(84) उल्लंघनता के लिए दंड

उल्लंघनता के लिए दंड

1. पाप की मजदूरी क्या है?
“क्योंकि पाप की मजदूरी तो मृत्यु है।” (रोमियों 6:23)।

2. परमेश्वर ने आदम और हव्वा से क्या कहा कि यदि वे उल्लंघन करेंगे, और वर्जित फल खाएंगे तो परिणाम क्या होगा?
“पर भले या बुरे के ज्ञान का जो वृक्ष है, उसका फल तू कभी न खाना: क्योंकि जिस दिन तू उसका फल खाए उसी दिन अवश्य मर जाएगा॥” (उत्पति 2:17)।

3. परमेश्वर किसे कहता है कि मरेगा?
“इसलिये जो प्राणी पाप करे वही मर जाएगा।” (यहेजकेल 18:4)।

4. दुनिया में मौत कैसे आई?
“इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, इसलिये कि सब ने पाप किया” (रोमियों 5:12)।

5. परमेश्वर ने पूर्व-बाढ़ दुनिया को क्यों नष्ट किया?
और यहोवा ने देखा, कि मनुष्यों की बुराई पृथ्वी पर बढ़ गई है, और उनके मन के विचार में जो कुछ उत्पन्न होता है सो निरन्तर बुरा ही होता है। और यहोवा पृथ्वी पर मनुष्य को बनाने से पछताया, और वह मन में अति खेदित हुआ। तब यहोवा ने सोचा, कि मैं मनुष्य को जिसकी मैं ने सृष्टि की है पृथ्वी के ऊपर से मिटा दूंगा; क्या मनुष्य, क्या पशु, क्या रेंगने वाले जन्तु, क्या आकाश के पक्षी, सब को मिटा दूंगा क्योंकि मैं उनके बनाने से पछताता हूं।” (उत्पति 6: 5-7)।

6. जबकि परमेश्वर दयालु है, क्या यह दोषियों को बरी कर देता है?
“कि यहोवा कोप करने में धीरजवन्त और अति करूणामय है, और अधर्म और अपराध का क्षमा करनेवाला है, परन्तु वह दोषी को किसी प्रकार से निर्दोष न ठहराएगा, और पूर्वजों के अधर्म का दण्ड उनके बेटों, और पोतों, और परपोतों को देता है।” (गिनती 14:18; निर्गमन 34:5-7 यह भी देखें)।

7. जानबूझकर किए गए पाप का नतीजा क्या होता है?
26 क्योंकि सच्चाई की पहिचान प्राप्त करने के बाद यदि हम जान बूझ कर पाप करते रहें, तो पापों के लिये फिर कोई बलिदान बाकी नहीं।
27 हां, दण्ड का एक भयानक बाट जोहना और आग का ज्वलन बाकी है जो विरोधियों को भस्म कर देगा।” (इब्रानियों 10:26,27)।

8. धर्मतन्त्र के अधीन, विद्रोही या जानबूझकर उल्लंघन करने वालों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता था?
“जब कि मूसा की व्यवस्था का न मानने वाला दो या तीन जनों की गवाही पर, बिना दया के मार डाला जाता है।” (पद 28)।

9. जो अनुग्रह के साधनों को तुच्छ जानते हैं, उनका क्या इंतजार है?
“तो सोच लो कि वह कितने और भी भारी दण्ड के योग्य ठहरेगा, जिस ने परमेश्वर के पुत्र को पांवों से रौंदा, और वाचा के लोहू को जिस के द्वारा वह पवित्र ठहराया गया था, अपवित्र जाना है, और अनुग्रह की आत्मा का अपमान किया” (पद 29)।

10. क्या प्रतिशोध को अंजाम देना सुसमाचार के सेवकों का कर्तव्य है?
“सो हम मसीह के राजदूत हैं; मानो परमेश्वर हमारे द्वारा समझाता है: हम मसीह की ओर से निवेदन करते हैं, कि परमेश्वर के साथ मेल मिलाप कर लो।” (2 कुरीं 5:20; 2 तीमुथियुस 2: 24-26 देखें)।

11. प्रतिशोध किससे संबंधित है?
“हे प्रियो अपना पलटा न लेना; परन्तु क्रोध को अवसर दो, क्योंकि लिखा है, पलटा लेना मेरा काम है, प्रभु कहता है मैं ही बदला दूंगा।” (रोमियों 12:19)।

12. न्याय का निष्पादन किसके लिए किया गया है?
26 क्योंकि जिस रीति से पिता अपने आप में जीवन रखता है, उसी रीति से उस ने पुत्र को भी यह अधिकार दिया है कि अपने आप में जीवन रखे।
27 वरन उसे न्याय करने का भी अधिकार दिया है, इसलिये कि वह मनुष्य का पुत्र है।” (यूहन्ना 5:26,27; यहूदा 14,15 देखें)।

13. क्योंकि बुराई को तुरंत दंडित नहीं किया जाता है, अनेक लोग कौन-सा अभिमानपूर्ण मार्ग अपनाते हैं?
“बुरे काम के दण्ड की आज्ञा फुर्ती से नहीं दी जाती; इस कारण मनुष्यों का मन बुरा काम करने की इच्छा से भरा रहता है।” (सभोपदेशक 8:11)।

14. परमेश्वर ने अपने सेवकों को मनुष्यों को क्या संदेश देने के लिए नियुक्त किया है?
10 धर्मियों से कहो कि उनका भला होगा, क्योंकि उसके कामों का फल उसको मिलेगा।
11 दुष्ट पर हाय!उसका बुरा होगा, क्योंकि उसके कामों का फल उसको मिलेगा।” (यशायाह 3:10,11)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)