता के घर में केवल एक युवा था। इसलिए, यूसुफ को परमेश्वर की अगुवाई पर भरोसा करना था और धैर्य रखना था। यदि परमेश्वर उसे मिस्र में रखना चाहे, तो वह मिस्र में ही रहेगा। उसने पूरी तरह से परमेश्वर की योजनाओं पर भरोसा करना सीखा, न कि अपने विचारों पर। “तू अपनी समझ का सहारा न लेना, वरन सम्पूर्ण मन से यहोवा पर भरोसा रखना” (नीतिवचन 3:5)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: