भजन सहिंता की पुस्तक का क्या विषय है?

Total
62
Shares

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

भजन सहिंता की पुस्तक का विषय मनुष्य का सहायता के लिए ईश्वर तक पहुँचना दर्शाता है और ईश्वर का हाथ मनुष्य को उसके कष्टों से छुड़ाने के लिए बढ़ाता  है। इस पुस्तक में निजी और सार्वजनिक दोनों तरह के भक्ति के लिए प्रार्थना, याचना और महिमा के लिए सामग्री प्रदान की गई है।

भजन सहिंता मनुष्य के उसके निर्माता के साथ संबंध के कई पहलुओं को प्रस्तुत करती हैं:
  1. उत्सुक आत्मा निर्माता की उपस्थिति और दुनिया की परेशानियों से दूर रहने की सबसे बड़े आशीर्वाद को ढूंढ सकती है। “मेरा प्राण यहोवा के आंगनों की अभिलाषा करते करते मूर्छित हो चला; मेरा तन मन दोनों जीवते ईश्वर को पुकार रहे” (भजन सहिंता 84: 2)।
  2. परमेश्वर का उसके बच्चों के लिए असीम प्रेम। ” परन्तु प्रभु तू दयालु और अनुग्रहकारी ईश्वर है, तू विलम्ब से कोप करने वाला और अति करूणामय है” (भजन सहिंता 86:15)।
  3. सच्चा धर्म परमेश्वर के साथ एक आनंदित अनुभव करता है, ” हे यहोवा परमेश्वर मैं अपने पूर्ण मन से तेरा धन्यवाद करूंगा” (भजन सहिंता 9:1)।
  4. धन्यवाद हमेशा प्रार्थना के साथ देना चाहिए। “ हे यहोवा परमेश्वर मैं अपने पूर्ण मन से तेरा धन्यवाद करूंगा; मैं तेरे सब आश्चर्य कर्मों का वर्णन करूंगा ”(भजन सहिंता 9:1)।
  5. प्रकृति का अध्ययन मनुष्य को यह देखने में मदद करता है कि परमेश्वर सभी चीजों पर प्रभु है। और यह ज्ञान विश्वासी को छुटकारे की आशा के साथ प्रेरित करता है। आकाश ईश्वर की महिमा वर्णन कर रहा है; और आकशमण्डल उसकी हस्तकला को प्रगट कर रहा है”(भजन सहिंता 19:1)।
  6. अतीत में उसके बच्चों के लिए परमेश्वर के बचाव यह साबित करते हैं कि वह भविष्य में भी उनका बचाव करते रहेंगे। “हे यहोवा तेरी करूणा स्वर्ग में है, तेरी सच्चाई आकाश मण्डल तक पहुंची है। तेरा धर्म ऊंचे पर्वतों के समान है, तेरे नियम अथाह सागर ठहरे हैं; हे यहोवा तू मनुष्य और पशु दोनों की रक्षा करता है॥ हे परमेश्वर तेरी करूणा, कैसी अनमोल है! मनुष्य तेरे पंखो के तले शरण लेते हैं”(भजन सहिंता 36: 5-7)।
  7. धार्मिकता के प्रतिफल हैं। इस प्रकार, पृथ्वी पर एक धर्मी जीवन जीना एक अधर्मी जीवन जीने से अधिक फायदेमंद है। “यहोवा ने मुझ से मेरे धर्म के अनुसार व्यवहार किया; और मेरे हाथों की शुद्धता के अनुसार उसने मुझे बदला दिया”(भजन सहिंता 18:20)।
  8. यह परमेश्वर के बच्चों का विशेषाधिकार और कर्तव्य है कि दूसरों को उसके उद्धार की गवाही दें। “हे यहोवा परमेश्वर मैं अपने पूर्ण मन से तेरा धन्यवाद करूंगा; मैं तेरे सब आश्चर्य कर्मों का वर्णन करूंगा। ”(भजन संहिता 9:1)।
  9. कष्ट, पीड़ा और बीमारी परमेश्वर के बचाव योजना का हिस्सा हैं। “मुझे जो दु:ख हुआ वह मेरे लिये भला ही हुआ है, जिस से मैं तेरी विधियों को सीख सकूं”(भजन सहिंता 119:71)।
  10. परमेश्वर के शासन में, “करूणा और सच्चाई आपस में मिल गई हैं” (भानजन संहिता 85:10)। इस प्रकार, व्यवस्था और सुसमाचार सम्पूर्ण समानता में एक साथ चलते हैं।

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk  टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)

Subscribe to our Weekly Updates:

Get our latest answers straight to your inbox when you subscribe here.

You May Also Like

अबीगैल एक बुद्धिमान स्त्री कैसे थी?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)अबीगैल की कहानी का उल्लेख शमूएल अध्याय 25 की पहली पुस्तक में किया गया है। अबीगैल एक बुद्धिमान और रूपवती स्त्री…

पौलूस जेल मे कब तक था?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) العربية (अरबी)अलग-अलग बाइबल के विद्वान पौलुस के जेल जाने के सही समय के बारे में अलग-अलग हैं। निम्नलिखित कुछ संदर्भ हैं जो…