(9) सृष्टि और छुटकारा

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)

1.बाइबल के पहले पद में परमेश्वर के विषय में क्या प्रकट किया गया है?
“आदि में परमेश्वर ने आकाश और पृथ्वी की सृष्टि की।” (उत्पति 1:1)।

2.सच्चे परमेश्वर और झूठे देवताओं के बीच पवित्रशास्त्र में बार-बार क्या अंतर दिखाया गया है?
“तुम उन से यह कहना, ये देवता जिन्होंने आकाश और पृथ्वी को नहीं बनाया वे पृथ्वी के ऊपर से और आकाश के नीचे से नष्ट हो जाएंगे।. . . परन्तु याकूब का निज भाग उनके समान नहीं है, क्योंकि वह तो सब का सृजनहार है, और इस्राएल उसके निज भाग का गोत्र है; सेनाओं का यहोवा उसका नाम है।” (यिर्मयाह 10:11,16)।

3.परमेश्वर ने किसके द्वारा सभी वस्तुओं की सृष्टि करने का कार्य किया?
“आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था।यही आदि में परमेश्वर के साथ था।सब कुछ उसी के द्वारा उत्पन्न हुआ और जो कुछ उत्पन्न हुआ है, उस में से कोई भी वस्तु उसके बिना उत्पन्न न हुई।” (यूहन्ना 1:1-3)।

4.छुटकारा किसके द्वारा किया जाता है?
“परन्तु परमेश्वर हम पर अपने प्रेम की भलाई इस रीति से प्रगट करता है, कि जब हम पापी ही थे तभी मसीह हमारे लिये मरा। सो जब कि हम, अब उसके लोहू के कारण धर्मी ठहरे, तो उसके द्वारा क्रोध से क्यों न बचेंगे?” (रोमियों 5:8-9)।

5.हम किस शास्त्र में सीखते हैं कि मसीह जो सृष्टि में सक्रिय प्रतिनिधि था, कलीसिया का भी मुखिया है?
“क्योंकि उसी में सारी वस्तुओं की सृष्टि हुई, स्वर्ग की हो अथवा पृथ्वी की, देखी या अनदेखी, क्या सिंहासन, क्या प्रभुतांए, क्या प्रधानताएं, क्या अधिकार, सारी वस्तुएं उसी के द्वारा और उसी के लिये सृजी गई हैं। और वही सब वस्तुओं में प्रथम है, और सब वस्तुएं उसी में स्थिर रहती हैं। और वही देह, अर्थात कलीसिया का सिर है; वही आदि है और मरे हुओं में से जी उठने वालों में पहिलौठा कि सब बातों में वही प्रधान ठहरे।” (कुलुसियों 1:16-18)।

6.कौन-सा शास्त्र दिखाता है कि सृष्टिकर्ता भी मुक्तिदाता है?
“हे इस्राएल तेरा रचने वाला और हे याकूब तेरा सृजनहार यहोवा अब यों कहता है, मत डर, क्योंकि मैं ने तुझे छुड़ा लिया है; मैं ने तुझे नाम ले कर बुलाया है, तू मेरा ही है।” (यशायाह 43:1)।

7.कमजोरों के लिए शक्ति का स्रोत किसे घोषित किया गया है?
“क्या तुम नहीं जानते? क्या तुम ने नहीं सुना? यहोवा जो सनातन परमेश्वर और पृथ्वी भर का सिरजनहार है, वह न थकता, न श्रमित होता है, उसकी बुद्धि अगम है। वह थके हुए को बल देता है और शक्तिहीन को बहुत सामर्थ देता है।” (यशायाह 40:28-29)।

8.दाऊद की कौन-सी प्रार्थना दिखाती है कि उसने छुटकारे को एक सृजनात्मक कार्य माना?
“हे परमेश्वर, मेरे अन्दर शुद्ध मन उत्पन्न कर, और मेरे भीतर स्थिर आत्मा नये सिरे से उत्पन्न कर।” (भजन संहिता 51:10)।

9.स्वर्गीय पिंडों को उनके स्थान पर कौन रखता है?
“सो तुम मुझे किस के समान बताओगे कि मैं उसके तुल्य ठहरूं? उस पवित्र का यही वचन है। अपनी आंखें ऊपर उठा कर देखो, किस ने इन को सिरजा? वह इन गणों को गिन गिनकर निकालता, उन सब को नाम ले ले कर बुलाता है? वह ऐसा सामर्थी और अत्यन्त बली है कि उन में के कोई बिना आए नहीं रहता॥” (यशायाह 40:25-26)।

10.वही पवित्र व्यक्ति विश्वासी के लिए क्या कर सकता है?
“अब जो तुम्हें ठोकर खाने से बचा सकता है, और अपनी महिमा की भरपूरी के साम्हने मगन और निर्दोष करके खड़ा कर सकता है। उस अद्वैत परमेश्वर हमारे उद्धारकर्ता की महिमा, और गौरव, और पराक्रम, और अधिकार, हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा जैसा सनातन काल से है, अब भी हो और युगानुयुग रहे। आमीन॥” (यहूदा 1:24,25)।

11.विश्वासी की सहायता के लिए उपलब्ध शक्ति का माप क्या है?
“कि हमारे प्रभु यीशु मसीह का परमेश्वर जो महिमा का पिता है, तुम्हें अपनी पहचान में, ज्ञान और प्रकाश का आत्मा दे।और तुम्हारे मन की आंखें ज्योतिर्मय हों कि तुम जान लो कि उसके बुलाने से कैसी आशा होती है, और पवित्र लोगों में उस की मीरास की महिमा का धन कैसा है। और उस की सामर्थ हमारी ओर जो विश्वास करते हैं, कितनी महान है, उस की शक्ति के प्रभाव के उस कार्य के अनुसार। जो उस ने मसीह के विषय में किया, कि उस को मरे हुओं में से जिलाकर स्वर्गीय स्थानों में अपनी दाहिनी ओर, सब प्रकार की प्रधानता, और अधिकार, और सामर्थ, और प्रभुता के, और हर एक नाम के ऊपर, जो न केवल इस लोक में, पर आने वाले लोक में भी लिया जाएगा, बैठाया।” (इफिसियों 1:17-21)।

12.मिस्र की दासता से इस्राएल का छुटकारा कितना महान था?
“और जब से परमेश्वर ने मनुष्य हो उत्पन्न करके पृथ्वी पर रखा तब से ले कर तू अपने उत्पन्न होने के दिन तक की बातें पूछ, और आकाश के एक छोर से दूसरे छोर तक की बातें पूछ, क्या ऐसी बड़ी बात कभी हुई वा सुनने में आई है? क्या कोई जाति कभी परमेश्वर की वाणी आग के बीच में से आती हुई सुनकर जीवित रही, जैसे कि तू ने सुनी है?. . . फिर क्या परमेश्वर ने और किसी जाति को दूसरी जाति के बीच में निकालने को कमर बान्धकर परीक्षा, और चिन्ह, और चमत्कार, और युद्ध, और बली हाथ, और बढ़ाई हुई भुजा से ऐसे बड़े भयानक काम किए, जैसे तुम्हारे परमेश्वर यहोवा ने मिस्र में तुम्हारे देखते किए?” (व्यवस्थाविवरण 4:32-34)।

ध्यान दें:- मिस्र में गुलामी और सताहट से इस्राएल का महान उद्धार केवल एक प्रकार की ईश्वर की शक्ति है जो मनुष्य को पाप की बंधुआई और दासता से मुक्ति में प्रदर्शित करती है। दोनों में रचनात्मक शक्ति का प्रकटीकरण देखा जाता है।

13.कौन सा शास्त्र स्पष्ट रूप से कहता है कि यह रचनात्मक शक्ति है जो विश्वासी को बदल देती है?
“क्योंकि हम उसके बनाए हुए हैं; और मसीह यीशु में उन भले कामों के लिये सृजे गए जिन्हें परमेश्वर ने पहिले से हमारे करने के लिये तैयार किया॥” (इफिसियों 2:10)।

14.विश्रामदिन किस बड़े काम का स्मरण और चिन्ह दोनों है?
“तू विश्रामदिन को पवित्र मानने के लिये स्मरण रखना। छ: दिन तो तू परिश्रम करके अपना सब काम काज करना; परन्तु सातवां दिन तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये विश्रामदिन है। उस में न तो तू किसी भांति का काम काज करना, और न तेरा बेटा, न तेरी बेटी, न तेरा दास, न तेरी दासी, न तेरे पशु, न कोई परदेशी जो तेरे फाटकों के भीतर हो। क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश, और पृथ्वी, और समुद्र, और जो कुछ उन में है, सब को बनाया, और सातवें दिन विश्राम किया; इस कारण यहोवा ने विश्रामदिन को आशीष दी और उसको पवित्र ठहराया॥” (निर्गमन 20:8-11)। “वह मेरे और इस्त्राएलियों के बीच सदा एक चिन्ह रहेगा, क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश और पृथ्वी को बनाया, और सातवें दिन विश्राम करके अपना जी ठण्डा किया॥” (निर्गमन 31:17)।

15.चूँकि सृष्टि और छुटकारे दोनों एक ही रचनात्मक शक्ति से गढ़े गए हैं, मूल सृष्टि के अलावा सब्त को किस बात का चिन्ह माना गया था?
“फिर मैं ने उनके लिये अपने विश्रामदिन ठहराए जो मेरे और उनके बीच चिन्ह ठहरें; कि वे जानें कि मैं यहोवा उनका पवित्र करने वाला हूँ।” (यहेजकेल 20:12)।

16.भौतिक ब्रह्मांड किसके माध्यम से टिका हुआ है?
“और वही सब वस्तुओं में प्रथम है, और सब वस्तुएं उसी में स्थिर रहती हैं।” (कुलुसियों 1:17)।

17.कौन-सा कथन दिखाता है कि सभी चीज़ें, भौतिक और आत्मिक दोनों, एक ही निजी संस्था द्वारा पोषित हैं?
“तौभी हमारे निकट तो एक ही परमेश्वर है: अर्थात पिता जिस की ओर से सब वस्तुएं हैं, और हम उसी के लिये हैं, और एक ही प्रभु है, अर्थात यीशु मसीह जिस के द्वारा सब वस्तुएं हुईं, और हम भी उसी के द्वारा हैं।” (1 कुरीं 8:6)।

18.परमेश्वर महिमा और आदर पाने के योग्य क्यों है?
“कि हे हमारे प्रभु, और परमेश्वर, तू ही महिमा, और आदर, और सामर्थ के योग्य है; क्योंकि तू ही ने सब वस्तुएं सृजीं और वे तेरी ही इच्छा से थीं, और सृजी गईं॥” (प्रकाशितवाक्य 4:11)।

ध्यान दें:- सृष्टि का वह तुलनात्मक रूप से आधुनिक दृष्टिकोण जिसे क्रम-विकासवाद के रूप में जाना जाता है, जो ईश्वरीय  प्रकाशन के बजाय मानव खोज पर आधारित है, और जो एक व्यक्तिगत निर्माता के लिए एक व्यक्तित्वहीन शक्ति को प्रतिस्थापित करता है, सुसमाचार की पक्की नींव को ही उलट देता है। छुटकारा केवल नई सृष्टि है, और सृष्टिकर्ता उद्धारक है, मूल सृष्टि का मुखिया नई सृष्टि का मुखिया है। मूल सृष्टि मसीह के वचन की शक्ति के द्वारा गढ़ी गई थी; नई सृष्टि, या छुटकारा, ठीक उसी तरह से गढ़े गए है। सृष्टि के क्रम-विकासवादी सिद्धांत में अनिवार्य रूप से सुसमाचार का एक क्रम-विकासवादी सिद्धांत शामिल है, और पाप से संबंधित सच्चाई, मसीह के प्रायश्चित बलिदान, और मसीह की बचाने वाली शक्ति में विश्वास के माध्यम से नए प्राणी बनने की आवश्यकता को अलग करता है।

ध्यान दें: निम्नलिखित पद्यांश अंग्रेजी भाषा का एक भजन है!

हे राजा की उपासना करो, जो सबसे ऊपर महिमावान है,
और कृतज्ञतापूर्वक उसका अद्भुत प्रेम गाओ;
हमारी ढाल और रक्षक, प्राचीन काल,
भव से ओतप्रोत, और स्तुति से घेरा हुआ!

हे उसकी शक्ति के बारे में बताओ, और उसकी कृपा गाओ,
जिसका वस्त्र उजियाला है; जिसका छत्र, स्थान;
उसके क्रोध के रथ गहरे गड़गड़ाहट-बादलों का रूप लेते हैं,
और तूफान के पंखों पर उसका मार्ग अंधकारमय है!

आपकी भरपूर देखभाल, कौन सी जीभ पढ़ सकती है?
वह हवा में सांस लेता है, वह प्रकाश में चमकता है;
यह पहाड़ियों से बहती है, यह मैदान में उतरती है,
और ओस और बारिश में मधुरता से घुल जाता है,

मिट्टी के दुर्बल बच्चे, और दुर्बल के रूप में शक्तिहीन;
हम तुझ पर भरोसा करते हैं, और न ही तुझे असफल पाते हैं;
तेरी दया, कितनी कोमल! अंत तक कितना दृढ़!
हमारे निर्माता, रक्षक, मुक्तिदाता, और मित्र!

(रॉबर्ट ग्रांट)

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)