बाइबिल में दबोरा कौन थी?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

बाइबिल में दबोरा कनानियों के उत्पीड़न के दौरान एक महिला न्यायाधीश और इस्राएल की एक नबिया थी। वह लप्पीदोत की पत्नी थी (न्यायियों 4:4)। उसके नाम का अर्थ है “मधुमक्खी।” उसने शायद किसी भी नागरिक प्राधिकरण द्वारा एक राजकुमारी के रूप में नहीं बल्कि एक भविष्यद्वक्तणी के रूप में न्याय किया, अन्याय और बुराई को सुधारा। मामलों की सुनवाई के लिए रामा और बेतेल के बीच एक पेड़ के नीचे उसका पसंदीदा स्थान था (1 शमू. 1:1)। ऐसा प्रतीत होता है कि यह प्रसिद्ध “शोक के वृक्ष” के आसपास था, जिसके नीचे राहेल की आया दबोरा को दफनाया गया था (उत्प० 35:8)।

कनानियों ने इस्राएल पर 20 वर्षों तक शासन किया (न्यायियों 4:2-3)। कनानी राजा याबीन था और उसका सेनापति सीसरा था। उनके कार्य दल में लोहे के 900 रथ शामिल थे (अध्याय 4:3)। इस तरह के एक खतरनाक दुश्मन के खिलाफ, पापी विद्रोह की स्थिति में इस्राएली खड़े नहीं हो सके, और वे जल्द ही पराजित हो गए और उन्हें सम्मान देने के लिए मजबूर किया गया।

सीसरा ने इस्राएलियों के साथ बहुत कठोर व्यवहार किया और वे छुटकारे की लालसा रखते थे। दबोरा ने उस दुखद स्थिति का वर्णन किया, “अनात के पुत्र शमगर के दिनों में, और याएल के दिनों में सड़कें सूनी पड़ी थीं, और बटोही पगदंडियों से चलते थे॥ जब तक मैं दबोरा न उठी, जब तक मैं इस्राएल में माता हो कर न उठी, तब तक गांव सूने पड़े थे” (न्यायियों 5:6-7)।

तब यहोवा ने दबोरा से कहा, कि नप्ताली में से बाराक नाम का एक मनुष्य सीसरा से बलवा करेगा। यह सुनकर कि बाराक ने कहा, “बाराक ने उस से कहा, यदि तू मेरे संग चलेगी तो मैं जाऊंगा, नहीं तो न जाऊंगा” (न्यायियों 4:8)। “उसने कहा, नि:सन्देह मैं तेरे संग चलूंगी; तौभी यह यात्रा से तेरी तो कुछ बड़ाई न होगी, क्योंकि यहोवा सीसरा को एक स्त्री के आधीन कर देगा। तब दबोरा उठ कर बाराक के संग केदेश को गई” (न्यायियों 4:9)। दबोरा सैन्य अभियान पर साथ जाने के लिए तैयार हो गई, लेकिन उसने भविष्यद्वाणी की कि जो जीत होगी वह बाराक की महिमा के लिए नहीं बल्कि एक स्त्री की होगी। वह खुद की बात नहीं कर रही थी, बल्कि याएल (पद 18–21) की बात कर रही थी।

यहोवा ने इस्राएलियों को युद्ध में विजय दिलाई, और सीसरा भागकर केनियों की छावनी में आया। केनी हेबेर शायद दूर था इसलिए उसकी पत्नी याएल ने सेनापति का स्वागत किया और उसे तम्बू में छिपा दिया। परन्तु जब वह सो गया तो उस ने तम्बू की खूंटी उसके सिर में ठोक दी और उसे मार डाला (पद 21)। इस प्रकार, दबोरा की भविष्यद्वाणी इस प्रकार पूरी हुई कि सीसरा की मृत्यु एक स्त्री के द्वारा हुई।

न्यायियों के अध्याय 5 में, हम उस राष्ट्रीय विजय का जश्न मनाने के लिए दबोरा और बाराक के गीत के बारे में पढ़ते हैं। यह गीत विजय के लिए परमेश्वर की स्तुति (पद 2-5) के शब्दों के साथ शुरू होता है, इसके बाद युद्ध से पहले की स्थिति का वर्णन होता है (पद 6-8)। इसके बाद युद्ध (पद 18–22) और याएल के हाथों सीसरा की मृत्यु (पद 24–27) का वर्णन आता है।

अध्याय पांच इस वाक्यांश के साथ समाप्त होता है: “हे यहोवा, तेरे सब शत्रु ऐसे ही नाश हो जाएं! परन्तु उसके प्रेमी लोग प्रताप के साथ उदय होते हुए सूर्य के समान तेजोमय हों॥ फिर देश में चालीस वर्ष तक शान्ति रही” (पद 31)। शत्रु से लड़ने के बाद, इस्राएलियों को शांति का आशीर्वाद मिला। यही संदेश आज हम पर लागू होता है। बाइबल विश्वासियों को चेतावनी देती है, “शैतान का साम्हना करो, तो वह तुम्हारे पास से भाग जाएगा” (याकूब 4:7)। हम भी शांति का अनुभव कर सकते हैं जब हम शैतान के उत्पीड़न से लड़ते हैं और यीशु के शक्तिशाली नाम से उसे अपने जीवन से बाहर निकालते हैं (लूका 10:19)।

विभिन्न विषयों पर अधिक जानकारी के लिए हमारे बाइबल उत्तर पृष्ठ को देखें।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी) മലയാളം (मलयालम)

More answers: