(77) इस्राएल की सभा

इस्राएल की सभा

1. आज्ञा न मानने के कारण, इस्राएल को क्या अनुभव हुआ?

“……..और मैं ऐसा करूंगा कि तुम पृथ्वी के राज्य राज्य में मारे मारे फिरोगे।” (यिर्मयाह 34:17; देखें यिर्मयाह 25:8-11)।

2. किस भविष्यद्वाणी ने बन्धुवाई से उनके लौटने की बात कही?
11 क्योंकि यहोवा की यह वाणी है, कि जो कल्पनाएं मैं तुम्हारे विषय करता हूँ उन्हें मैं जानता हूँ, वे हानी की नहीं, वरन कुशल ही की हैं, और अन्त में तुम्हारी आशा पूरी करूंगा।
12 तब उस समय तुम मुझ को पुकारोगे और आकर मुझ से प्रार्थना करोगे और मैं तुम्हारी सुनूंगा।
13 तुम मुझे ढूंढ़ोगे और पाओगे भी; क्योंकि तुम अपने सम्पूर्ण मन से मेरे पास आओगे।
14 मैं तुम्हें मिलूंगा, यहोवा की यह वाणी है, और बंधुआई से लौटा ले आऊंगा; और तुम को उन सब जातियों और स्थानों में से जिन में मैं ने तुम को बरबस निकाल दिया है, और तुम्हें इकट्ठा कर के इस स्थान में लौटा ले आऊंगा जहां से मैं ने तुम्हें बंधुआ करवा के निकाल दिया था, यहोवा की यही वाणी है।” (यिर्मयाह 29:11-14; देखें भी यिर्मयाह 23:3)।

टिप्पणी:-यहूदियों का पहला प्रसार 606-588 ईसा पूर्व में बाबुल के राजा नबूकदनेस्सर के अधीन हुआ। 457 ई.पू में, फारसी राजा, अर्तक्षत्र के अधीन, बड़ी संख्या में यहूदी अपनी मातृभूमि फिलिस्तीन लौट आए।

3. मूसा ने किस प्रकार एक और और बड़े फैलाव के बारे में कहा था?
49 यहोवा तेरे विरुद्ध दूर से, वरन पृथ्वी के छोर से वेग उड़ने वाले उकाब सी एक जाति को चढ़ा लाएगा जिसकी भाषा को तू न समझेगा;
50 उस जाति के लोगों का व्यवहार क्रूर होगा, वे न तो बूढ़ों का मुंह देखकर आदर करेंगे, और न बालकों पर दया करेंगे;
51 और वे तेरे पशुओं के बच्चे और भूमि की उपज यहां तक खा जांएगे कि तू नष्ट हो जाएगा; और वे तेरे लिये न अन्न, और न नया दाखमधु, और न टटका तेल, और न बछड़े, न मेम्ने छोड़ेंगे, यहां तक कि तू नाश हो जाएगा।
52 और वे तेरे परमेश्वर यहोवा के दिये हुए सारे देश के सब फाटकों के भीतर तुझे घेर रखेंगे; वे तेरे सब फाटकों के भीतर तुझे उस समय तक घेरेंगे, जब तक तेरे सारे देश में तेरी ऊंची ऊंची और दृढ़ शहरपनाहें जिन पर तू भरोसा करेगा गिर न जाएं।
53 तब घिर जाने और उस सकेती के समय जिस में तेरे शत्रु तुझ को डालेंगे, तू अपने निज जन्माए बेटे-बेटियों का मांस जिन्हें तेरा परमेश्वर यहोवा तुझ को देगा खाएगा।
54 और तुझ में जो पुरूष कोमल और अति सुकुमार हो वह भी अपने भाई, और अपनी प्राणप्यारी, और अपने बचे हुए बालकों को क्रूर दृष्टि से देखेगा;
55 और वह उन में से किसी को भी अपने बालकों के मांस में से जो वह आप खाएगा कुछ न देगा, क्योंकि घिर जाने और उस सकेती में, जिस में तेरे शत्रु तेरे सारे फाटकों के भीतर तुझे घेर डालेंगे, उसके पास कुछ न रहेगा।
56 और तुझ में जो स्त्री यहां तक कोमल और सुकुमार हो कि सुकुमारपन के और कोमलता के मारे भूमि पर पांव धरते भी डरती हो, वह भी अपने प्राणप्रिय पति, और बेटे, और बेटी को,
57 अपनी खेरी, वरन अपने जने हुए बच्चों को क्रूर दृष्टि से देखेगी, क्योंकि घिर जाने और सकेती के समय जिस में तेरे शत्रु तुझे तेरे फाटकों के भीतर घेरकर रखेंगे, वह सब वस्तुओं की घटी के मारे उन्हें छिप के खाएगी।
58 यदि तू इन व्यवस्था के सारे वचनों के पालने में, जो इस पुस्तक में लिखें है, चौकसी करके उस आदरनीय और भययोग्य नाम का, जो यहोवा तेरे परमेश्वर का है भय न माने,
59 तो यहोवा तुझ को और तेरे वंश को अनोखे अनोखे दण्ड देगा, वे दुष्ट और बहुत दिन रहने वाले रोग और भारी भारी दण्ड होंगे।
60 और वह मिस्र के उन सब रोगों को फिर तेरे ऊपर लगा देगा, जिन से तू भय खाता था; और वे तुझ में लगे रहेंगे।
61 और जितने रोग आदि दण्ड इस व्यवस्था की पुस्तक में नहीं लिखे हैं, उन सभों को भी यहोवा तुझ को यहां तक लगा देगा, कि तू सत्यानाश हो जाएगा।
62 और तू जो अपने परमेश्वर यहोवा की न मानेगा, इस कारण आकाश के तारों के समान अनगिनित होने की सन्ती तुझ में से थोड़े ही मनुष्य रह जाएंगे।
63 और जैसे अब यहोवा की तुम्हारी भलाई और बढ़ती करने से हर्ष होता है, वैसे ही तब उसको तुम्हें नाश वरन सत्यानाश करने से हर्ष होगा; और जिस भूमि के अधिकारी होने को तुम जा रहे हो उस पर से तुम उखाड़े जाओगे।
64 और यहोवा तुझ को पृथ्वी के इस छोर से ले कर उस छोर तक के सब देशों के लोगों में तित्तर बित्तर करेगा; और वहां रहकर तू अपने और अपने पुरखाओं के अनजाने काठ और पत्थर के दूसरे देवताओं की उपासना करेगा।” (व्यवस्थाविवरण 28:49-64)।

टिप्पणी:-यह आपदा और प्रसार 70 ई. में, रोमन सेनापति टाइटस के अधीन हुआ। पॉपुलर एंड क्रिटिकल बाइबल इनसाइक्लोपीडिया, वॉल्यूम कहते हैं। II, लेख “यरूशलेम,” पृष्ठ 932: “यरूशलेम को इस महानता के लिए उठाया गया लगता है जैसे कि इसे उखाड़ फेंकने के दुख को बढ़ाने के लिए। इसलिए जैसे ही यहूदियों ने मसीह की औपचारिक अस्वीकृति पर मुहर लगा दी, उसे मौत के घाट उतार दिया, और अपने और अपने बच्चों के सिर पर उसके खून की जिम्मेदारी का आह्वान किया (मत्ती 27:25), शहर का विनाश बढ़ता चला गया। टाइटस, एक युवा, बहादुर और सक्षम रोमन सेनापति, साठ हजार प्रशिक्षित, विजयी योद्धाओं की सेना के साथ, अप्रैल, 70 ईस्वी में शहर के सामने पेश हुआ, और पूरे इतिहास की सबसे विनाशकारी घेराबंदी शुरू हुई। इस पुस्तक के अध्याय 68 में पढ़ना देखें।

4. यह सब किस उल्लेखनीय चिन्ह के तहत पूर्वबताया गया था?
“यहोवा ने यों कहा, तू जा कर कुम्हार से मिट्टी की बनाई हुई एक सुराही मोल ले, और प्रजा के कुछ पुरनियों में से और याजकों में से भी कुछ प्राचीनों को साथ ले कर,
हिन्नोमियों की तराई की ओर उस फाटक के निकट चला जा जहां ठीकरे फेंक दिए जाते हैं; और जो वचन मैं कहूं, उसे वहां प्रचार कर।
तू यह कहना, हे यहूदा के राजाओं और यरूशलेम के सब निवासियों, यहोवा का वचन सुनो। इस्राएल का परमेश्वर सेनाओं का यहोवा यों कहता है, इस स्थान पर मैं ऐसी विपत्ति डालने पर हूँ कि जो कोई उसका समाचार सुने, उस पर सन्नाटा छा जाएगा।
क्योंकि यहां के लोगों ने मुझे त्याग दिया, और इस स्थान में दूसरे देवताओं के लिये जिन को न तो वे जानते हैं, और न उनके पुरखा वा यहूदा के पुराने राजा जानते थे धूप जलाया है और इस को पराया कर दिया है; और उन्होंने इस स्थान को निर्दोषों के लोहू से भर दिया,
और बाल की पूजा के ऊंचे स्थानों को बना कर अपने लड़के-बालों को बाल के लिये होम कर दिया, यद्यपि मैं ने कभी भी जिसकी आज्ञा नहीं दी, न उसकी चर्चा की और न वह कभी मेरे मन में आया।
इस कारण यहोवा की यह वाणी है कि ऐसे दिन आते हैं कि यह स्थान फिर तोपेत वा हिन्नोमियों की तराई न कहलाएगा, वरन घात ही की तराई कहलाएगा।
और मैं इस स्थान में यहूदा और यरूशलेम की युक्तियों को निष्फल कर दूंगा; और उन्हें उनके प्राणों के शत्रुओं के हाथ की तलवार चलवा कर गिरा दूंगा। उनकी लोथों को मैं आकाश के पक्षियों और भूमि के जीवजन्तुओं का आहार कर दूंगा।
और मैं इस नगर को ऐसा उजाड़ दूंगा कि लोग इसे देख कर डरेंगे; जो कोई इसके पास से हो कर जाए वह इसकी सब विपत्तियों के कारण चकित होगा और घबराएगा।
और घिर जाने और उस सकेती के समय जिस में उनके प्राण के शत्रु उन्हें डाल देंगे, मैं उनके बेटे-बेटियों का मांस उन्हें खिलाऊंगा और एक दूसरे का भी मांस खिलाऊंगा।
10 तब तू उस सुराही को उन मनुष्यों के साम्हने तोड़ देना जो तेरे संग जाएंगे,
11 और उन से कहना, सेनाओं का यहोवा यों कहता है कि जिस प्रकार यह मिट्टी का बासन जो टूट गया कि फिर बनाया न जा सके, इसी प्रकार मैं इस देश के लोगों को और इस नगर को तोड़ डालूंगा। और तोपेत नाम तराई में इतनी कब्रें होंगी कि क़ब्र के लिये और स्थान न रहेगा। (यिर्मयाह 19:1-11)।

टिप्पणी:- “विश्व के किसी भी शहर को यरूशलेम से ज्यादा युद्ध और घेराबंदी का सामना नहीं करना पड़ा है। . . . तूफानी टुकड़ियों, युद्ध-मेढ़ों और गुलेल ने इसे बार-बार धराशायी कर दिया है। और फिर भी, शहर की सामान्य रूपरेखा को हमेशा संरक्षित रखा गया है। ओलिवेट से सिय्योन और पर्वत मोरिया पूरे दृश्य में रहते हैं, और वहाँ, उन पहाड़ियों पर, जो पश्चिम की ओर फैली हुई हैं, बीतते युगों में शहर-शहर आते-जाते रहे हैं। “-लोकप्रिय और महत्वपूर्ण बाइबिल विश्वकोश, वॉल्यूम II, लेख “यरूशलेम,” पृष्ठ 928, 929।

5. यरूशलेम को अन्यजातियों के द्वारा कब तक रौंदा जाना था?
“वे तलवार के कौर हो जाएंगे, और सब देशों के लोगों में बन्धुए होकर पहुंचाए जाएंगे, और जब तक अन्य जातियों का समय पूरा न हो, तब तक यरूशलेम अन्य जातियों से रौंदा जाएगा।” (लूका 21:24)।

टिप्पणी: -यरूशलेम लोगों, सच्चाई और ईश्वर की सच्ची उपासना के लिए स्थिर है। इसका उल्लेख सबसे पहले बाइबल में सलेम के रूप में किया गया है (उत्पति 14:18); लाक्षणिक रूप से एक माँ के रूप में कहा गया है जो परमेश्वर के बच्चों को जन्म देती है (गलतियों 4:26,27); और एक प्रकार का पवित्र नगर, नया यरूशलेम है, जिसे नई पृथ्वी का महानगर होना है। प्रकाशितवाक्य 11:2 में इसे 1260 वर्षों के पोप-अधीन उत्पीड़न की लंबी अवधि के दौरान परमेश्वर के लोगों के एक प्रकार के रूप में प्रयोग किया जाता है, जिन्हें वहां “पवित्र नगर” कहा जाता है, जिसे अन्यजाति “बयालीस महीने पैरों के तले रौंदेंगी।”

6. अन्यजातियों को दिए गए “समयों” को क्या समाप्त कर देगा?
“और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा॥” (मत्ती 24:14)।

7. अन्यजातियों को सुसमाचार क्यों सुनाया जाना था?
“हे भाइयो, मेरी सुनो: शमौन ने बताया, कि परमेश्वर ने पहिले पहिल अन्यजातियों पर कैसी कृपा दृष्टि की, कि उन में से अपने नाम के लिये एक लोग बना ले।” (प्रेरितों के काम 15:14)।

8. कुछ लोगों को इस एकत्रण के बारे में कौन-सा झूठा विचार रखना था?
“और बहुत जातियों के लोग जाएंगे, और आपस में कहेंगे, आओ, हम यहोवा के पर्वत पर चढ़कर, याकूब के परमेश्वर के भवन में जाएं; तब वह हम को अपने मार्ग सिखाएगा, और हम उसके पथों पर चलेंगे। क्योंकि यहोवा की व्यवस्था सिय्योन से, और उसका वचन यरूशलेम से निकलेगा।” (मीका 4:2)।

9. वह किन अन्यजातियों के लिए फिलिस्तीन में इकट्ठा होगा?
12 जाति जाति के लोग उभर कर चढ़ जाएं और यहोशापात की तराई में जाएं, क्योंकि वहां मैं चारों ओर की सारी जातियों का न्याय करने को बैठूंगा॥
13 हंसुआ लगाओ, क्योंकि खेत पक गया है। आओ, दाख रौंदो, क्योंकि हौज़ भर गया है। रसकुण्ड उमण्डने लगे, क्योंकि उनकी बुराई बहुत बड़ी है॥
14 निबटारे की तराई में भीड़ की भीड़ है! क्योंकि निबटारे की तराई में यहोवा का दिन निकट है।” (योएल 3: 12-14)।

10. राष्ट्रों को किसके प्रभाव में इकट्ठा किया जाना है?
13 और मैं ने उस अजगर के मुंह से, और उस पशु के मुंह से और उस झूठे भविष्यद्वक्ता के मुंह से तीन अशुद्ध आत्माओं को मेंढ़कों के रूप में निकलते देखा।
14 ये चिन्ह दिखाने वाली दुष्टात्मा हैं, जो सारे संसार के राजाओं के पास निकल कर इसलिये जाती हैं, कि उन्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उस बड़े दिन की लड़ाई के लिये इकट्ठा करें।” (प्रकाशितवाक्य 16:13,14)।

टिप्पणी:- दुनिया के परिवर्तन के सिद्धांत और मनुष्यों के बीच शांति, समृद्धि और सामंजस्य की एक अस्थायी सहस्राब्दी से प्रभावित, भ्रमित राष्ट्र यरूशलेम को एक शानदार राज्य का केंद्र बनाने का लक्ष्य रखेंगे, जिस स्थान पर वे निस्संदेह उम्मीद करेंगे कि मसीह आएंगे और उसके महिमामय राज्य में उसे अपना राजा मानेगें। यह अंधकार युग में धर्म-योद्धाओं का पसंदीदा विचार था। लेकिन धर्मयोद्धाओं ने अपने धारणा में गलती की, और बुरी तरह निराश हुए। तो क्या आधुनिक धर्म-योद्धा भी गलत और निराश होंगे; क्योंकि मसीह के दूसरे आगमन का एक उद्देश्य “अन्यजातियों को मारना” और इकट्ठी हुई इन सेनाओं को नष्ट करना होगा। (प्रकाशितवाक्य19:15)।

11. परमेश्वर के लोगों को किसके पास इकट्ठा किया जाना है?
“जब तक शीलो न आए तब तक न तो यहूदा से राजदण्ड छूटेगा, न उसके वंश से व्यवस्था देनेवाला अलग होगा; और राज्य राज्य के लोग उसके आधीन हो जाएंगे॥” (उत्पति 49:10)।

12. मसीह ने अन्यजातियों के इकठ्ठा होने के बारे में कैसे कहा?
“और मेरी और भी भेड़ें हैं, जो इस भेड़शाला की नहीं; मुझे उन का भी लाना अवश्य है, वे मेरा शब्द सुनेंगी; तब एक ही झुण्ड और एक ही चरवाहा होगा।” (यूहन्ना 10:16)।

13. परमेश्वर के लोगों के लिए कौन-सी बड़ी एकत्रण अभी बाकी है?
11 उस समय प्रभु अपना हाथ दूसरी बार बढ़ा कर बचे हुओं को, जो उसकी प्रजा के रह गए हैं, अश्शूर से, मिस्र से, पत्रोस से, कूश से, एलाम से, शिनार से, हमात से, और समुद्र के द्वीपों से मोल ले कर छुड़ाएगा।
12 वह अन्यजातियों के लिये जण्ड़ा खड़ा कर के इस्राएल के सब निकाले हुओं को, और यहूदा के सब बिखरे हुओं को पृथ्वी की चारों दिशाओं से इकट्ठा करेगा।” (यशायाह 11:11,12)।
31 और वह तुरही के बड़े शब्द के साथ, अपने दूतों को भेजेगा, और वे आकाश के इस छोर से उस छोर तक, चारों दिशा से उसके चुने हुओं को इकट्ठे करेंगे।” (मत्ती 24:31)।

This post is also available in: English (अंग्रेज़ी)