बाढ़ से पृथ्वी को नष्ट करने के लिए परमेश्वर ने 120 वर्ष तक प्रतीक्षा क्यों की?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

परमेश्वर ने देखा कि मनुष्य की दुष्टता पृथ्वी पर बहुत अधिक है, और उसके मन के विचार में जो कुछ कल्पना है वह निरन्तर बुराई ही होती है (उत्पत्ति 6:5)। मानवता में अब कोई अच्छाई नहीं बची थी। ऐसा इसलिए था क्योंकि लोगों ने परमेश्वर के प्रेम से अनजान होना चुना (2 पतरस 3:5)। फिर भी, प्रभु ने तुरंत पुवर-बाढ़ के लोगों को सजा नहीं दी। उसने घोषणा की, “मेरी आत्मा हमेशा मनुष्य के साथ संघर्ष नहीं करता रहेगा,” और उसने उन्हें 120 साल और जीने के लिए दिया (उत्पत्ति 6:3)।

पवित्र आत्मा पृथ्वी से हटा लिया गया

इसका अर्थ यह था कि पवित्र आत्मा थोड़ी देर तक कार्य करना जारी रखेगा, और बाद में पतित लोगों से हटा लिया जाएगा। परमेश्वर के धैर्य का भी अंत है। प्रेरित पतरस ने पूर्व-बाढ़ के लोगों के लिए आत्मा की सेवकाई के बारे में लिखा, यह कहते हुए कि मसीह की आत्मा ने शैतान के इन बंदियों को इस उम्मीद में प्रचार किया कि वे पश्चाताप करेंगे (1 पतरस 3:18–20)।

उस अवधि के अंत में, जब परमेश्वर के आत्मा द्वारा पापी हृदयों के साथ प्रयास करने से और कुछ प्राप्त नहीं किया जा सकता था (यहेजकेल 33:11), दया का दिन समाप्त हो गया। मनुष्यों ने स्वयं परमेश्वर के आत्मा की याचनाओं को ठुकराने के द्वारा अपने दया के दरवाजे की अवधि समाप्त कर दी है (लूका 10:16)।

परमेश्वर दयालु हैं

परमेश्वर चाहता है कि सभी लोगों का उद्धार हो (1 तीमुथियुस 2:4) क्योंकि वह अनुग्रहकारी और सहनशील है (निर्ग. 34:6, 7; यहे. 18:23, 32; 33:11; 2 पतरस 3:9) . वास्तव में, विनाश को उसका विचित्र कार्य कहा जाता है (यशायाह 28:21)। परन्तु साथ ही, वह “दोषियों को कभी भी क्षमा न करेगा” (निर्ग0 34:7)। कभी-कभी ईश्वरीय न्याय में एक लंबा समय लगता है और लोग यह मान लेते हैं कि यह कभी नहीं आएगा (सभो. 8:11; सपन्याह1:12; मलाकी 2:17; 3:14), और वे दण्ड से मुक्ति के साथ अपने बुरे रास्ते जारी रखते हैं।

परन्तु वह अपश्चातापी को नहीं बचाएगा

बाइबल हमें विश्वास दिलाती है कि अंत में, परमेश्वर दुष्टों को दण्ड देगा (प्रकाशितवाक्य 19:11–21) क्योंकि न्याय रहित संसार पूर्ण अराजकता वाला संसार है। और लोग परमेश्वर को एक ऐसी भूमिका में अभिनय करते देखेंगे जो उन सभी चीज़ों से बहुत अलग दिखाई देगी जिन्हें वे पहले जानते थे। तब परमेश्वर का मेम्ना “यहूदा के गोत्र के सिंह” के रूप में आएगा (प्रकाशितवाक्य 5:5, 6) दुष्टों को न्याय दिलाने और अपने बच्चों को ज़ुल्म से छुड़ाने के लिए।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: