बाइबल हमें अन्द्रियास के बारे में क्या बताती है?

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

बाइबल हमें अन्द्रियास के बारे में क्या बताती है?

अन्द्रियास (यूनानी एंड्रियास) का अर्थ है “मर्दाना” या “एक आदमी।” अन्द्रियास यीशु के बारह शिष्यों में से एक था (मत्ती 10:2) लेकिन वह आंतरिक चक्र में से एक नहीं बना। मत्ती और लूका ने उन्हें बारह शिष्यों में से दूसरे के रूप में सूचीबद्ध किया। वह पतरस का भाई था और दोनों बेतसेदा शहर से थे (यूहन्ना 1:44) और मछुआरों के रूप में काम कर रहे थे (मत्ती 4:18,19) जब यीशु ने उन्हें बुलाया।

अन्द्रियास के बारे में हम जो कुछ जानते हैं, वह यूहन्ना की पुस्तक से आता है (अध्याय 1:40, 41, 44; 6:8; 12:22)। वह यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के शिष्यों में से एक था और उसने बपतिस्मा देने वाले को यह घोषणा करते हुए देखा कि यीशु परमेश्वर का मेम्ना था (यूहन्ना 1:35–36)। यीशु ने उसे उस दिन अपने साथ रहने के लिए बुलाया (वचन 38-39)। उस दिन के बाद, उसने अपने भाई शमौन से कहा, “हमें मसीहा मिल गया है’ (अर्थात, मसीह)। और वह उसे यीशु के पास ले आया” (पद 40-42)।

बाद में, गलील की झील के किनारे, यीशु ने अन्द्रियास और पतरस से कहा जो मछुआरे थे: “मेरे पीछे हो ले, और मैं तुझे मनुष्यों के पकड़नेवाले बनाऊंगा” (मत्ती 4:19)। इसलिए, उन्होंने तुरंत अपना जाल छोड़ दिया और उसके पीछे हो लिए (वचन 20)। अब से, पतरस और अन्द्रियास को यीशु के स्कूल में शिक्षार्थी बनना अपना पूर्णकालिक व्यवसाय बनाना था (लूका 5:11)।

यूहन्ना 6 में, अन्द्रियास पांच हजार के भोजन की कथा में प्रकट होता है “इन बातों के बाद यीशु गलील की झील अर्थात तिबिरियास की झील के पास गया। और एक बड़ी भीड़ उसके पीछे हो ली क्योंकि जो आश्चर्य कर्म वह बीमारों पर दिखाता था वे उन को देखते थे। तब यीशु पहाड़ पर चढ़कर अपने चेलों के साथ वहां बैठा। और यहूदियों के फसह के पर्व निकट था। तब यीशु ने अपनी आंखे उठाकर एक बड़ी भीड़ को अपने पास आते देखा, और फिलेप्पुस से कहा, कि हम इन के भोजन के लिये कहां से रोटी मोल लाएं? परन्तु उस ने यह बात उसे परखने के लिये कही; क्योंकि वह आप जानता था कि मैं क्या करूंगा। फिलेप्पुस ने उस को उत्तर दिया, कि दो सौ दीनार की रोटी उन के लिये पूरी भी न होंगी कि उन में से हर एक को थोड़ी थोड़ी मिल जाए। उसके चेलों में से शमौन पतरस के भाई अन्द्रियास ने उस से कहा। यहां एक लड़का है जिस के पास जव की पांच रोटी और दो मछिलयां हैं परन्तु इतने लोगों के लिये वे क्या हैं? यीशु ने कहा, कि लोगों को बैठा दो। उस जगह बहुत घास थी: तब वे लोग जो गिनती में लगभग पांच हजार के थे, बैठ गए: तब यीशु ने रोटियां लीं, और धन्यवाद करके बैठने वालों को बांट दी: और वैसे ही मछिलयों में से जितनी वे चाहते थे बांट दिया। जब वे खाकर तृप्त हो गए तो उस ने अपने चेलों से कहा, कि बचे हुए टुकड़े बटोर लो, कि कुछ फेंका न जाए। सो उन्होंने बटोरा, और जव की पांच रोटियों के टुकड़े जो खाने वालों से बच रहे थे उन की बारह टोकिरयां भरीं। तब जो आश्चर्य कर्म उस ने कर दिखाया उसे वे लोग देखकर कहने लगे; कि वह भविष्यद्वक्ता जो जगत में आनेवाला था निश्चय यही है। (यूहन्ना 6:1-14)। इस कहानी में, इस शिष्य को एक व्यावहारिक व्यक्ति के रूप में दिखाया गया है जो अपने गुरु की मदद करने का एक तरीका खोज रहा है।

यूहन्ना 12:20-22 में, हम फिर से उसके बारे में कुछ यूनानियों के बारे में पढ़ते हैं जो प्रभु के बारे में पूछ रहे थे (यूहन्ना 12:20-21)। फिलिप्पुस ने अन्द्रियास को बताया कि यूनानी क्या चाहते थे, और वे सब मिलकर मामले को यीशु के पास ले आए (वचन 22)।

परंपरा के अनुसार, इस शिष्य को यूनान में X अक्षर के आकार में एक क्रूस पर शहीद किया गया था – जिसके परिणामस्वरूप एक क्रूस के आकार को आमतौर पर सेंट एंड्रयूज क्रॉस के रूप में जाना जाता है। यह शिष्य मसीह के लिए एक मेहनती कार्यकर्ता और प्रचारक का जीवन जिया और एक वफादार शिष्य के रूप में मर गया जिसने अपने गुरु का सम्मान किया।

 

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

More answers: