भविष्यद्वाणी में पहले से बताए गए मसीह के जीवन के मुख्य पहलू क्या थे?

Total
0
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

उद्धार के कार्य में मसीह के जीवन के प्रत्येक मुख्य पहलू की महत्वपूर्ण भूमिका थी और भविष्यद्वाणी में कई भविष्यद्वाणी की गई थी

कुँवारीं जन्म

उसके कुँवारी जन्म की भविष्यद्वाणी यशायाह भविष्यद्वक्ता ने परमेश्वर की शक्ति के संकेत के रूप में की थी “कुंवारी गर्भवती होगी और एक पुत्र को जनेगी, और उसे इम्मानुएल कहेगी” (यशा. 7:14)। परमेश्‍वर एक कुँवारी के रूप में ठीक से वर्णित, अर्थात् पाप से शुद्ध होने वाली कलीसिया से कम कुछ भी नहीं से संतुष्ट होगा।

देह-धारण

उनके देह-धारण ने पृथ्वी और स्वर्ग के विभाजित परिवारों को एकजुट किया। एक स्वप्न के माध्यम से याकूब ने स्वर्ग की सीढ़ी को मसीह का प्रतिनिधित्व करते हुए देखा “तब उसने स्वप्न में क्या देखा, कि एक सीढ़ी पृथ्वी पर खड़ी है, और उसका सिरा स्वर्ग तक पहुंचा है: और परमेश्वर के दूत उस पर से चढ़ते उतरते हैं” (उत्प 28;12)। यीशु ने ईश्वरत्व को पृथ्वी पर उतारा ताकि वह मानवता को अपने साथ वापस स्वर्ग में ले जा सके।

निष्पाप जीवन

एक मनुष्य के रूप में उसका पापरहित जीवन हमें परमेश्वर के अधीन होने का एक उदाहरण देता है (यूहन्ना 15:10; 1 यूहन्ना 2:6) और पवित्रीकरण (यूहन्ना 17:19)। और परमेश्वर के रूप में, वह हमें वही शक्ति देता है जो उसके पास थी कि हम परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने में सक्षम हो सकें (रोम 8:3, 4)।

मौत

उसकी बदली हुई मृत्यु ने हमारे लिए जीवन पाना और उसके लिए “बहुतों” को धर्मी ठहराना संभव बना दिया (यशा. 53:5, 11; रोमि. 5:9; तीतुस 2:14)। उसकी मृत्यु पर विश्वास करने से हम पाप के दण्ड से, और उसके जीवन में विश्वास के द्वारा, उसकी पकड़ से मुक्त हो जाते हैं (रोम 5:1, 10; फिलि 4:7)।

पुनरुत्थान

उनका अद्भुत पुनरुत्थान हमें आश्वासन देता है कि एक दिन हम भी अमरता को “पहिन लेंगे” “मसीह मरे हुओं में से जी उठा है, और जो सो गए हैं उनमें से पहला फल बन गया है…” (1 कुरिं. 15:12-22, 51- 55)। जैसे पहले फल फसल के संग्रह का आश्वासन थे, इसलिए मसीह का पुनरुत्थान आश्वासन है कि वे सभी जो उस पर विश्वास करते हैं, उन्हें भी मृतकों में से जिलाया जाएगा।

स्वर्गारोहण

अंत में उनका स्वर्गारोहण वापस आने और पिता से मिलने के लिए हमें अपने साथ ले जाने की उनकी प्रतिज्ञा की पुष्टि करता है, और इस प्रकार उद्धार का कार्य समाप्त करता है “तुम्हारा मन व्याकुल न हो, तुम परमेश्वर पर विश्वास रखते हो मुझ पर भी विश्वास रखो।

2 मेरे पिता के घर में बहुत से रहने के स्थान हैं, यदि न होते, तो मैं तुम से कह देता क्योंकि मैं तुम्हारे लिये जगह तैयार करने जाता हूं।

3 और यदि मैं जाकर तुम्हारे लिये जगह तैयार करूं, तो फिर आकर तुम्हें अपने यहां ले जाऊंगा, कि जहां मैं रहूं वहां तुम भी रहो” (यूहन्ना 14:1-3; प्रेरितों के काम 1:9-11)

पृथ्वी पर मसीह के मिशन के इन सभी पहलुओं की भविष्यद्वाणी पुराने नियम की भविष्यद्वाणियों में विश्वासियों की पुनर्स्थापना के लिए की गई थी। “6 क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्भुत, युक्ति करने वाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा।

7 उसकी प्रभुता सर्वदा बढ़ती रहेगी, और उसकी शान्ति का अन्त न होगा, इसलिये वे उसको दाऊद की राजगद्दी पर इस समय से ले कर सर्वदा के लिये न्याय और धर्म के द्वारा स्थिर किए ओर संभाले रहेगा। सेनाओं के यहोवा की धुन के द्वारा यह हो जाएगा” (यशा. 9:6, 7; यशायाह 53; 61:1-3; भज. 68:18)।

मसीहाई भविष्यद्वाणियों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, निम्न लिंक देखें।

यीशु द्वारा पूरी की गई कुछ मसीहाई भविष्यद्वाणियाँ क्या हैं? https://biblea.sk/3mXvRBp

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

यदि इस्राएल राष्ट्र ने मसीह को स्वीकार कर लिया होता, तो क्या परमेश्वर ने उन्हें रोमियों से छुड़ाया होता?

Table of Contents परमेश्वर ने इस्राएल को उनके शत्रुओं से छुटकारे का वचन दियापाप से मुक्ति शत्रुओं से मुक्ति से पहले हैइस्राएल ने एक राष्ट्र के रूप में मसीह को…

क्या आप सात कलिसियाओं के संदेश को संक्षेप में बता सकते हैं?

Table of Contents इफिसुस में कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 2:1-7स्मुरना में कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 2:8-11पिरगमुन में कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 2:12-17थूआतीरा में कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 2:18-29सरदीस में कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 3:1-6फिलेदिलफिया में कलिसिया -प्रकाशितवाक्य 3:7-13लौदीकिया की कलिसिया-प्रकाशितवाक्य 3:14-22 This post is also…