मसीही प्यार करने वाले, शांतिपूर्ण और मददगार हैं, तो उनसे नफरत क्यों की जाती है?

SHARE

By BibleAsk Hindi


मसीही प्यार करने वाले, शांतिपूर्ण और मददगार हैं, तो उनसे नफरत क्यों की जाती है?

संसार मसीह और मसीही से घृणा करता है क्योंकि संसार के कार्यों का न्याय धर्मी जीवन और मसीही की खुली गवाही के द्वारा किया जाता है (यूहन्ना 7:7; 1 यूहन्ना 3:13)। स्वर्गीय राज्य के नागरिक इस संसार में क्लेश होने की अपेक्षा कर सकते हैं (यूहन्ना 16:33), उनके चरित्रों, आदर्शों, आकांक्षाओं और आचरण के लिए सभी इस वर्तमान दुनिया की बुराई के खिलाफ मूक गवाह हैं (1 यूहन्ना 3:12)। स्वर्गीय राज्य के शत्रुओं ने मसीह, राजा को सताया, और उनसे उसके वफादार अनुयायियों को सताने की अपेक्षा की जा सकती है (यूहन्ना 15:20)। “पर जितने मसीह यीशु में भक्ति के साथ जीवन बिताना चाहते हैं वे सब सताए जाएंगे” (2 तीमु० 3:12)।

पाप के प्रवेश के बाद से मसीह और शैतान के बीच, स्वर्ग के राज्य और इस संसार के राज्य के बीच, और उन लोगों के बीच जो परमेश्वर की सेवा करते हैं और जो शैतान की सेवा करते हैं (उत्प० 3:15; प्रका० 12: 7–17)। यह संघर्ष तब तक चलता रहेगा “और जब सातवें दूत ने तुरही फूंकी, तो स्वर्ग में इस विषय के बड़े बड़े शब्द होने लगे कि जगत का राज्य हमारे प्रभु का, और उसके मसीह का हो गया” (प्रका०वा० 11:15; दानि० 2:44; 7:27)।

यीशु ने कहा, यदि संसार तुम से बैर रखता है, तो तुम जानते हो, कि उस ने तुम से पहिले मुझ से भी बैर रखा” (यूहन्ना 15:18)। मसीह ने उन लोगों को चेतावनी दी जो उसके चेले होंगे “मेरे नाम के कारण सब लोग तुम से बैर करेंगे, पर जो अन्त तक धीरज धरे रहेगा उसी का उद्धार होगा” (मत्ती 10:22), लेकिन उन्होंने कहा कि जो कोई “मेरे लिए अपना जीवन खोता है, वह उसे पाएगा” (मत्ती 10) :39)। मसीही उस नाम के लिए पीड़ित होते हैं जो वे धारण करते हैं, मसीह का नाम। सभी युगों में, जैसा कि आरम्भिक कलीसिया में था, वे जो वास्तव में अपने प्रभु से प्रेम करते हैं, “उसके नाम के कारण लज्जित होने के योग्य समझे जाने” पर आनन्दित हुए हैं (प्रेरितों के काम 5:41; पतरस 2:19–23; 3:14; 4:14) .

परन्तु जो कुछ भी जीवन ला सकता है, मसीही विश्वासी को आनन्दित होना चाहिए (फिलिपियों 4:4) यह जानते हुए कि परमेश्वर सब कुछ उसके भले के लिए करेगा (रोमियों 8:28)। यह प्रलोभन या परीक्षा के बारे में विशेष रूप से सच है (याकूब 1:2-4), क्योंकि दुख सहनशीलता और चरित्र के अन्य लक्षणों को विकसित करता है जो स्वर्गीय राज्य के नागरिकों के लिए आवश्यक हैं।

यीशु ने पहाड़ी उपदेश में कहा, “धन्य हैं वे, जो धर्म के कारण सताए जाते हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है। धन्य हो तुम, जब मनुष्य मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, और सताएं और झूठ बोल बोलकर तुम्हरो विरोध में सब प्रकार की बुरी बात कहें। आनन्दित और मगन होना क्योंकि तुम्हारे लिये स्वर्ग में बड़ा फल है इसलिये कि उन्होंने उन भविष्यद्वक्ताओं को जो तुम से पहिले थे इसी रीति से सताया था” (मत्ती 5:10-12)।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Reply

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments