बाइबल में इस्साकार कौन था?

Author: BibleAsk Hindi


इस्साकार

बाइबल की कथा में कम-ज्ञात व्यक्तियों में इस्साकार है, जो याकूब के बारह पुत्रों में से एक और इस्राएली गोत्रों का एक प्रमुख सदस्य है। निम्नलिखित अध्ययन का उद्देश्य उनके जीवन, महत्व और विरासत पर प्रकाश डालना है।

वंशावली एवं गोत्र

इस्साकार, जिसके नाम का अर्थ है “प्रतिफल है” या “वह इनाम लाएगा,” याकूब और लिआ का नौवां पुत्र था। उसका जन्म उत्पत्ति 30:17-18 में दर्ज है: “तब परमेश्वर ने लिआ: की सुनी, सो वह गर्भवती हुई और याकूब से उसके पांचवां पुत्र उत्पन्न हुआ। तब लिआ: ने कहा, में ने जो अपने पति को अपनी दासी दी, इसलिये परमेश्वर ने मुझे मेरी मजूरी दी है: सो उसने उसका नाम इस्साकार रखा।”

वह इस्राएल के बारह गोत्रों में से एक, इस्साकार गोत्र का नामांकित पूर्वज बन गया। गोत्र का क्षेत्र कनान भूमि के उत्तरी भाग में स्थित था, और इसकी विरासत में कृषि के लिए उपयुक्त उपजाऊ भूमि शामिल थी।

याकूब द्वारा आशीष

जैसा कि उत्पत्ति 49:14-15 में बताया गया है, याकूब ने अपनी मृत्यु से पहले अपने बेटों को जो आशीष दी थी, उसमें इस बेटे का वर्णन इस प्रकार किया गया है: “इस्साकार एक बड़ा और बलवन्त गदहा है, जो पशुओं के बाड़ों के बीच में दबका रहता है॥ उसने एक विश्रामस्थान देखकर, कि अच्छा है, और एक देश, कि मनोहर है, अपने कन्धे को बोझ उठाने के लिये झुकाया, और बेगारी में दास का सा काम करने लगा॥” यह काव्यात्मक आशीष बताती है कि यह गोत्र अपने उद्यमी और मेहनती स्वभाव के लिए जानी जाएगी, जो अपने ऊपर दी गई जिम्मेदारियों को उठाने के लिए तैयार होगी।

निर्गमन और आगे के क्षेत्र में भूमिका

मूसा और निर्गमन के समय, इस्साकार गोत्र ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गिनती 1:28-29 में, हम सीखते हैं कि इस गोत्र का नेता, नतनेल, इस्राएल के बच्चों की जनगणना में मूसा और हारून की सहायता के लिए नियुक्त लोगों में से था।

इस गोत्र ने इस्राएली सेना में योद्धाओं का भी योगदान दिया। 1 इतिहास 12:32 में, यह उल्लेख किया गया है कि इस्साकार के गोत्र से, ऐसे लोग थे जो “समय की समझ रखते थे, और जानते थे कि इस्राएल को क्या करना चाहिए, उनके मुखिया दो सौ थे; और उनके सब भाई उनकी आज्ञा के अधीन थे।”

इस्राएल के राजाओं के साथ भूमिका

जैसे ही दाऊद सत्ता में आये, इस गोत्र के सदस्यों ने उनका समर्थन किया। 1 इतिहास 12:38-40 में, यह दर्ज है कि “ये सब युद्ध के लिये पांति बान्धने वाले दाऊद को सारे इस्राएल का राजा बनाने के लिये हेब्रोन में सच्चे मन से आए, और और सब इस्राएली भी दाऊद को राजा बनाने के लिये सहमत थे। और वे वहां तीन दिन दाऊद के संग खाते पीते रहे, क्योंकि उनके भाइयों ने उनके लिये तैयारी की थी। और जो उनके निकट वरन इस्साकार, जबूलून और नप्ताली तक रहते थे, वे भी गदहों, ऊंटों, खच्चरों और बैलों पर मैदा, अंजीरों और किशमिश की टिकियां, दाखमधु और तेल आदि भोजनवस्तु लादकर लाए, और बैल और भेड़-बकरियां बहुतायत से लाए; क्योंकि इस्राएल में आनन्द मनाया जा रहा था।”

सुलैमान की मृत्यु के बाद, इस्राएल का राज्य इस्राएल के उत्तरी राज्य और यहूदा के दक्षिणी राज्य में विभाजित हो गया। यह गोत्र दस गोत्रों के साथ संरेखित होकर उत्तरी साम्राज्य का हिस्सा थी।

भविष्यद्वाणी पुस्तकों में उल्लेख

जबकि इस्साकार को भविष्यद्वाणी की पुस्तकों में प्रमुखता से चित्रित नहीं किया गया है, प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में इस्साकार की गोत्र  (प्रकाशितवाक्य 7:7, ) सहित इस्राएल के गोत्रों से मुहरबंद 144,000 लोगों का उल्लेख है।

विरासत और सबक

इस्साकार की विरासत के गोत्र इस्राएल के बड़े आख्यान के साथ जुड़ी हुई है। निर्गमन में उनकी भूमिका, दाऊद के लिए उनका समर्थन, और राज्य में उनका योगदान सभी बाइबल के इतिहास में योगदान करते हैं।

जबकि बाइबल इस्साकार के ऐतिहासिक विवरण प्रदान करती है, वहीं इसमें सीखे जाने योग्य आत्मिक पाठ भी हैं। इस्साकार की बोझ उठाने की इच्छा और समय के बारे में उसकी समझ विश्वासियों को उनकी आस्था की यात्रा में मेहनती, समझदार और वफादार होने की याद दिलाती है।

निष्कर्ष

इस्साकार, हालांकि बाइबल के कुछ पात्रों जितना प्रसिद्ध नहीं है, उसने इस्राएल के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके गोत्रों की विशेषताएं, आशीष और प्रमुख घटनाओं में योगदान बाइबल की कथा के अंतर्संबंध को उजागर करते हैं। उनके जीवन का अध्ययन न केवल ऐतिहासिक अंतर्दृष्टि प्रदान करता है बल्कि आत्मिक सबक भी प्रदान करता है जो आज भी विश्वासियों के बीच गूंजता रहता है।

परमेश्वर की सेवा में,
BibleAsk टीम

Leave a Comment